female masturbation
Shutterstock/India Picture

सहेली ने दिया ओर्गास्म का सुख

द्वारा Arpit Chhikara अप्रैल 1, 10:45 पूर्वान्ह
मेघा को इस बात का कोई अंदाज़ा नहीं था कि महिलाएं चरम सुख पाने के लिए क्या करती हैं?  उसने अपनी सहेली विनीता से जब इस बारे में पूछा तो उसने मेघा को उस ‘खास स्पर्श’ के रहस्य बारे में बताया। मेघा ने लव मैटर्स के लेखक अर्पित चिकारा को बताया कि कैसे उसने अपनी सेक्सी कल्पनाओं और नई तरकीबों से ‘खुद को संतुष्ट’  करना सीखा।

20 वर्षीय मेघा एक छात्रा है।

आहें भरना और कराहना

मुझे यह कभी समझ नहीं आया कि फिल्मों में गर्मागर्म सीन के दौरान अभिनेत्रियां ज़ोर ज़ोर से आहें क्यों भरने लगती हैं? महिलाओं को यह मज़ा पाने के लिए क्या करना पड़ता है! ये सिर्फ फिल्मों में अभिनय की बात नहीं हो सकतीI वास्तविक जीवन में भी तो कुछ ऐसा होता होगा जो महिलाओं को चरम सुख पाने में मदद करता होगा। मुझे मेरे इन सवालों का ज़वाब तब मिला, जब कॉलेज की मेरी सहपाठी विनीता ने मुझे उस ख़ास स्पर्श के बारे में बताया और मैंने ख़ुद इसे करने की कोशिश की।

सबसे पहले मैंने अपनी योनि के अंदरूनी हिस्सों पर हाथ फेरना शुरू किया और अंत में क्लिटोरिस तक पहुंच गयी। 20 मिनट तक योनि को रगड़ने और सहलाने के बाद मेरी बांहें और उंगलियां थक गईं लेकिन मुझे कुछ भी महसूस नहीं हुआ। मैं कम से कम एक बार अपने मुंह से वह सेक्सी आवाज सुनना चाहती थी लेकिन मुझे उसमें भी कामयाबी नहीं मिली।

अगले दिन विनीता ने मुझे क्लिटोरिस को उत्तेजित करने की बज़ाय सिर्फ उंगली का इस्तेमाल करने के लिए कहा। एक सप्ताह के अंदर ही मुझे समझ में आ गया कि चरम सुख पाने के दो ही तरीके हैं एक तो योनि में उंगली डालना और दूसरा क्लिटोरिस को सहलाना।

निचले हिस्से पर ध्यान

मेरी कोशिशें बेकार नहीं गई। उस दिन मुझे चरम सुख का अनुभव तो हुआ लेकिन अब भी मेरे मुंह से सेक्सी आहें  नहीं निकली। फिल्मों में मैंने जो देखा था, यह उसके ठीक विपरीत था। सच बताऊं तो मेरे मुंह से कभी भी ऐसी कोई आवाज नहीं निकली। चरम सुख सिर्फ़ महसूस होता है और केवल दो या तीन सेकंड के लिए रहता है। इस दौरान मेरी सांस तेज हो जाती हैं और मेरी जांघें सिकुड़कर मेरे जननांगों के पास आ जाती हैं,जैसे कि वे एक दूसरे को गले लगाने की कोशिश में हों।

विनीता ने मुझे यह भी बताया कि प्रत्येक महिला पर अलग-अलग चीज़ें काम करती हैं। उसने मुझे पोर्न देखकर हस्तमैथुन करने की सलाह भी दी, लेकिन बाएं हाथ में फोन पकड़कर और दाएं हाथ को नीचे व्यस्त रखकर अपने शरीर पर ध्यान केंद्रित करना मेरे लिए खासा मुश्किल साबित हुआI

इसके अलावा मेरे साथ दूसरी समस्या यह थी कि जिस घर में हम रहते हैं, मेरे कमरे के एक तरफ मां का कमरा और दूसरी तरफ मेरे भाई का कमरा है। ऐसे में पोर्न देखते हुए हस्तमैथुन करने का तो सवाल ही नहीं उठता।

ख़ुद को आनंदित करना

मैं जब नहाने जाती हूं तब बाथरूम में ही अपनी शारीरिक ज़रूरतों को पूरी कर लेती हूं। छह महीने से अधिक समय तक ऐसा करने के बाद, चरम सुख तक पहुंचने में अब मुझे ​​दस मिनट की बज़ाय सिर्फ़ तीन से चार मिनट लगते हैं। विनीता अपने हॉस्टल के कमरे में इयरफोन लगाकर अपने बिस्तर पर ही यह सब करती है क्योंकि वह अकेली रहती है।

एक दिन मैं पोर्न देखने के लिए अपने फोन को टॉयलेट में ले गयी, लेकिन यह मुझे अपनी सेक्सी कल्पनाओं से कम मज़ेदार लगा। मैं अपनी कल्पनाओं में ख़ुद को ऐसे आदमी के साथ सेक्स करते हुए सोचती हूँ जिसे मेरे इरादों का पता ही ना हो। ऐसा करने में मुझे बड़ा मज़ा आता।

जब से मैंने वह ‘ख़ास स्पर्श’ करना सीखा है, तब से मैं काफी अलग महसूस कर रही हूं। हमारे कॉलेज की कैंटीन में एक संदेश लिखा है "अपनी सहायता स्वयं करें" और जब मैंने अपने जननांगों के साथ यही किया, तो मुझे बिल्कुल अलग एहसास हुआ, कि मेरी खुशी मेरी उंगलियों में है। जब भी विनीता और मैं उस बोर्ड को देखते हैं, हम एक-दूसरे पर हंसते हैं और पलके झपकाकर इशारों में उस ‘ख़ास स्पर्श’ को याद करते हैं।

गोपनीयता बनाये रखने के लिए नाम बदल दिए गये हैं और तस्वीर में मॉडल का इस्तेमाल किया गया है।

क्या आप ऑर्गेज्म या चरमसुख के बारे में और जानना चाहते हैं?  नीचे टिप्पणी करके या हमारे फेसबुक पेज पर लव मैटर्स (एलएम) के साथ जुड़कर अपने विचार हम तक पहुंचाएंI यदि आपके पास कोई विशिष्ट प्रश्न है, तो कृपया हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से पूछें।


 

Comments
Deepak bete oral sex karne mein koi samsya nahi maslan saaf-safai ka poora dhyan rakha gaya ho aur ismein dono partners ki barab marzi shamil ho toh! Aur behtar hoga yadi condom ka isteml kiya jaye aur yaha padh lijiye : https://lovematters.in/hi/making-love/ways-to-make-love/oral-sex-dos-and-donts https://lovematters.in/hi/making-love/ways-to-make-love/cunnilingus-the-ultimate-dos-and-donts https://lovematters.in/hi/making-love/ways-to-make-love/top-tips-for-the-best-blowjob Yadi aap is mudde par humse aur gehri charcha mein judna chahte hain to hamare disccsion board “Just Poocho” mein zaroor shamil ho! https://lovematters.in/en/forum
Beta koi baat nahi, dont worry. So sabse pehle toh apni partner ki body ko samjh lijiye- unko time dijiye. Aur yadi shareer menin uttejna adhik hogi, sex ki bhavna zyada hogi toh shighrpatan hone ki sambhavna bhi adhik ho sakti hai. Aisee stithi mein, partner par focus badhana, foreplay , pravesh karne se pehle bahut se alag alag kriyaein karna , jinse dono ko aanand mile, apne partner kee uttejna badhana, yeh sab activities sabse zaroori hain. Iske ilava, partner ke saath sex karne se pehle, ek baar hastmaithun kar saktey hain, utne samay pehele jitne mein ling mein tanaav aa jaaye. Condom ka istemaal bhi jaldi discharge kum karne mein madadgaar saabit ho sakta hai. Yaha padhiye: https://lovematters.in/hi/news/premature-ejaculation-top-five-facts https://lovematters.in/hi/making-love/sex-problems-how-to-overcome-them/i-ejaculate-too-soon-help Yadi aap is mudde par humse aur gehri charcha mein judna chahte hain to hamare discussion board “Just Poocho” mein zaroor shamil ho! https://lovematters.in/en/forum
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>