Gay couple
© Love Matters

दृष्टिकोण एवं कानून

यह कहना काफी कम होगा की विश्व के विभिन्न भागों में समलैंगिकताको लेकर विभिन्न नज़रिए हैं। समलैंगिकता को लेकर लोगों के सांस्कृतिक एवं निजी नज़रिए बहुत पृथक हैं। कुछ लोग, सामान्यतः धार्मिक या परंपरागत कारणों से समलैंगिकता को शर्मनाक या पाप मानते हैं। समलैंगिक लोगों को पूर्वाग्रह एवं भेदभाव, घृणा एवं हिंसा का सामना करना पड़ सकता हैं।

दूसरी ओर, पूरे दुनिया में बहुत सारे लोग समलैंगिकता को सामान्य जीवन का एक हिस्सा मानते हैं। उनका मानना है की गे एवं लेस्बियन लोग भी विषमलैंगिक लोगों की तरह सम्मान के अधिकारी हैं।

समलैंगिकता एवं कानून

कानून समलैंगिकता के साथ कैसे व्यवहार करता है, इसमें भी पूरे विश्व में बहुत मतभेद है।

उदाहरण के लिए नेदरलैंड्स में समलैंगिक युगल विषमलैंगिक जोड़ों की तरह ही शादी कर सकते हैं। इस समय पूरे fo’o में केवल 9 देशों में ही यह संभव है। इनमें से ज़्यादातर युरोप में हैं पर इनमें कैनेडा एवं दक्षिणी अफ्रीका भी सम्मिलित हैं। कई अन्य देशों में समलैंगिकता के लिए विवाह के अलावा कुछ अन्य प्रमाणिक रुप हैं।
दूसरी ओर, अफ्रीका एवं मध्य पूर्व में ऐसे भी देश हैं जहाँ समलैंगिकता पूरी तरह गैरकानूनी है। जिन लोगों को समलैंगिक संबंध का दोषी पाया जाता है उन्हें कारावास या मार पीट सहनी पड़ सकती है। सुडान एवं इरान जैसे देशों में तो मृत्यु दण्ड का सामना करना पड़ सकता है।

Just Poocho Banner

आप जहाँ रहते हैं वहाँ का कानून समलैंगिकता को किस नज़रिए से देखता है? यह आप मानवाधिकार समूह एमनेस्टी इंटरनैशनल की मदद से लेस्बियन, गे, द्वीलिंगी, लिंग परिवर्तित लोगों (एल जी बी टी ) की पूरे विश्व में कानूनी स्थिति पर क्लिक करके जान सकते हैं।

Comments
Add new comment

Comment

  • Allowed HTML tags: <a href hreflang>