वर्जिनिटी (कौमार्य)

दुनिया भर में लोगों की विर्जिनिटी (कौमार्य) और हाइमन के बारे में अलग-अलग विचार और राय हैं। यह सब आपके देश, संस्कृति और धर्म पर बहुत निर्भर करता हैI कभी-कभी यह जानना कठिन हो जाता है कि इस बारे में क्या मत रखेंI तथ्य और मिथक के बीच के अंतर के बारे में यहाँ जानेंI

तथ्य

बात करते रहें - यह क्यों ज़रूरी है

अब जब आप दोनों के बीच अच्छा तालमेल स्थापित हो गया हो तो यह सही समय है कि आप दोनों बैडरूम के अंदर अपनी पसंद-नापसंद के बारे में बात करेंI हम सभी चाहते हैं कि हमारा सेक्स जीवन मज़ेदार और सुखी हो और यह तभी हो सकता है जब आप एक दूसरे को अपने विचार बताएंI लेकिन शुरुआत कहाँ से करें?

झिल्ली एवं कौमार्य के बारे में आम पूछे गए सवाल

पूरी दुनिया में लोगों के हाइमन एवं कौमार्य को लेकर विभिन्न विचार एवं राय होते हैं। ये सब देश, संस्कृति एवं धर्म पर निर्भर करते हैं और इसलिए एक दूसरे से अलग होते हैं। कभी कभी यह तय कर पाना कठिन हो जाता है की कोई क्या सोचे या समझे? कहानियाँ नानी-दादी, मौसी- चाची, चचेरे भाई बहनों से होती हुई हम तक पहुँचती हैं - कुछ सत्य और कुछ असत्य।

प्रवेश के बिना सेक्स

प्रवेश के बिना भी सेक्स में बहुत कुछ है! यहाँ कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे आप अपने सेक्स जीवन में सुरक्षित रहते हुए बदलाव ला सकते हैं।

कौमार्य से जुड़े मिथ्य

कौमार्य (वर्जिनिटी) से जुड़े मिथ्या को तोड़िये! अपनी वर्जिनिटी खोने से पहले, पूरी जानकारी ले लीजिये कि कहीं आप इन मिथ्या को सच तो नहीं मान रहे।

पहली बार

जब लोग ‘पहली बार’ की बात करते हैं, तो उनका आशय, पहली बार किए गए पूर्ण प्रवेशित संभोग से होता है। और उसी को लोग ‘कौमार्य खोना’ कहते हैं।