How to increase sperm count
Shutterstock/Sai Tha

अपने शुक्राणुओं की संख्या कैसे बढ़ायें

क्या आपके शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने का कोई तरीका है? लव मैटर्स आपके लिए कुछ सरल लेकिन प्रभावी उपाय लाया है जिनसे आप बिना मेडिकल हस्तक्षेप के अपने स्पर्म काउंट को बेहतर बनाने की कोशिश कर सकते हैं!

बांझपन एक बड़ी चिंताजनक स्थिति बन गई हैजो अधिकांश आधुनिक युगलों को प्रभावित करती है। शोध के अनुसार,  छह जोड़ों में से एक को स्वाभाविक रूप से गर्भ धारण करने में मुश्किल आती हैऔर इनमें से 50 प्रतिशत मामलों में पुरुष बांझपन अंतर्निहित कारण है।

यह आपके साथी के साथ परिवार शुरू करने के आपके सपनों को प्रभावित कर सकता हैऔर अक्सर रिश्ते में तनाव का कारण बन जाता है।

हालाँकि बांझपन के मुद्दे हमेशा इलाज़ द्वारा ठीक नहीं होते हैं,  लेकिन कई मामलों में शुक्राणुओं की संख्या, गुणवत्ता और गतिशीलता जैसी समस्याओं को कुछ जीवन शैली में बदलाव के साथ हल किया जा सकता है।

आइए कुछ सरल लेकिन प्रभावी उपायों पर ध्यान दें जिनसे आप बिना मेडिकल हस्तक्षेप के अपने शुक्राणुओं की संख्या में सुधार कर सकते हैं:

नियमित व्यायाम करें और अतिरिक्त वजन कम करें

एक स्वस्थ बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्स) को बनाए रखने के कई स्वास्थ्य लाभ होते हैंऔर उनमें से एक बेहतर स्पर्म काउंट है। यदि आपका वजन अधिक हैतो नियमित रूप से व्यायाम और स्वस्थ आहार का पालन करना आपके शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने के लिए एक अच्छा प्रारंभ बिंदु हो सकता है। एक अध्ययन में पाया गया कि 16 सप्ताह तक लगातार एरोबिक्स कार्यक्रम जैसी दिनचर्या का पालन करने से गतिहीन जीवन शैली और अधिक वजन के मुद्दों वाले लोगों में शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है।

धूम्रपान छोड़ें 

यह 2020 है और धूम्रपान के कई हानिकारक प्रभाव सार्वजनिक डोमेन में दशकों से उपलब्ध हैं। आपके दिल, फेफड़े और प्रतिरक्षा को प्रभावित करने के अलावा, धूम्रपान आपके शुक्राणुओं की संख्या को भी प्रभावित करता है। यदि आप आईवीएफ जैसी चिकित्सा प्रक्रियाओं को झेले बिना एक परिवार शुरू करना चाहते हैं, तो धूम्रपान छोड़ना आपका पहला लक्ष्य होना चाहिए।

शराब और नशीली दवाओं के उपयोग से हानि 

जहाँ कभी कभार शराब का सेवन आनंद के लिए किया जा सकता हैं, वहीं आदतन और अत्यधिक शराब का सेवन आपके शुक्राणुओं की संख्या के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए शराब सेवन में संयम बरतना वीर्य की गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए एक सही दिशा में उठाया गया कदम है।

ड्रग्स जैसे मारिजुआना, हेरोइन और कोकीन भी आपके यौन स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालते हैं। अपने जीवन को आगे आने वाले हानिकारक प्रभाव से बचाने के लिए आपको इन चीज़ों से पूरी तरह बचना चाहिए।

विटामिन डी के सेवन पर ध्यान दें

विटामिन डी स्वाभाविक रूप से सूर्य के प्रकाश से पाया जा सकता है। आज अधिकांश लोगों में इसकी कमी पाई जाती है। इस कमी से असंख्य स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैंजिसमें पुरुषों में खराब प्रजनन क्षमता का होना शामिल है। 18 विभिन्न अध्ययनों ने पुरुष प्रजनन क्षमता और विटामिन डी की मात्रा के बीच एक स्पष्ट संबंध बताया है।

अपने शरीर में विटामिन डी के स्तर का पता लगाना और सुरक्षित चिकित्सीय सलाह के साथ इसे आहार में शामिल करना एक अच्छा विचार है। लेकिन हमेशा कोई भी चीज़ शुरू करने से पहले डॉक्टर से बात करें क्योंकि अनियंत्रित उपयोग अच्छे प्रभाव से अधिक नुकसान कर सकता है।

एंटीऑक्सीडेन्ट की मात्रा बढ़ाएं 

हमारे वातावरण में प्रदूषण और प्रदूषकों के लगातार संपर्क में आने से शरीर के अंदर फ्री रैडिकल्स का निर्माण होता है। यहां तक ​​कि स्वस्थ जीवन शैली के लिए प्रतिबद्ध लोग भी इसके दुष्प्रभाव से बच नहीं सकते हैं। एंटीऑक्सिडेंट युक्त खाद्य पदार्थ जैसे कि जामुन, हरी पत्तेदार सब्जियां, नट्स और मछली की मात्रा आहार में बढ़ाने से इन मुक्त कणों को निष्क्रिय करने और स्वाभाविक रूप से शुक्राणुओं की संख्या में सुधार में मदद मिल सकती है।

खराब फैट की जगह अच्छे को शामिल करें

ट्रांस फैटी एसिड, आमतौर पर खराब वसा के रूप में जाना जाता है और  शुक्राणुओं की संख्या में काफी कमी कर सकता है। अपने स्पर्म काउंट को बेहतर बनाने के लिए, खराब मीट जैसे कि रेड मीट, फ्राइड और जंक फूड, मक्खन और भारी क्रीम जैसे हाई-फैट डेयरी आइटम  अपनी डाइट से दूर करें। अच्छे वसा युक्त खाद्य पदार्थ जैसे कि जैतून का तेल, पूरे अंडे, नट्स और लीन मीट को आहार में शामिल करें। 

अश्वगंधा का इस्तेमाल कर सकते हैं 

अश्वगंधा, जिसे भारतीय जिनसेंग के रूप में भी जाना जाता है, प्राचीन भारतीय औषधीय विज्ञान का एक प्रमुख घटक रहा है। इस सदाबहार पौधे को पारंपरिक रूप से यौन रोग का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया गया था। जैसे-जैसे आयुर्वेद का ज्ञान जीवन में वापसी कर रहा है, वैसे-वैसे इस पुराने उपचार फिर से प्रासंगिक हो रहे हैं। एक चिकित्सीय परीक्षण  ने अश्वगंधा के अर्क को शुक्राणुओं की संख्या में सुधार करने में प्रभावी पाया।

यदि आप इसे आजमाने का निर्णय लेते हैं, तो प्रमाणित चिकित्सक के मार्गदर्शन में ऐसा करना सुनिश्चित करें जो आपके स्वास्थ्य मापदंडों का मूल्यांकन करने के आपको सही खुराक बता सके। 

अपने तनाव का स्तर कम करें

तनाव न केवल आपके और आपके साथी के बीच यौन अंतरंगता के लिए एक बाधा बन सकता है, बल्कि पुरुष प्रजनन क्षमता पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालता है। जीवनशैली में बदलाव ला कर तनाव के स्तर को समाप्त नहीं भी किया जाए तो कम किया जा सकता है। जब आप हर समय तनाव महसूस नहीं करते हैं, तो आपका कोर्टिसोल (एक हार्मोन जो शरीर के अंतर्निहित अलार्म सिस्टम को चलाता है) का स्तर सामान्य सीमा में रहता है। इससे टेस्टोस्टेरोन (पुरुषों में प्राथमिक सेक्स हार्मोन) बेहतर तरीके से कार्य करता है।

प्रकृति की सैर, योग, ध्यान, व्यायाम, परिवार और दोस्तों के साथ अधिक समय बिताना, एक बढ़िया हॉबी अपनाना आदि आपके तनाव के स्तर को कम कर सकता है।  इनमें से कौन सा एक टिप्स आपके लिए सबसे अच्छा काम करता है, यह देखें  और आज ही उसे अपना लें। प्रत्येक दिन थोड़ी सी प्रगति बड़े परिणामों को लाती है। 

कोई सवाल? नीचे टिप्पणी करें या हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से पूछें। हमारा फेसबुक पेज चेक करना ना भूलें।

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>