मेरी कहानी

यहाँ लव मैटर्स के पाठक अपने अनुभव लोगों से साझा करते हैं - दिल टूटने से लेकर एक नया रिश्ता जुड़ने तकI अपनी कहानियों को बेझिझक हमसे साझा करेंI 

Do you have a love story or a story in Hindi (Hindi kahani) to share? For any story in Hindi, please write to us below in the comment section. For more stories in Hindi (Hindi Kahaniyan), click here

 

All stories

किसी ने तुम्हे वहां देख लिया होता तो?

'तुम्हारा दिमाग तो ठीक है?' नामित ने गुस्से में चिल्लाते हुए कहा, जब उसे पता चला कि रिद्धिअपनी दोस्त श्वेता के साथ उसके गर्भपात में उसका साथ देने जा रही हैI रिद्धि को समझ नहीं आ रहा था क्या करे - अपनी सबसे अच्छे दोस्त की मदद करें या अपने बॉयफ्रेंड की सुने? आप क्या करेंगे? - क्या दोगे साथ?

गर्भपात में माँ ने मदद की

लावण्या एक आम किशोरी है - मौज-मस्ती करने वाली और चिंता मुक्तI उसे सिर्फ उसक कपड़ों और परीक्षा की चिंता रहती हैI लेकिन एक बात अलग है, वो गर्भवती है, और ज़ाहिर है की वो ये बच्चा नहीं चाहती और गर्भपात ही केवल एक रास्ता हैI

एबॉर्शन के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा था

*सुमन और *अभय केवल कामुक सुख के लिए एक रिश्ते में थेI उनका सेक्स जीवन शानदार था और उस मनहूस दिन तक सब अच्छा चल रहा थाI उस दिन जब सुमन ने अभय को रोते हुए फ़ोन किया थाI

21 वर्ष के होते होते मेरे चार एबॉर्शन हो चुके थे

सुप्रिया का हर रिश्ता अपमानजनक और हिंसात्मक रहा थाI उनकी वजह से उसे एक, दो नहीं बल्कि चार गर्भपातों से गुज़रना पड़ा थाI उसके बाद उसे एहसास हुआ कि उसे कुछ बदलना होगाI आज उसे किसी भी बात का कोई अफ़सोस नहीं है क्यूंकि इस सबकी वजह से उसने अपनी और अपने शरीर का सम्म्मान करना शुरू किया हैI

मैंने अपने शरीर की सुनी, और एबॉर्शन को चुना

पहले प्रसव में हुई जटिलता के अनुभव ने सुभाषिनी को मानसिक रूप से निराशा की अवस्था में ला दिया था। जब उन्हें पता चला कि वो फिर से गर्भवती हैं तो उन्होंने एबॉर्शन का फैसला किया क्योंकि वो फिर से प्रसव की पीड़ा और नींद रहित रातों के लिए तैयार नही थी।

हर गर्भपात पर अफ़सोस हो, ज़रूरी नहीं

मैं शादी के दो महीने बाद ही प्रेग्नेंट हो गयी थीI हम दोनों ही परेशान और नाखुश थेI नवविवाहित जोड़ो की तरह खुशी मनाना तो दूर, हमें तो एबॉर्शन की चिंता सताने लगी थीI

अपनी बेटी के बेहतर भविष्य के लिए मैने एबॉर्शन को चुना।

‘खानदान का चिराग’ देने के परिवार के दबाव के विरुद्ध जाकर मालिनी ने अपने अनचाहे गर्भ का एबॉर्शन करने का फैसला किया- अपनी बेटी के बेहतर भविष्य के लिए।

किशोरावस्था गर्भपात से उभरना

‘‘मैं जिन पलों से गुजरी वह अभी भी मेरे दिमाग में ताजा हैं’’, मुंबई की 24 वर्षीय छात्रा का उस समय के बारे में कहना है जब उन्होंने किशोरावस्था में गर्भपात करवाया।प्रेम प्रसंग की वजह से इतना दर्द और आघात पहुंच सकता था, यह उन्हें बहुत अप्रिय रूप से आश्चर्यजनक लगा।

गर्भपात के बाद कैसे दोबारा जोड़ा हमने अपना रिश्ता

रतन को अपनी गर्लफ्रेंड को डेट करते हुए एक साल हो गया था जब उसे पता चला कि वो गर्भवती है। उन दोनों के पास गर्भपात के अलावा और कोई रास्ता नहीं था। आइये जाने कि कैसे वो दोनों इस दर्दनाक हादसे से उबरे...

वह प्रेगनेंट कैसे हो सकती है!

एक शाम मिथुन और रूचि ने एक-दूसरे के साथ हस्तमैथुन किया। दो दिनों के बाद रूचि ने उसे बताया कि वह प्रेगनेंट हो गयी है। यह सुनकर मिथुन चौंक गया। वास्तव में हुआ क्या था?

विक्रम की बाँहों में पर ख्याल प्रिया का

जबसे निशा ने प्रिया के को किस किया था वह उसके ज़ेहन से जा ही नहीं रही थी और वो अब उसके ख्यालों में हर वक़्त थी। क्या उसे अपने पति विक्रम को इस बारे में बता देना चाहिए?

उस दिन हम बिना कपड़ों के पकड़े गए!

सिया और तरुण ने अपने घर में एक दूसरे के करीब जाने के लिए पांच घंटे से ज़्यादा इंतज़ार किया। लेकिन जैसे ही उन्होंने अपने कपड़े उतारे, तभी कमरे में कोई आ गया। आखिर वह कौन था? आगे क्या हुआ? जानने के लिए पढ़ें पूरी कहानी!