शादी

विवाह दो लोगों का औपचारिक या कानूनी मिलान हैI आम तौर पर जब दो लोग शादी करते हैं, तो वे इस अवसर को एक विवाह समारोह के साथ मनाते हैं। हालांकि एक वैवाहिक रिश्ते को लम्बे समय तक चलने और सफ़ल बनाने के लिए मेहनत करनी पड़ती हैI इस खंड में शादी के बाद के जीवन के बारे में अधिक जानें

तथ्य

शादी के कारण

यह तो हम सभी ने सुना है की "जोड़ियां स्वर्ग में बनती हैं" (यह बात अलग है कि उसके साथ लोग यह भी कहते हैं कि "....नीचे धरती पर टूटने के लिए")I विश्व के कई समुदायों में शादी को दो लोगों के बीच में धार्मिक बंधन माना जाता हैI

आपके विवाहित जीवन में सेक्स

जैसे -जैसे आपकी शादी के कई साल गुज़रते है, वैसे ही आपका सेक्स (यौन) जीवन नीरस हो सकता है। सेक्स आपको लिए एक दिनचर्या की तरह हो सकता है। आप माने या ना माने सेक्स उबाऊ हो सकता है।

परिवार की शुरुवात करना:

हम में से अधिकतर के लिए, शादी के बाद अगला तार्किक कदम बच्चे और परिवार की शुरुवात करना हैI हो सकता है आप दोनों जल्द ही बच्चों के बारे में और परिवार के रूप में एक अच्छे जीवन की शुरुवात करने के सपने देख रहे हैI

क्या आप शादी की योजना बना रहे हैं?

शादी की योजना बनाना और उससे जुडी हर बात बेहद रोमांचक होती है - यह सपने की तरह होती हैं। नए कपडे, शॉपिंग तथा परिवार और दोस्तों के साथ बिताये गए हंसी-मज़ाक के पल आपका ध्यान इस बात से हटा सकती है कि शादी एक गंभीर विषय है। क्या आप इसमें (शादी) सही कारणों से हैं?

अरेंज्ड मैरिज

अरेंज्ड मैरिज (Arranged Marriage) के लिए कोई एक नुस्खा या नियम नहीं है, यह आपके परिवार की पृष्ठभूमि पर निर्भर करता है। कुछ संस्कृतियों में, लड़का या लड़की की विवाह योग्य उम्र होने पर उनके माता -पिता, रिश्तेदार या शादी तय करने वाला व्यक्ति, उसके लिए भावी साथी कि तलाश करते है।

लव मैरिज - माता-पिता और रिश्तेदारों से कैसे निपटें!

जिन संस्कृतियों में प्रेम विवाह को एक आदर्श माना जाता है,वहां आम तौर पर एक प्रेमी शादी का प्रस्ताव रखता है और दूसरा उस प्रस्ताव को स्वीकारता(मानता)या नकारता(ठुकराता) हैI कुछ लोग अपने विवाह के प्रस्ताव की योजना और कार्यक्रम को बनाने में बहुत अधिक प्रयास और सोच विचार करते हैं वहीं कुछ लोग ज़्यादा सोचने-विचारने में विश्वास नहीं रखते और सहज ही विवाह का प्रस्ताव रख देते हैंI

शादी में परेशानी (परेशान/ अशांत शादी):-

शादी एक आसान सफर की तरह नहीं होती है। कभी - कभी इसमें कुछ परेशानियाँ (गड़बड़ ) हो जाती है। प्रत्येक शादी की अपनी परेशानियाँ होती है,जो की कई मुद्दों के कारण पैदा होती है।

तलाक :-

केवल 'तलाक़' शब्द सुनने से ही आपके शरीर में कंपकंपी छूट सकती है। यह एक डरावनी सम्भवना है। वैसे भी आपने अच्छे और बुरे समय में हमेशा एक दूसरे का साथ निभाने के वचन लिए हैं। हम में से अधिकतर अपनी बुरी शादी के बाद भी तलाक के बारे में सोचकर काँप उठते है।