A friend of mine said
Love Matters

हस्तमैथुन: लड़कों का सामना लड़कियों से

द्वारा Gayatri Parameswaran अप्रैल 20, 05:12 बजे
कल मेरे एक दोस्त ने मुझे कहा की लड़के लड़कियों से ज्यादा हस्तमैथुन करते हैं। "पुरुषों ने हस्तमैथुन में रिकॉर्ड कायम किया हुआ है - कुछ नौ घंटे, उसने विद्रोह करते हुए कहा। "पुरुष महिलाओं से ज़्यादा कमोतेजित होते हैं।

और इसलिए वो ज़्यादा हस्तमैथुन भी करते हैं," उसने पूरी समझदारी दिखाते हुए कहा। क्या यह सच है? और अगर हाँ, तो क्या यही कारण है की महिलाएं सबसे सुरक्षित और आसान सेक्स के तरीके का मज़ा नहीं उठा पा रही हैं?

मिथक

बचपन से बड़े होने तक, हम हस्तमैथुन के बारे में कितने ही मिथक सुनते हैं: तुम्हे मुहासे हो जायेंगे, बुखार, पेट में दर्द, कमज़ोर आँखें, और पता नहीं क्या क्या। और फिर दूसरी तरफ धार्मिक, आत्मिक ब्लैकमेल करने वाली लिस्ट: भगवन तुमसे नाराज़ हो जायेंगे, तुम नरक में जाओगे, यह गुनाह है, और ऐसा ही बहुत कुछ और भी।

लेकिन आज की तारिख में हम यह सब पीछे छोड़ चुके है (या शायद छोड़ना तो चाहते हैं)। आज हम 'हस्तमैथुन' के बारे में आयोजित करे कार्यक्रम में ख़ुशी से भाग लेते हैं। जैसे की 'मास्टरबेट - अ - थोन' - अमेरिका में मनाया जाने वाला कार्यक्रम, जहाँ पुरुष और महिला एक साथ ख़ुशी से भाग लेते हैं और पैसा दान करते हैं। इस कार्यक्रम से जो पैसा इकट्ठा होता है उस से गरीबों को प्रजनन सेवाएं प्रदान करी जाती हैं। क्या आईडिया है!

इस कार्यक्रम के पीछे छुपा सन्देश है: हस्तमैथुन प्रजनन सेहत के लिए अच्छा है। यह सुरक्षित है और आसान भी। यह अपने आप को प्यार करने जैसा है। अपने आप को वो ख़ुशी देना है जो आपका हक है। अपने आप को हस्तमैथुन करने से रूकिये मत। हमने यह तो समझ ही लिया है ना की हस्तमैथुन करने से कोई नुक्सान नहीं होता।

शोध

तो क्या यह सच है की महिलाएं पुरुषों से कम हस्तमैथुन करती है? मैंने गूगल पर जानकारी ढूंढ़नी चाही और विकिपीडिया पर मुझे यह जानकारी मिली की वाकई महिलाएं पुरुषों से कम हस्तमैथुन करती हैं।

इंग्लैंड में कुछ साल पहले किये गए एक शोध में यह पाया गया की कुछ 18 प्रतिशत महिलाएं (जिन्होंने इस शोध में भाग लिया था), उन्होंने इंटरवीयू के सात दिन पहले तक हस्तमैथुन किया था, जबकि पुरुषों के आंकड़े थे 53 प्रतिशत। तो, इन आंकड़ों को देखते हुए तो, मेरा दोस्त सही ही कह रहा था - महिलाएं पुरुषों से कम हस्तमैथुन करती हैं। तो स्वाभाविक सवाल है - क्यूँ?

सामाजिक स्वीकृति

"सामाजिक तौर पर महिलाओं के हस्तमैथुन करने को स्वीकृति कम मिलती है। परंपरा के चलते, एक औरत की कामुक इच्छाएं नहीं होनी चाहिए। उसका काम है सिर्फ अपने साथी मर्द की कामुक इच्छाओं को पूरा करना, है की नहीं?" मेरे दोस्त ने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा।

सही है। अगर औरतें अपने मर्दों की अनुपस्तिथि में कल्पना करने लगे और अपने आप को छू कर मज़ा लेने लगे तो हमारे 'मरदाना' मर्द पागल नहीं हो जायेगे? महिलाओं का इन कामुक भावनाओं के साथ 'भटकना', एक रुढ़िवादी समाज में सबसे डरावनी चीज़ है।
 
आसान

"मैं महिला नहीं हूँ, तो मुझे नहीं पता की महिलाओं के लिए हस्तमैथुन करना कितना आसान है, लेकिन हम मर्दों के लिए तो बहुत आसान है - बस जाओ और अपने थोड़े शुक्राणु निकाल दो। मैं तो यह किसी भी सार्वजानिक बाथरूम में भी कर सकता हूँ अगर ज़रूरत पड़े तो। क्या तुम भी?" उसने पुछा।

अरे नहीं! बिलकुल नहीं! ऐसा करना मेरे लिए बिलकुल आसान नहीं। यह ऐसी चीज़ नहीं है जो में किसी भी गंदे से शोचालय में कर लूँ। तुम्हे पता भी है की यह खुशबूदार मोमबतियां इतनी बिकती क्यूँ है। ये सब मूड की बात है, सही जगह और समय की।

"लेकिन अगर तुम्हे बहुत ज़्यादा जल्दी हो यह करने की तो तुम इंतज़ार कैसे कर सकती हो? मतलब तुम अपने आप को रोकोगी कैसे?" उसने पुछा।

"अरे में कोई इतनी उग्र भी नहीं हूँ", मैंने कहा।

"देखा, मैंने कहा था ना की तुम उतनी कमोतेजक हो ही नहीं। चलो- मुझे मेरा जवाब मिल गया - महिलाएं पुरुषों से कम कमोतेक्जक होती हैं। और इसलिए पुरुषों से कम हस्तमैथुन करती हैं", मेरे दोस्त ने उछालते हुए कहा।

फोटो: गायत्री पर्मेस्वरण, © Love Matters/RNW

इस लेख में प्रस्तुत किये विचार लव मेटरस के भी हों, ये आवश्यक नहीं। 

मेरे एक दोस्त ने कहा के और लेख...

हस्तमैथुन पर और जानकारी

हस्तमैथुन पर और लेख

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>