Transgenders
Shutterstock/CRS PHOTO

ट्रांसजेंडर में किशोरावस्था: मुख्य तथ्य

द्वारा Harish P मई 13, 04:12 बजे
मुंह पर मुंहासों का आना, स्तनों और शरीर के बालों का विकास होना, माहवारी और हस्तमैथुन की शुरुआत होना अधिकांश लड़कों और लड़कियों में किशोरावस्था का संकेत हैI लेकिन विपरीतलिंगी व्यक्ति में इसका अनुभव क्या होता है?
किशोरावस्था असल में है क्या?

यह जीवन का वो चरण होता है जब एक व्यक्ति यौन रूप से परिपक्व होना शुरू होता है। महिलाओं के लिए यह 12 से 16 वर्ष की उम्र में होता है और पुरुषों के लिए 10 और 14 साल के बीच मेंI किशोरावस्था में शारीरिक और भावनात्मक, दोनों बदलाव होते हैंI जैविक रूप से कहें तो यह वो समय है जब प्रजनन अंगों के विकास की वजह से शरीर में प्रजननशीलता विकसित होनी शुरू होती है।

किशोरावस्था में शरीर में क्या बदलाव होते हैं?

जननांगों के विकास और उनके आकार में वृद्धि होने के अलावा, किशोरावस्था या यौवन की वजह से शरीर में कुछ अतिरिक्त बदलाव भी होते हैंI इन अतिरिक्त बदलावों का कारण होते हैं 'सेक्स-हार्मोन' (पुरुषों के लिए टेस्टोस्टेरोन और महिलाओं के लिए एस्ट्रोजेन)I एक पुरुष के शरीर में टेस्टोस्टेरोन की वजह से आमतौर पर उसकी मांसपेशियों में वृद्धि होती है, उसकी आवाज़ में भारीपन आता है, चेहरे पर बाल आने शरू होते हैं और अंडकोष और शिश्न का साइज़ बढ़ता हैI

महिलाओं में, किशोरावस्था के सामान्य लक्षण हैं - स्तनों का विकास, बगलों और जघन क्षेत्र में बालों का आना और माहवारी की शुरुआतI यद्यपि ये किशोरावस्था की शुरुआत का संकेत करने वाले कुछ उत्कृष्ट लक्षण हैं लेकिन यहाँ यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि कई लड़के और लड़कियां ऐसे भी हैं जो इनमे से कुछ या किन्हीं भी परिवर्तनों का अनुभव नहीं करते हैंI

ट्रांसजेंडर व्यक्ति के लिए किशोरवस्था का क्या अर्थ है?

ट्रांसजेंडर लोग अपने आपको उस लिंग के साथ नहीं जोड़ पाते जिसके साथ उनका जन्म हुआ होता हैI इसका मतलब यह है कि वे उस लिंग के विपरीत लिंग की तरह रहना और कपड़े पहनना पसंद करते हैंI वे जैविक रूप से अपना लिंग परिवर्तित करने पर भी ज़ोर देते हैं। अगर इन मतभेदों को नज़रअंदाज़ कर भी दिया जाए तो भी एक ट्रांसजेंडर के लिए, यौवन की शुरुआत उन लोगों की तुलना में अधिक जटिलताओं से भरी होती हैं जो लोग उस लिंग के साथ ही अपनी पहचान करते हैं जिसके साथ उनका जन्म हुआ थाI

इन जटिलताओं से उत्पन्न होने वाले तनाव की वजह से ट्रांसजेंडर व्यक्ति 'जेंडर डिस्फोरिया' का अनुभव करता हैI इस स्थिति में शरीर और दिमाग के बीच में हमेशा एक असुविधानक सम्बन्ध बना रहता हैI यही कारण है कि कुछ ट्रांसजेन्डर किशोरावस्था में यौवन-अवरोधन की प्रक्रिया का सहारा लेते हैंI मतलब यह कि वो शरीर में होने वाले उन बदलावों को रोकने का प्रयास करते हैं जिनकी पहचान वे अपने लिंग (वो लिंग जिसके साथ वो अपने आपको जोड़ते हैं ना कि वो जिसके साथ उनका जन्म हुआ होता है) के साथ नहीं कर पाते हैंI

ट्रांसमेन किशोरावस्था में कैसा अनुभव करते हैं?

ट्रांसमेन वे लोग हैं जो महिला के रूप में पैदा होते हैं (योनि के साथ), लेकिन वो सोचते भी पुरुषों के तरह हैं और महसूस भी उन्हीं की तरह करते हैंI किशोरावस्था अपने साथ मासिक धर्म और स्तन विकास जैसे असुविधाजनक परिवर्तन लेकर आती है जो उन्हें स्त्रीत्व का वो अनुभव देते हैं जो उन्हें पहले कभी नहीं हुआ होताI उदाहरण के लिए, सैनिटरी नैपकिन का उपयोग करना एक ट्रांसमेन के लिए शर्मिंदगी भरा हो सकता है क्योंकि यह उस लिंग का एक और अनुस्मारक होता है जिससे वो मेल नहीं खातेI

कभी-कभी, मासिक धर्म और किशोरावस्था के दौरान हुए परिवर्तनों की विशिष्टता को कम करने के लिए लिया जाने वाला हार्मोनल उपचार ऐसी जटिलताओं को जन्म दे सकता है जिससे गर्भाशय या अन्य अंगों को पूरी तरह से हटाने की आवश्यकता हो सकती है।

किशोरावस्था के दौरान ट्रांसवुमेन होने का संघर्ष

ट्रांसवुमेन वे लोग हैं जो पुरुष के रूप में पैदा होते हैं (शिश्न के साथ), लेकिन वो सोचते भी महिलाओं की तरह हैं और महसूस भी उन्ही की तरह करते हैंI लिंग का खड़ा होना, उससे वीर्य का निकलना और शरीर पर बाल आने जैसे कुछ ऐसे बदलाव हैं जो एक ट्रांसवुमेन के लिए असुविधाजनक हो सकते हैंI किशोरवस्था से होने वाले तनाव की वजह से एक ट्रांसवुमेन बेहद अकेलापन और निराशा का अनुभव कर सकती हैं और उससे निपटने के लिए नशीली दवाओं का इस्तेमाल, खुद को नुकसान पहुंचाना, सीआईएस-महिलाओं से ईर्ष्या करना जैसे हानिकारक तरीकों की मदद ले सकती हैंI

ट्रांसजेंडर के लिए दूसरा यौवन क्या मायने रखता है?

दूसरा यौवन उन ट्रान्स लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है, जो उस लिंग में अपना लिंग परिवर्तन करने के लिए हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (एचआरटी) करवाते हैं जिससे वे मेल खाते हैंI यह वो अनुभव है जो वो ट्रांसजेंडर व्यक्ति हमेशा से चाहता था लेकिन उसे वो अनुभव कभी नहीं हुआI इस दौरान उसके शरीर में टेस्टोस्टेरोन और एस्ट्रोजेन जैसे सेक्स हार्मोन उत्पन्न होने शुरू होते हैं जिनका परिणाम तनावपूर्ण और अप्रत्याशित हो सकता हैI

दूसरी किशोरावस्था भी हालांकि मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तनों से भरी होती है लेकिन असल में यह भी पहली बार की ही तरह जटिल हो सकता है। जो व्यक्ति महिला से पुरुष (एफ 2 एम) को बदलने के लिए हार्मोन ले रहे होते हैं उनमें,आवाज़ का भारी होना, शरीर में चर्बी का पुनर्वितरण, शरीर और चेहरे पर बालों का होना जैसे परिवर्तन होते हैंI लेकिन महिला प्रजनन अंगों को हटाने में हार्मोन मदद नहीं करते और उन्हें शल्यचिकित्सा से हटाया जाता हैI

पुरुष से महिला (एम 2 एफ) ट्रांसजेन्डर लोगों के मामले में, उनके द्वारा लिए गए हार्मोन शरीर के बाल कम करते हैं और स्तनों के विकास की शुरुआत करते हैंI हार्मोन आवाज या चेहरे के बालों को बदलने के लिए कुछ नहीं करते हैंI टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन को रोकने के लिए, एक बार फ़िर शल्यचिकित्सा की मदद से अंगो को हटाया जाता हैI

*तस्वीर के लिए मॉडल का इस्तेमाल हुआ है. यह लेख पहली बार 9 अप्रैल, 2018 को प्रकाशित हुआ था।

क्या शरीर में होने वाले बदलावों के बारे में आपके पास कोई प्रश्न हैं? हमारे फेसबुक पेज पर लव मैटर्स (एलएम) से पूछें या हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से बात करें।

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
Not really Beta. Uske liye aapko har taraf se ""moti"" hona hoga - weight gain hee madad kar sakta hai LEKIN aap koi achchi smart bra ka use kar saktee hain jo ki aapko ek achchi feeling aur look de. Kya khayaal hai? Yadi aap is mudde par humse aur gehri charcha mein judna chahte hain to hamare discussion board “Just Poocho” mein zaroor shamil ho! https://lovematters.in/en/forum
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>