प्यार एवं रिश्ते

आमतौर पर एक रिश्ते की शुरुआत तब होती है जब दो लोग एक दूसरे से प्यार करने लग जाते हैंI हो सकता हैं कि एक दूसरे को डेट करेंI किसी रिश्ते के सफ़ल होने का कोई एक फार्मूला नहीं है और ज़रूरी नहीं कि जो बात एक रिश्ते के लिए कारगर हो वो किसी और रिश्ते पर भी लागू होगीI लेकिन तब क्या होगा जब कुछ गलत हो जाये? इस बारे में यहाँ और पढ़ें

तथ्य

नए लोगों से कैसे मिलें और क्या बात करें

चाहे हम दिखने में कितने ही आत्मविश्वास से भरपूर और बातूनी लगे लेकिन अपरिचितों से बात करने में संघर्ष तो लगता ही हैI और यह संघर्ष परेशानी में बदल जाता है जब उस व्यक्ति को आप पसंद करने लगते हैं! यह हैं हमारे कुछ सुझाव नए लोगों से बात करने के लिए:

'मना' कैसे करें

कई बार आपको कुछ ऐसे लोग डेट पर चलने का निमंत्रण दे देते हैं जिन्हे आप उस नज़र से नहीं देखते हैंI तो बिना उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाएं उन्हें कैसे 'मना' करें? नीचे कुछ सुझाव दिए हैंI

सेक्स एवं इंटरनेट

लाखों लोग इंटरनेट पर गपशप (चैट) करना एवं नए लोगों से मिलना पसंद करते हैं। इस भाग में आप ऑनलाइन डेटिंग व चुहलबाज़ी के विभिन्न विषयों के बारे में पढ़ सकते हैं।

इंटरनेट पर प्यार

आप सामान्यतः उन लोगों के साथ ऑनलाइन चुहलबाज़ी करते हैं जिन्हें आप पहले से जानते हैं, शायद स्कूल, छुट्टियों या आपसी दोस्तों के माध्यम से। पर आप तब क्या करेंगें जब आपकी किसी से पहचान इंटरनेट पर ही हो?

डेट कैसे करें?

यदि आपको अपनी उम्मीद के अनुकूल जवाब मिले तो शायद उस व्यक्ति को मुलाकात के लिए बुलाना सही कदम होगा। मुलाकात कि पहल सिर्फ पुरुष करे ऐसा ज़रूरी नहीं है। महिला भी शुरुवात कर सकती हैं और इसमें शर्माने कि कोई बात नहीं।

प्यार क्या है?

प्यार एक गहरा और खुशनुमा एहसास है। जब किसी से प्यार होने लगता है तो रिश्ते की शुरवात में हम अक्सर सिर्फ सकारात्मक चीज़ें ही देखते हैं, और सातवे आसमान में महसूस करते हैं। ये एहसास इतना गहरा होता है की यदि हमें उस व्यक्ति से बदले में उतना ही प्यार न मिले तो काफी दुःख पहुँचता है।

मना करना या ‘‘ना’’ बोलना

ऐसा कुछ भी न करें जो आप नहीं करना चाहते हैं। ‘नहीं’ या ‘रुको’ कहने का साहस रखें, जिससे आपके सामने वाले व्यक्ति को पता चल जाए कि आपको ऐसा पसंद नहीं है। यह आम बात है कि सेक्स के दौरान ऐसा भी कुछ हो सकता है, जो आपको पसंद नहीं है। यदि ऐसा होता है तो रुकें और इस बारे में बात करें।

भावनाएं व्यक्त करना

चाहे आप कितने भी बड़े तीसमारखां क्यों ना हो, अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में आपको भी मुश्किल आती होगीI लेकिन अगर आप अपने साथी से अपने दिल की बात कह सकें तो यह आपके रिश्ते के लिए बहुत अच्छा होगाI यहाँ दे रहे हैं कुछ उपयोगी सुझाव जिनसे ना सिर्फ़ अपनी भावनाओं को समझ पाएंगे बल्कि उन्हें व्यक्त भी कर पाएंगे:

अपने साथी से कैसे बात करें

हर रिश्ते में उतार-चढ़ाव आते हैंI जब आप किसी के साथ बहुत सारा समय गुज़ारते हैं तो कई बातों को लेकर आपमें अनबन हो सकती हैI यह लड़ाई-झगड़े किसी भी रिश्ते का एक अभिन्न अंग हैI

रिश्तों के प्रकार

दुनिया में कई प्रकार के सम्बन्ध और उनसे जुडी अपेक्षाएं होती हैं। इसका कोई तय फार्मूला नहीं है। जिससे हमें ख़ुशी मिले हो सकता है किसी दूसरे को वही काम सही न लगे। तो अपने रिश्तों को इसी तरह मैनेज करें कि उनमे एक बैलेंस हो।

प्यार का बंधन

रिश्तों के मायने अलग लोगों केलिए अलग होते हैं। कुछ लोग सब कुछ अपने प्रेमी/प्रेमिका के साथ ही करना चाहते हैं, कुछ उनके साथ एक ही आंगन में रहना चाहते हैं और कुछ शादी करके जीवन भर के बंधन में बंध जेन कि इच्छा रखते हैं। कुछ लोग ऐसे भी हैं जो साथ रहने कि बजाई दूरियों में भी रिश्ता चलाकर खुश रहते हैं।

ईर्ष्या और अन्य समस्याएं

हर प्रेम कहानी का अंत सुखद हो, ऐसा ज़रूरी नहीं। ये कहना सही होगा कि लगभग हर रिलेशनशिप को कठनाइयों का दौर भी देखना पड़ता है। इनके अलग-अलग कारण हो सकते हैं। आइये ज़रा इस बारें में और चर्चा करें।

रिश्तों में अनबन

काफी ढूंढ़ने पर भी शायद ही आपको कोई ऐसा जोड़ा दिखेगा जिनके बीच में कभी न कभी नोंकझोंक या अनबन न हुई हो। हालाँकि ये नोंकझोंक सामान्य हैं, लेकिन इन पर ध्यान देना ज़रूरी है। अक्सर ये वो चिंगारियां होती हैं, जिन्हे नज़रअंदाज़ किया जाये तो आगे चलकर रिश्तों में आग का रूप भी ले सकती हैं।

धोखा

धोखा देने का अर्थ है वफ़ा के उन् नियमों का उलंघन जो आप दोनों ने बनाये थे अपने रिश्ते के लिए। आमतौर पर इसका सम्बन्ध अपने रिश्ते के होते हुए किसी और के साथ सेक्स सम्बन्ध या प्रेम सम्बन्ध बनाने से है। यदि आप ऐसा कर रहे हैं तो ये बेवफाई या धोखेबाजी है।

ब्रेकअप का सही समय

क्या आपको लगता है कि आप अपने रिश्ते को सलामत रखने का हर सम्भव प्रयास कर चुके हैं और असफल रहे हैं? क्या आप इस रिश्ते से थक चुके हैं? आपको रौशनी कि कोई किरण दिखायी नहीं देती? तो शायद इस रिश्ते को ख़त्म कर देने का समय आ चुका है।

अपने पूर्व प्रेमी/प्रेमिका के साथ दोस्ती

रिश्ता ख़त्म हो जाने के बाद एक बड़ा सवाल अक्सर होता है कि क्या अपने पूर्व साथी के साथ अभी भी दोस्त रेह सकते हैं? ये आप पर, आपके साथी पर और उन परस्थितियों पर निर्भर करता है जो सम्बंद विछेद का कारण बनी। जो आपके दोस्त के मामले में सही था ज़रूरी नहीं कि आपके मामले में भी सही हो। इसलिए, क्यूंकि इस निर्णय का कोई निश्चित फोर्मुला नहीं है। अपने दिल कि सुनिये।

टूटे दिल का इलाज

टूटे रिश्तों से मिले ज़ख्मो से उबरना बहुत आसान काम नहीं है। लम्बे समय तक अपने साथी के साथ रहते हुए आपकी जीवन शैली में कई बदलाव आ चुके होते हैं। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि किसी को छोड़ देने कि अपेक्षा किसी के द्वारा छोड़ दिया जाना अधिक पीड़ादायक होता है। आपके सम्मान को गहरी ठेस पहुँचती है। वैसे टूटे हुई रिश्ते दोनों सूरत में मुश्किल ही होते हैं।

ब्रेक-अप कैसे करें?

यदि सम्बद्ध ख़त्म करने क फैसला आप है तो याद रहे कि ये केह देना आसान नहीं होगा। हम सभी उम्मीद करते हैं कि हमें जीवन में ये पल कभी न देखना पड़े। लेकिन जब सम्बन्ध ही दुःख क कारण बन जाएं तो ये फैसला लेना ही पड़ता है। ये टिप्स शायद आपकी मुश्किल को थोडा आसान बनाने में मददगार सिद्ध हों: