Consent
Shutterstock /PT Images

मना तो नहीं किया कभी लेकिन मतलब तो वही था

द्वारा Arpit Chhikara मार्च 2, 12:59 बजे
जब आभा* ने अचानक से अनय* के फ़ोन उठाने बंद कर दिए तो उसे समझ ही नहीं आया कि उसे क्या करना चाहिएI लेकिन फ़िर अनय ने कुछ ऐसा किया जो शायद उसे नहीं करना चाहिए थाI आइये जाने उसने क्या कियाI

22 साल के अनय दिल्ली में रहते हैं और एक फ्रीलांस लेखक हैं

प्यार..एक बार फ़िर से

जब मैंने आभा को देखा तो ऐसा पहली बार नहीं था कि मैं किसी लड़की की ओर आकर्षित हुआ थाI हम दिल्ली में एक समारोह में मिले थे और तुरंत ही एक-दूसरे को पसंद करने लगे थेI समारोह खत्म होते-होते तो हम ऐसे बात कर रहे थे जैसे ना जाने कितना पुराना याराना हैI वो अपने कॉलेज के दूसरे वर्ष में थीं।

मुझे तो उसकी हर बात अच्छी लग रही थीI उसके बात करने से लेकर उसके खाना खाने के तरीके तकI हम शाम तक साथ थे लेकिन उस दिन शाम इतनी जल्दी आ जाएगी मुझे इस बात का एहसास ही ना थाI एक दूसरे से अलग होते हुए हमने एक दूसरे को गले लगाते हुए नंबरों का आदान-प्रदान कियाI

गले तो मिल रहे थे लेकिन होंठ नहीं

मैंने उसे अगली सुबह यह सन्देश भी भेज दिया कि मुझे उसके साथ कितना अच्छा लगा और मेरे साथ समय बिताने के लिए उसका धन्यवाद भी कियाI हम फ़ोन और व्हाट्सप्प की मदद से एक दूसरे से संपर्क बनाये रख रहे थे लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा था कि बिना कोई छिछोरी हरकत करे मैं उसके और करीब कैसे पहुँच सकता हूँI मुझे लगा शायद दोबारा मिलने से इस मुश्किल का कुछ हल निकल सकेI

मेरी खुशी का उस समय कोई ठिकाना नहीं था जब उसने मेरे एक कला प्रदर्शनी में जाने के लिए हामी भरीI वो सही समय पर वहां पहुँच गयी थीI उस दिन उसने पीले रंग की पोशाक पहनी हुई थी और मुझे एहसास हुआ कि वो पहले से कहीं ज़्यादा खूबसूरत लग रही थीI मेरे दिलों-दिमाग में उसे चूमने और उसके बालों के साथ खेलने के ख्याली पुलाव पकने शुरू हो गए थे लेकिन मैंने सही समय का इंतज़ार करना उचित समझाI

वो प्रत्येक पेंटिंग को निहारते हुए मेरे साथ पूरी आर्ट गैलरी घूमीI लेकिन मुझे लग रहा था कि एक जगह बैठकर सिर्फ़ उसे निहारना बेहतर होताI मैंने उससे पूछा कि वो बाहर जाकर बियर पीना पसंद करेगी तो उसने झट से हाँ कर दीI

हमारी गुफ़्तगू गिलासों में बीयर की तरह पूरी उफ़ान पर थीI बार से निकलते हुए हमें देर रात हो गयी थी लेकिन मुझे अभी भी इस बात का अंदाज़ा नहीं हो पाया था कि वो भी मुझमें उतनी ही रूचि रखती है जितनी कि मैं, या नहींI हमने एक बार फ़िर एक दूसरे को गले लगाया और अपने अपने घरों की ओर रवाना हो गएI

दूसरा पड़ाव : गले मिलना भी बंद

 हम लगातार एक दूसरे के संपर्क में थेI वैसे आम तौर पर संदेशों की शुरुआत मैं ही करता था लेकिन उसका जवाब भी तुरंत ही आता थाI

एक दिन, मैंने उसे फ़ोन किया तो उसने कोई उत्तर नहीं दियाI उसने मुझे व्हाट्सप्प पर सन्देश भेजा कि वो व्यस्त हैI मैं उसे पुस्तक मेले के लिए ले जाना चाहता थाI वो आयी तो ज़रूर लेकिन केवल एक घंटे के लिएI वापसी में भी वो मुझे बिना गले मिले चली गयीI

अब मैं अपने बारे में उसकी राय को लेकर थोड़ा संदिग्ध हो चला थाI अभी भी मैं ना सिर्फ़ उसे गले लगाना चाहता  था बल्कि उसके साथ और भी बहुत कुछ करना चाहता थाI

कोई जवाब नहीं मिल पा रहा था

उस दिन के बाद से उसने कभी मेरा फ़ोन नहीं उठायाI धीरे-धीरे मेरे संदेशों का भी जवाब देना बंद कर दिया। मुझे लगा था कि हमारी कहानी, मेरा मतलब मेरी कहानी थोड़ी और आगे बढ़ेगी लेकिन यहां तो बात ही खत्म होने के कगार पर आ गयी थीI मुझे उसके इस व्यवहार से परेशानी और दुःख दोनों हो रहा थाI मैंने उससे पूछने की भी कोशिश की लेकिन उसने उसका भी जवाब नहीं दियाI

मैं अपने सिर में घटनाओं का क्रम बार-बार दोहरा रहा था - हम पुस्तक मेले में गए लेकिन उसके बाद फ़िर कभी हमारी बात नहीं हुईI क्या मैंने कुछ ऐसा कहा या किया जिससे उसकी भावनाओं को चोट पहुँची हो? मुझे नहीं लगता कि मैंने कभी भी उसे यह प्रतीत होने दिया कि उसे मुझसे किसी भी प्रकार का कोई ख़तरा है या मैं उसका फ़ायदा उठाना चाहता हूँI

लेकिन मैं उसे कैसे इस बात का विश्वास दिलाऊं? काश उसने मुझसे अपनी बात कहने का एक आख़री मौक़ा दिया होताI

कोई ज़बरदस्ती नहीं

शायद कुछ और लड़के ऐसा होने पर लड़की से दोबारा बात करने की या उसका पीछा करने की कोशिश करते लेकिन उसके विपरीत मैंने उससे बात करना बिलकुल बंद कर दियाI यहाँ तक कि उसका नंबर भी अपने फ़ोन से हटा दियाI लेकिन फ़िर भी मेरे मन में यह ख्याल आता रहता था कि उसके ऐसा करने के पीछे क्या वजह हो सकती है - शायद वह मुझे पसंद नहीं करती थी, अलैंगिक थी या उसका पहले से कोई बॉयफ्रेंड थाI

उसने खुद कभी नहीं कहा, लेकिन मुझे समझ आ गया था कि वो क्या चाहती थीI मैं इस नतीजे पर पहुंचा था कि शुरुआत में उसे मुझमें दिलचस्पी होगी लेकिन मुझे और जानने के बाद शायद उसकी रूचि मुझमें खत्म हो गयीI यह समझना शुरू में मुश्किल था, लेकिन धीरे-धीरे मुझे यह बात समझ आ चुकी थी कि ज़रूरी नहीं कि वो भी मुझे पसंद करेI वो भी सिर्फ़ इसलिए क्यूंकि मैं उसे पसंद करता थाI

आखिरकार, मैं उसे पूरी तरह भूल गयाI हाल ही में एक लोक संगीत समारोह में मेरी मुलाकात एक और प्यारी लड़की से हुई हैI मुझे उम्मीद है कि वो भी पसंद करती हैI लेकिन अगर नहीं भी करती होगी तो कोई समस्या नहीं है क्यूंकि अब मुझे सब भूल कर आगे बढ़ना आ गया हैI

*नाम बदल दिए गए हैं

*तस्वीर के लिए मॉडल का इस्तेमाल किया गया है 

क्या आपको भी कभी किसी ने बिना कारण बताये अस्वीकार किया है? हमारे फेसबुक पेज पर लव मैटर्स (एलएम) के साथ अपना अनुभव साझा करें। अगर आपके पास कोई विशिष्ट प्रश्न है, तो कृपया हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से पूछें।

 

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
Well done Anay ! Very good step, Everyone must learn the concept of moving on ! Preferably when you have been taken for granted or treated like an option ! Sometimes we keep knocking the door even when we know door will never open or locked from outside, Everyone must learn when to STOP !!
Mai kolkata ka rahne wala hu meri ma ka Death bachpan me Ho gya tha tbb mai 1 saal ka tha phir mere Papa ne dusri sadi ki mai apne Dada dadi ke saat rhta tha achanak mere dadi ka Death ho gya aur dadi bhi gao chali gyi tbb mai 9 saal ka tha aur akela pdd gya apne room me akele rahta padta aur apne Papa mummi ke room me sirf khana khane ke jata the dhire dhire mai bada hua aur apne Papa ke shop me unki madad krne lga mai 12 pass kiya collage me admission uske 3 months baad meri ma se mera jhagara ho gya mai ghar chor ke gusse me ambala bhag gya wha 1 Year tkk Steel plant me kaam kiya phir kolkata aaya ek construction line me site incharge ka job pakra aur ek apna shop khola imitation ka akele rhne ke chalte mai apne aap ko bhut busy krr liya ghar me sbb kuch thik chalne lga mai apni ma se baat nhi krta tha unse meri banti nhi thi aise hi life chalne lagi fhir mere life me ek ladki aayi dipti Singh unse fb pe mulakat hui baat krte krte hmm ache dost bnn gye phir unhone apne bare me btaya ki unke life me ek ladka tha jisse wo bhut pyar krti thi wo unhe dhoka De diya wo dipress me aagyi thi 6 month na kisi se baat krna ye wo... Wo mujhe bhut achi lgti thi wo apna dukh btate btate rone lagi tbhi mai chup krane ke liye unhe kiss kr diya aur purpose bhi wo boli ki nhi hmm dost hi thik hai mai fhir apni life me ye galti dubara nhi krna cahti mai bola ki sabhi ladke ek jaise nhi hote fhir wo boli ki sbb whi hote hai bss apni hawas bujhane ke liye ye sabb pyar ka natak krte hai... Fhir maine unhe ek shair bola....meri mohabbat ki imnteha ko tmne samjha hi kha meri jaan tere badan se duppatta bhi sarakta he toh hmm apni nazre jhuka liya krte hai... Fhir wo boli ye sbb bakwas hai mai unhe biswas dilane ke liye apne parents ko razi kr liya aur unse baat kra di wo mann gyi hmari relation chalne lgi ek dum bindass unki thodi financial condition thik nhi thi mai hrr waqt unhe madat krta tha ye sbb mamlo Me aur unke pass paise hote hi wo louta deti thi mai unhe bahut cahta ta ki ek din achanak wo call Kim aur boliunke liye rista aaya ldke sabhi ko pasand hai to amit mujhe maaf kriye ga mai apne gardiun ko mna nhi kr skti ye wo ye mere liye ghutan ka waqt mano ek trah se mujhe lga sbb kuch khatm ho gym mai rone lga do din bit gye apni ma ko yaad krke rone lga 2 din se site pe bhi nhi gya ki ek din wo call ki aur boli ki wo rista nhi hoga ladka ka Nature shi nhi he i love you baba but abb aap tnsn mtt lena mai apne gardiun se apke bare me jaldi hi baat krungi phir hmm dono milne lge pyar aur badhta gya hmare ghar ke hrr sadasya se baat krti thi mai bhut khus the fhir ek mai use uske x boyfnd se baat krte hua pakd liya mai unhe samjhaya ki dipti ye sbb galat he wo sorry boli mai inn baato ko jyada dhyan nhi Diya hmara relation chalta rha 2 saal ho gye fhir bhi wo apne x bfnd se kbhi kbhj baat kr leti thi mujhe pta tha but mai unse ye sbb nhi bolta ki ek din achanak unke xbf ka call mujhe aaya baate hui ye wo jhagra hua gali galouz hui phone pe phir maine unko warning di ki ye sbb bnd krogi ki mai aapke life se chala jau wo rone lagi sorry bolne lagi mai unhe maaf kiya hmari life aur relation dono thik thak chalte rhe mere site ka kaam abb khatm ho gya tha mai apne business pe dhyan dene lga pair 2 Week se mai unko phone krta tha jbb bhi krta busy wo Kmm krti thi mai puchta kisse baat kr rhi hu mujhe unpe abb skk hone lga ek din mai raat OK 12 baje unhe call kiya busy lagbhag 1 ghante ho gye busy phir wo call ki mai bhut unhe bhut bura bhala kha gali De Di wo bura mann gyi mujhse baat krna bnd kr diya phir mai bhut roya unhe sorry bola manaya 1 Week baad wo mann gyi boli ki aap khi kaam pakroge apna ghar jaldi bnaoge ye wo mai bola mujhe 4 month time dijiye puja khatm hote hi meri jbb lgg jaigi wo mann gyi abb baat kmm hoti thi ek time him milne lge life Me sbb kuch aa gya fhir ek din mai unhe raat 2 bje tkk call kiya busy mai unhe msg kiya dipti abb mai kuch krr lunga phir mai sucide krne ki dhamki di phir bhi call busy tabhi 15 mint ke baad unka msg aaya ki ma masi se baat kr rhi thi mousa ji ka accident Ho gya hai aur tmare pass to din me waqt milta nhi he jbb phn krungi tmare pass custmr rhte he aur raat ko so jane ke baad call kroge bye gdd night subah utha too dekha unka dp pe koi soldiers ka status tha mai unhe chirane ke liye bola ki maidm kya baat he sainik ke baho me sone ka mnn he kya bhagwan aapki icha jald pura kare wo boli thnks phir mai apne dp pe ek pic lagaya ek ladki ka wo boli mast he hot aapke layek perfect hai phir mai unhe call kiya baat hui fhir wo boli amit aapko mere saat rahna he relation me rahiye mai aapse saadi nhi krungi mujhe achanak shocked ho gya rone lga phir call kiya wo boli aap khi kaam krte nhi ho ghar bhi bnwana he ye wo mai bola dipti next month mai job pakar lunga boli tmse kuch nhi hoga jo krna hai kro mai aapse sadi nhi krungi fair mai gusse me bola randi randi hi hoti he jao ma chudao ...aur phn kr diya mai rone laga tisre dinn mai apne dosto ke saat baitha tha ki unki yaad aayi aur mai rone laga phir mera dost use call kiya to wo boli ki wo gali deta hai mai uske saat kaise adjust krungi jiss kmre me wo sota hai usse double to mera bedroom hai mera dost call cut kr diya aur mujhe bola uske tujhe Lemar koi feelings nhi hai usse tu dur rah teri isime bhalai hai mujhse raha nhi gya mai use call kiya wo cut krdi fhir block krdi subah wo call ki 11 bje mai apne dost ko phn de diya bola bol amit nhi h aur unhe Block kr diya fhir bhi 2 din bite mai andar se kamjor mahsus hone laga durr jane ka drr satane laga mai fhir fb pe likha bhut mafi manga yeah wo wo subah seen ki aur Block krdi....aaj 5 din ho gya mujhe abbhi lagta hai wo call kregi msg kregi pagal sa ho gya hu mujhe ye samaj me nhi aa rha hai jis ladki ke saat maine imandari aur lagan se mohabbat ki aaj whi mera saat chor di nikamma kah kr jbki mai apne shop me 30000 monthly income has.... Pta nhi wo kis haal hai plss aa jao dipti mai wo sbb kuch krunga jo aap cahti Ho..... I love you.... Sona
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>