LGBT
© Love Matters India

लेस्बियन, गे, बाईसेक्सुअल और ट्रांसजेंडर : इन शब्दों का मतलब क्या है?

द्वारा Akshita Nagpal नवंबर 27, 04:25 बजे
एक था राजा, एक थी रानी। हम सभी ऐसी कहानियां सुनकर बड़े हुए हैं जहां एक आदमी और एक औरत होती है और फिर दोनों में प्यार हो जाता है। लेकिन ऐसे लोगों के बारे में क्या जो आदमी या औरत जैसा महसूस ही नहीं करते? उन आदमियों का क्या जो आदमियों से प्यार करते हैं या ऐसी औरतें जो औरतों से ही प्यार करती हैं। लेख के अंत में वीडियो देखना न भूलें।

हम उनके बारे में बातें नहीं करते। और ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शुरु से ही घर या स्कूल में सेक्स या सेक्सुअलिटी (लैंगिकता) के बारे में बात करना मना होता है। दोस्तों के मुँह से सेक्स पर सुनी गई बातों और फिल्मों ने सेक्स और उससे जुड़े हुए मुद्दों पर हमारी समझ को एक सांचे में ढाल दिया है। अफ़सोस इस बात का है कि इसमें से ज्यादातर बातें कोरी बकवास हैं ।

आपके दोस्त ने आपसे चाहे जो भी कहा हो पर सभी क्रॉसड्रेसर (जब आदमी, औरतों की तरह कपड़े पहनता है या औरतें,आदमियों की तरह कपड़े पहनती हैं तो तो उन्हें क्रॉसड्रेसर कहा जाता है) हिजड़े नहीं होते हैं। सभी हिजड़े, गे (समलैंगिक) नहीं होते और ना ही सभी गे लड़के महिलाओं की तरह महसूस करते हैं क्या हुआ? कुछ समझ नहीं आया….., चलिये इस दुविधा से निकलने में हम आपकी मदद करते हैं ।

लैंगिक पहचान - स्त्री, पुरूष, दोनों, ट्रांसजेंडर या कुछ भी नहीं

एक व्यक्ति लैंगिक पहचान के माध्यम से जन्मजात मिली लैंगिकता (यह लैंगिकता जन्म के समय अस्पताल में बताई जाती है और आमतौर पर इस लैंगिकता का अर्थ स्त्री या पुरुष होना होता है) से तुलना करते हुए यह महसूस करता है कि वह किस लैंगिकता से सम्बन्धित है।

सिसजेंडर

जो व्यक्ति जन्मजात मिली लैंगिकता से राज़ी है, उसे सिसजेंडर या सिस कहा जाता है। इसका मतलब यह हुआ कि अगर कोई व्यक्ति, पुरुष (लिंग के साथ) के रूप में जन्म लेता है और ख़ुद को इसी लैंगिकता के साथ स्वीकार कर लेता है तो ऐसे व्यक्ति को सिसजेंडर मेल या सिसमैन कहा जाता है।

ठीक इसी तरह, योनि के साथ जन्म लेने वाली स्त्री अगर ख़ुद को इसी लैंगिक पहचान के रूप में स्वीकार करती है तो उसे सिसजेंडर फीमेल अथवा सिसवुमन कहा जाता है।

हालांकि कई लोग ऐसे भी होते हैं जो ख़ुद को जन्म के समय बताई गई लैंगिक पहचान से जुड़ा हुआ नहीं पाते, ऐसे लोगों को जेंडरक्वीयर कहा जाता है।

ट्रांसजेंडर (संकरलिंगी)

ऐसा व्यक्ति जो पुरुष (लिंग के साथ) के रूप में जन्म लेता है लेकिन ख़ुद को एक स्त्री मानता है उसे ट्रांसवुमन कहा जाता है। ऐसा व्यक्ति जो स्त्री (योनि के साथ) के रूप में जन्म लेता है लेकिन ख़ुद को पुरुष मानता है उसे ट्रांसमैन कहा जाता है।

बाइजेंडर (उभयलिंगी)

ऐसा व्यक्ति जो ख़ुद को स्त्री या पुरुष ना मानकर थोड़ा-थोड़ा दोनों या दोनों के बीच में मानता है अथवा कभी-कभी खुद को पुरुष के ज्यादा करीब पाता है और कभी स्त्री के ज्यादा करीब पाता है तो ऐसे लोगों को जेंडर-फ्लूएड या बाइजेंडर कहा जाता है।

लैंगिकता विहीन

ऐसे लोग जो ख़ुद को ना तो पुरूष मानते हैं और ना स्त्रीI ऐसे लोगों को जेंडरलेस अर्थात लैंगिकता विहीन कहा जाता है।

क्वेश्चनइंग (प्रश्नकर्ता)

ऐसे लोग जो अभी भी यह जानने में लगे हैं कि वो किस लैंगिकता से सम्बन्ध रखते हैं, खुद को क्वेश्चनइंग अर्थात प्रश्नकर्ता के रूप में परिभाषित करते हैं।

ट्रांससेक्शुअल (यौन संकर)

जो ट्रांसजेंडर लोग (ट्रांसमेन या ट्रांस वोमेन) सर्जरी करवाकर अपने जननांगो को बदलवाते हैं, उन्हें ट्रांससेक्शुअल या यौन संकर कहा जाता है। लेकिन सभी ट्रांसजेंडर लोग सर्जरी नहीं करवाते और जन्मजात मिले जननांगो के साथ जीवन बिताते हैं।

हिजड़ा

हिजड़ा उन ट्रांसजेंडर (इसमे ज़्यादातर ट्रांसमेन होते हैं) लोगों को कहा जाता है जो हिजड़ा समुदाय में शामिल होने और उसके रीति रिवाजों का पालन करने की शपथ लेते हैं। सभी ट्रांसजेंडर लोग हिजड़ा समुदाय में शामिल नहीं होते। इसलिए हिजड़ा शब्द का इस्तेमाल सभी ट्रांसजेंडर लोगों को परिभाषित करने के लिए नहीं किया जा सकता है। कुछ ट्रांसजेंडर लोग अपनी इच्छा से इस समुदाय में शामिल होते हैं तो कई लोगों को उनके माँ-बाप लोकलाज के कारण बचपन में ही उन्हें हिजड़ा समुदाय को सौंप देते हैं ।

इंटरसेक्स

अस्पष्ट जनानांगों के साथ जन्म लेने वाले व्यक्तियों (जन्म के समय ऐसे लोगों की स्त्री या पुरुष के रूप में पहचान करना मुश्किल होता है) को इंटरसेक्स कहा जाता है। इंटरसेक्स लोग अपनी इच्छा से किसी भी लैंगिकता का चुनाव कर भी सकते हैं और नहीं भी ।

लैंगिक झुकाव (स्ट्रेट, गे, लेस्बियन या बायसेक्सुअल)

किसी के प्रति भावनात्मक रूप से, रोमांटिक तौर पर और यौन रूप से आकर्षित होना लैंगिक झुकाव या सेक्शुअल ओरिएंटेशन कहलाता है।

समलैंगिक

जब एक स्त्री दूसरी स्त्री के प्रति भावनात्मक रूप से, रोमांटिक तौर पर और सेक्शुअली आकर्षित हो तो उसे लेस्बियन कहा जाता है। इस तरह के रिश्ते में रहने वाली दो महिलाओं को लेस्बियन जोड़ा कहा जाता है। जब एक पुरुष दूसरे पुरुष के प्रति यौन आकर्षण महसूस करता है तो उसे गे कहा जाता है। ऐसे रिश्ते में रहने वाले दो पुरुषों को गे कपलकहा जाता है।

विषमलैंगिक या हेट्रोसेक्सुअल

जब कोई भी व्यक्ति अपने विपरीत लिंग वाले व्यक्ति के प्रति यौन आकर्षण महसूस करता है जैसे कि कोई पुरुष स्त्री के प्रति या इसके ठीक उलट कोई महिला पुरुष के प्रति आकर्षित हो तो ऐसे लोगों को स्ट्रेट कहा जाता कहा जाता है। ऐसे रिश्ते में रहने वाले लोगों को स्ट्रेट कपल’  के रूप में जाना जाता है।

द्विलैंगिक

जब कोई पुरुष या स्त्री किसी दूसरे पुरुष या स्त्री दोनों के प्रति आकर्षित होते हैं उन्हें बाइसेक्शुअल (द्विलैंगिक) कहा जाता है।

अलैंगिक

जब व्यक्ति किसी के प्रति या तो बिल्कुल ही आकर्षित नहीं होता है या बहुत ही कम होता है तो उसे अलैंगिक कहते हैं। एलजीबीटी में एलजीबी का मतलब लेस्बियन, गे और बाइसेक्शुअल होता है। ये तीनों शब्द लैंगिक झुकाव बताते हैं। यहां टीका मतलब ट्रांसजेंडर से है। ट्रांसजेंडर लोग स्ट्रेट, लेस्बियन गे या बाइसेक्शुअल में से कुछ भी हो सकते है।

विभिन्नताओं भरी दुनिया

लैंगिक पहचान अर्थात जेंडर आइडेंटिटी और सेक्शुअल ओरिएंटेशन अर्थात यौनिक अभिविन्यास स्पष्ट रूप से अलग-अलग चीज़ें हैं। दोनों में सबसे प्रमुख अंतर यह है कि जेंडर आइडेंटिटी उस लैंगिक पहचान को कहते हैं जिसे कोई व्यक्ति स्वीकार करता है, जबकि सेक्शुअल ओरिएंटेशन एक व्यक्ति का किसी दूसरे के प्रति आकर्षण है।

एक और चीज़ जो ध्यान में रखनी चाहिए कि किसी भी व्यक्ति की जेंडर आइडेंटिटी या सेक्शुअल ओरिएंटेशन चाहे जो भी हो, आप उस व्यक्ति को देखकर उसकी जेंडर आइडेंटिटी अथवा सेक्शुअल ओरिएंटेशन के बारे में नहीं बता सकते हैं। किसी लैंगिकता या लैंगिक झुकाव का कोई विशेष रूप, आकृति या पहचान नहीं होती है।

यह एक मिथक है कि अगर कोई लड़की छोटे बाल रखती है और लड़को की तरह कपड़े पहनती है तो वह लेस्बियन या ट्रांसमैन है। इसी तरह यह भी मिथक है कि अगर किसी पुरुष को गुलाबी रंग की नेलपॉलिश लगाना पसंद है तो वो वह गे या ट्रांसवुमन है। इसी तरह लम्बे बाल किसी व्यक्ति के सिसजेंडर वुमन होने की गारंटी नहीं है और ना ही गठीला शरीर और चौड़ी छाती किसी पुरूष की मर्दानगी की निशानी हैं। ये सब लोगों के  अपने-अपने पहनावे की शैली और सजने संवरने का तरीका है। इसका व्यक्ति की लैंगिक पहचान और लैंगिक झुकाव से कुछ लेना देना नहीं है।

संबोधन का सही तरीका

कई ट्रांसजेंडर लोग पुरुषों और स्त्रियों के लिए इस्तेमाल होने वाले सर्वनामों ( पुरुषों के लिए वह/उसका और स्त्रियों के लिए वह/उसकी) को खुद के अनुरूप नहीं पाते बल्कि ट्रांसजेंडर लोग वे/उनका या उनके का इस्तेमाल पसन्द करते हैं चाहे बात एक ही व्यक्ति की हो रही हो। इसके अलावा कुछ ट्रांसजेंडर लोगों को 'मिस' या 'मिस्टर' जैसे सम्मानजनक शब्दों की जगह 'Mx' का इस्तेमाल पसन्द है। ट्रांसजेंडर लोगों को संबोधित करने के लिए  इस्तेमाल होने वाले वाले सर्वनामों का अनुमान लगाने की अपेक्षा सबसे अच्छा तरीका यह है कि उनसे (ट्रांसजेंडर) ही पूछ लिया जाए कि उन्हें क्या कहलाना पसन्द है। जहां तक सेक्शुअल ओरिएंटेशन की बात है, कुछ समलैंगिक या समान लैंगिकता वालों के प्रति आकर्षित होने वाले लोग ख़ुद के लिए 'क्वीयर' शब्द का इस्तेमाल पसन्द करते हैं।

 यह लेख पहली बार 11 नवंबर, 2018 को प्रकाशित हुआ था। 

क्या आपको  gay relationship पर सलाह की जरूरत है?  क्या आपको lesbian relationship tips चाहिए? 

क्या आपके पास लैंगिक पहचान या लैंगिक झुकाव से जुड़े कुछ सवाल हैं ? अपने सवाल को हमारे फेसबुक पेज के ज़रिये लव मैटर्स (एलएम) से पूछ सकते हैंI यदि आपके पास कोई विशिष्ट प्रश्न है, तो कृपया हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से पूछें।

LGBT - What do these terms mean?

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>