fantasy about other women
Love Matters India

मैं दूसरी औरतों के बारें में कल्पना करता हूँ - क्या यह ठीक है?

द्वारा Auntyji मई 13, 12:08 बजे
मैं अपनी साथी के साथ सेक्स करना पसंद करता हूँ लेकिन फिर भी मैं दूसरी औरतों के बारे में सोचता और कल्पना करता हूँ। क्या इसका मतलब है की मेरा सेक्स जीवन संतुष्ट नहीं है? दिबाकर, इंदौर

आंटी जी कहती हैं, 'दिबाकर पुत्तर, तुम अपने ख्यालो को कैद नहीं कर सकते, लेकिन उनके बारें में तुम क्या करते हो और क्या नहीं, यह तो तुम्हारे हाथ में है ना? चलो दोनों के बारे में बात करते हैं!' 

अब तक स्वस्थ

पुत्तर, बहुत अच्छा लगा जान कर की तुम एक 'संतुष्ट' शारीरिक सम्बन्ध में हो अपने साथी के साथ। ये पहला कदम है अच्छे कामुक स्वस्थ्य के लिए। मैं अंदाजा लगा सकती हूँ की वो भी वैसा ही महसूस करती होगी। अगर हाँ, तो यह दूसरा इशारा है एक अच्छे स्वस्थ्य शारीरक सम्बन्ध का।

लेकिन तीसरा और सबसे ज़रूरी पॉइंट हैं की क्या तुम दोनों एक दूसरे की संतुष्टि और आनंद का ख्याल रख रहे हो?। तुम्हे पता है ना की अगर तुम और तुम्हारा पार्टनर सेक्स में खुश, तो इसकी ख़ुशी तुम्हारे बाकी जीवन में भी दिखेगी। 

कल्पनाएँ नार्मल हैं 

अब तुम्हारी कल्पनाओं पर आते हैं। कल्पनाएँ अच्छी होती हैं। सिर्फ अच्छी ही नहीं, वे मज़ेदार भी होती हैं  हैं। यह रिश्तों को ताजा रखने में हमारी मदद भी करती हैं। और जैसा कि तुम्हारे अंकल जी कहते हैं, यह रिश्तों में मस्ती का तड़का लगाने का सबसे स्वास्थ्यप्रद तरीका है। जो कोई भी यह कहता है कि उसने कभी ऐसा नहीं किया है, वह निरा झूठ बोल रहा है।

किसी के बारे में कल्पना करना कोई बुरी बात नहीं है। कल्पनाएँ या फैंटसीज भी विभिन्न भूमिकाएँ अदा करती हैं। कुछ लोग उत्तेजित महसूस करने के लिए कल्पना करते हैं, सेक्स के लिए प्रेरित महसूस करते हैं और कुछ कल्पनाओं में लिप्त होते हैं क्योंकि इससे उन्हें सेक्स के दौरान कामोन्माद (ओर्गास्म्स) प्राप्त करने में मदद मिलती है।

हमारे मन में आने वाले विचारों और कल्पनाओं पर हमारा नियंत्रण नहीं है। लेकिन यहाँ जो महत्वपूर्ण है वह है - क्या हम उन पर कार्रवाई करते हैं?

हाँ या ना?

तो तुमने एक या दो बार किसी और के बारे में सोचा हैं? शायद ज्यादा बार भी? किसी और तरह की कल्पनाएँ या फैंटसीज भी तुम्हारे मन में आयी हो? 

लेकिन अभी ऐसा लगता है कि तुम सिर्फ ऐसी कल्पना कर रहे हो और कम से कम अब तक तो उसके बारे में तुमने कुछ किया नहीं है। है ना? यदि तुम अब उन कल्पनाओं को हकीकत में बदलना चाहो तो तुमको इस पर विचार करने की आवश्यकता है।  

पहली बात, यदि तो तुम अपनी कुछ कल्पनाओं को अपने साथी के साथ आज़माना चाहते हो, तो तुमको उसकी इच्छा और सहमति चाहिए। उसके लिए तुम्हे उससे बात करनी होगी और देखना होगा कि क्या वह तुम्हारी कल्पनाओ को उतना ही पसंद करती हैं जितना तुम और उस पर कुछ एक्शन करना चाहती है या नहीं?

यदि वह नहीं तैयार है तो तुम को अपनी कल्पना या फैंटसी को एक फैंटसी ही बने रहना देना चाहिए। तुमको अपने साथी को किसी भी चीज के लिए मजबूर नहीं करना चाहिए। अगर वह हिचकिचाती है या नहीं कहती है, तो इसका मतलब है कुछ मत करो।  

अब, यदि तुम अन्य महिलाओं के साथ अपनी कल्पनाओं को आज़माना चाहते हैं, जो तुम्हारे साथ रिश्ते में नहीं हैं और उनकी सहमति नहीं है, तो यह सिर्फ उत्पीड़न होगा। गलत होगा। 

और मान लो, की कोई अन्य महिला तुम्हारी फैंटसीज को तुम्हारे साथ अंजाम देने के लिए तैयार हैं, तो उस सिचुएशन में तुम्हारे कमिटमेंट का क्या? क्या तुम्हारी पार्टनर को यह मंजूर होगा की तुम किसी और के साथ अपनी कल्पनाएँ या फैंटसीज को सच करो? 

तो इस पर विचार करने के लिए बहुत कुछ है और इस का कोई आसान या सीधा उत्तर नहीं हैं।

इसलिए यदि आप मुझसे पूछें, तो स्थिति यह है - कल्पनाएँ आमतौर पर कल्पनाओं के रूप में ही अच्छी लगती हैं।  

पहचान की रक्षा के लिए, तस्वीर में व्यक्ति एक मॉडल है और नाम बदल दिए गए हैं। 

यह लेख पहली बार 20 मार्च, 2012 को प्रकाशित हुआ था।

कोई सवाल? नीचे टिप्पणी करें या हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से पूछें। हमारा फेसबुक पेज चेक करना ना भूलें।

 

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
Relax bête! Hastmaithun ek safe aur surakshit tareeka hai apni santushti karne ka. Isse koi nuksaan ya beemari nahi hoti. Yeh bhee padhiye: https://lovematters.in/hi/resource/men-masturbating Yadi aap is mudde par humse aur gehri charcha mein judna chahte hain to hamare disccsion board “Just Poocho” mein zaroor shamil ho! https://lovematters.in/en/forum
Prakash bête kahin aap kisi tension, pressure mein toh nahi hai na? Yeh samjh lijiye ki sex karney ke liye ya ling me tanav aane ke liye bilkul tanav mukt hona zaruri hai bête. Body ko apna kaam karne dijiye bête - aur yadi koi bimaari na ho to - ye thik ho jana chahiye. Ise padhiye: https://lovematters.in/hi/news/erection-trouble-where-turn https://lovematters.in/hi/news/4-signs-you-have-erectile-dysfunction Yadi aap is mudde par humse aur gehri charcha mein judna chahte hain to hamare discussion board “Just Poocho” mein zaroor shamil ho! https://lovematters.in/en/forum
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>