self care how to do in this time
Creative Commons Zero - CC0

सेल्फ केयर - अच्छा महसूस करने के लिए अच्छा सोचें!

कोराना वायरस की महामारी के कारण लोग अपने घरों में कैद हो गए हैं। लोगों का घर से बाहर निकलना और दोस्तों से मिलना जुलना पूरी तरह बंद हो गया है, ज़िंदगी एकदम नीरस हो गई है और कुछ मज़ेदार करने को बचा ही नहीं है। है ना? यहां तक कि ऐसे समय में बाल कटवाने और आईब्रो बनवाने के बारे में सोचना भी शायद फ़िजूल ही है। यदि आप घर में बैठे-बैठे ऊब गए हैं और आपको तनाव, बेचैनी होने के साथ ही गुस्सा भी आ रहा है तो घबराएं नहीं, ऐसा होना लाज़िमी है और यह हर किसी के साथ हो रहा है। इस कठिन समय में अपनी देखभाल करें और ख़ुद से ख़ूब प्यार करें।

 

आसान शब्दों में कहें तो, सेल्फ केयर मतलब ख़ुद की देखभाल करना, सिर्फ़ इमोशनली ही नहीं बल्कि मानसिक और शारीरिक रूप से भी अपना ख्याल रखना। लेकिन ये करें कैसे? इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसी चीजें बता रहे हैं जिसके बारे में आप सोच सकते हैं और दूसरे आर्टिकल में हम कुछ ऐसी चीजें लेकर आएं हैं जिन्हें आप ख़ुद करके देखें तो बेहतर होगा। तो चलिए अब शुरु करें?

  1. पॉजिटिविटी अपनाये:  हर सुबह उठते ही अपना फेवरेट गाना सुनें या रात में एक दो घंटे पहले सो जाएं ताकि अगली सुबह जल्दी उठने में ज़्यादा आलस ना लगे। उठने के बाद अपने मम्मी-पापा, भाई-बहन, पार्टनर या जिस किसी से आप प्यार करते हैं (पालतू जानवर भी) उसे गले लगाएं।
  2. सोच समझकर बोलें: इन दिनों हर कोई घर में बंद है और बाहर निकलना नहीं हो पा रहा है ऐसे में गुस्सा और चिड़चिड़ापन महसूस होना स्वाभाविक है। हम सभी ख़राब दौर से गुजर रहे हैं, ऐसे में आप दूसरों से जिस तरह से बात करेंगे, दूसरा भी आपसे वैसे ही बात करेगा। जब गुस्सा आए तो 10 तक गिनें। किसी को ख़राब न बोलें और अपने शब्दों पर नियंत्रण रखें।
  3. खुलकर बातें करें: आपकी मां ने आपके दोस्त के बारे में जो कहा वो आपको अच्छा नहीं लगा? ज़्यादा काम होने की वजह से आप परेशान हैं? अपनी फीलिंग को दबाने की बज़ाय इसके बारे में खुलकर बात करें। कभी कोई बात मन में रखने से चिड़चिड़ाहट होती हैं जो और तरीके से बाहर निकलती है। मन की बात कह देने से सामने वाले को आपकी फीलिंग्स समझ आएगी और ग़लतफहमी या बहस कम होंगी।
  4. ख़ुद को और दूसरों को स्पेस दें: आपको हर समय अपने साथी और या अपने परिवार वालो के साथ रहने की ज़रुरत नहीं है। अपने लिए समय निकालें । उन चीजों को अकेले करें जिन्हें आप करना पसंद करते हैं - पढ़ना, अपने दोस्तों / सहकर्मियों के साथ फोन पर बात करना, बागवानी करना, या यहाँ तक कि सिर्फ सोना। यह आपको तरोताजा और कायाकल्प महसूस कराने में मदद करेगा।
  5. इच्छाओं को दबाएं नहीं: इस कठिन समय में अपनी यौन इच्छाएं ज़ाहिर करना अपने आप में एक मुश्किल काम है। लेकिन हस्तमैथुन और सेक्सटिंग के बारे में आपका क्या ख़याल है (यदि आप और आपके पार्टनर दोनों की सहमति हो)। अपने आप को रोकें नहीं, इससे सिर्फ़ फ्रस्ट्रेशन होगा, लेकिन हाँ दूसरों की भावनाओं और प्राइवेसी का भी ज़रूर ध्यान रखें। किसी अलग कमरे में जाएं और अपनी इच्छाएं पूरी करें।


और अंत में, यदि आप ख़ुद को अकेला महसूस कर रहे हैं और लव, सेक्स और रिलेशनशिप पर मदद चाहते हैं तो लव मैटर्स है ना। ‘लेट्स टॉक’ नाम से हमारा एक ऑनलाइन फोरम है जहां आप अपने सवाल पूछ सकते हैं और सलाह ले सकते हैं और हम ज़ल्द ही आपको ज़वाब देने की कोशिश करेंगे।

कोई सवाल? नीचे टिप्पणी करें या हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से पूछें। हमारा फेसबुक पेज चेक करना ना भूलें।

 

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>