Auntyji
thingkreations

वो आंखें बंद करके किस करता है। क्या मैं उस पर भरोसा कर सकती हूँ?

द्वारा Auntyji जुलाई 11, 12:42 पूर्वान्ह
प्रशन: आंटीजी मैं और मेरा बॉय फ्रेंड सात महीने से साथ हैं। मैंने सुना है की आँख खोल कर किस करने वाले लोगों पर भरोसा नहीं करना चाहिए। क्या यह सच है? विभूति,(19 ) चंडीगढ़

आंटीजी कहती हैं...शाबाश पुत्तर, ये भी काफी दिलचस्प समस्या है। क्या मैं तुझसे पूछ सकती हूँ की तुझसे कैसे पता उसकी आंखें खुली रहती हैं? अगर तूने अपनी आंखें नहीं खोली हैं तो? लेकिन बेटा तेरी आंटी का काम सवाल पूछना नहीं बल्कि जवाब देना है। एक बात तो तू भी मानेगी, अगर किसी के किस करने से उसकी इमानदारी पता चल जाती तो दुनिया में लोगों के साथ प्यार में कभी धोखा नहीं होता।

ये हम इंसानों की फितरत होती है की हम ज्यादा सोचने लगते हैं और उसमे उलझ कर रह जाते हैं। खासकर जब सब कुछ सही चल रहा हो तो ये छोटी मोती बातें दिमाग में आने लगती हैं। मुझे ख़ुशी है की तूने इस बात को लेकर सवाल पुछा है। क्यूंकि बेटा तू ऐसा सोचने वाली अकेली नहीं होगी।

कंसंट्रेशन

आंखें खोलने और बंद करने के बारे में बिलकुल भूल जा और इसका असर अपने रिलेशन पर मत पड़ने दे। लोग अक्सर इस तरह की बातों के चक्कर में पड़ जाते हैं और अपने मन की शांति गवा बैठते हैं।

कई लोगों का मानना है की आंखें बंद रखने से वो पूरा ध्यान चुम्बन पर लगा पाते हैं। हमारे वक़्त में ज्यादा ध्यान किसिंग पर नहीं हुआ करता था, तो मुझे अपनी पसंद तो याद भी नहीं। लेकिन मेरा मानना है की हम में से ज़्यादातर लोगों की आंखें इन्खु नाज़ुक पलों में अपने आप बंद हो ही जाती हैं।

कम्फर्ट

पुत्तर जी, एक सम्भावना ये भी तो है की आंखें बंद करके किस करता हुआ तेरा बॉयफ्रेंड किसी और के बारे में सोच रहा हो, आंखें खोलकर ये यकीन तो होगा की उसका दिल में और दिमाग में तू ही है। हालाँकि मैं इस बात पर यकीन नहीं करती। असल बात ये है बेटा की ये तुम दोनों के कम्फर्ट का मामला है। अगर ये बात तुझे बहुत परेशान करती है तो इस बारे में अपने बॉय फ्रेंड से बात करने में भी कोई हर्ज़ नहीं है। लेकिन पहले ज़रा ठन्डे दिमाग से सोच ले।

सेक्स से ज़्यादा पर्सनल

विभूति बेटा, तुझे फिक्र तब होनी चाहिए जब तेरा बॉयफ्रेंड तुझे नज़र अंदाज़ करे। किसिंग तो सेक्स से भी ज्यादा पर्सनल है। दोनों इसमें तल्लीन हो तो ही अच्छा है, फिर चाहे आंखें खुली हो या बंद।

भरोसे के साथ ये रेस्पेक्ट की भी बात है। यदि एक इंसान पूरी तरह से इन्वोल्वेद है, और दुसरे की तरफ से बराबर रिस्पांस नहीं है, तो ये उस इन्स्सन की भावनाओ का अनादर है। और अगर मसला ये है, तो दोनों को बात करनी चाहिए। तो बेटा चाहे आंखें बंद कर या मत कर, दिल से किस कर। इसके अलावा किसी बात की परवाह करने की ज़रूरत नहीं है तुझे! आंटी जी, thinqkreations

अगर आपको प्यार, से या रिश्तों से जुडे किसी भी सवाल पर आंटी जी की सलाह चाहिए तो ईमेल करिए आंटी जी को।

आंटीजी कहती हैं...शाबाश पुत्तर, ये भी काफी दिलचस्प समस्या है। क्या मैं तुझसे पूछ सकती हूँ की तुझसे कैसे पता उसकी आंखें खुली रहती हैं? अगर तूने अपनी आंखें नहीं खोली हैं तो? लेकिन बेटा तेरी आंटी का काम सवाल पूछना नहीं बल्कि जवाब देना है। एक बात तो तू भी मानेगी, अगर किसी के किस करने से उसकी इमानदारी पता चल जाती तो दुनिया में लोगों के साथ प्यार में कभी धोखा नहीं होता।

ये हम इंसानों की फितरत होती है की हम ज्यादा सोचने लगते हैं और उसमे उलझ कर रह जाते हैं। खासकर जब सब कुछ सही चल रहा हो तो ये छोटी मोती बातें दिमाग में आने लगती हैं। मुझे ख़ुशी है की तूने इस बात को लेकर सवाल पुछा है। क्यूंकि बेटा तू ऐसा सोचने वाली अकेली नहीं होगी।

कंसंट्रेशन

आंखें खोलने और बंद करने के बारे में बिलकुल भूल जा और इसका असर अपने रिलेशन पर मत पड़ने दे। लोग अक्सर इस तरह की बातों के चक्कर में पड़ जाते हैं और अपने मन की शांति गवा बैठते हैं।

कई लोगों का मानना है की आंखें बंद रखने से वो पूरा ध्यान चुम्बन पर लगा पाते हैं। हमारे वक़्त में ज्यादा ध्यान किसिंग पर नहीं हुआ करता था, तो मुझे अपनी पसंद तो याद भी नहीं। लेकिन मेरा मानना है की हम में से ज़्यादातर लोगों की आंखें इन्खु नाज़ुक पलों में अपने आप बंद हो ही जाती हैं।

कम्फर्ट

पुत्तर जी, एक सम्भावना ये भी तो है की आंखें बंद करके किस करता हुआ तेरा बॉयफ्रेंड किसी और के बारे में सोच रहा हो, आंखें खोलकर ये यकीन तो होगा की उसका दिल में और दिमाग में तू ही है। हालाँकि मैं इस बात पर यकीन नहीं करती। असल बात ये है बेटा की ये तुम दोनों के कम्फर्ट का मामला है। अगर ये बात तुझे बहुत परेशान करती है तो इस बारे में अपने बॉय फ्रेंड से बात करने में भी कोई हर्ज़ नहीं है। लेकिन पहले ज़रा ठन्डे दिमाग से सोच ले।

सेक्स से ज़्यादा पर्सनल

विभूति बेटा, तुझे फिक्र तब होनी चाहिए जब तेरा बॉयफ्रेंड तुझे नज़र अंदाज़ करे। किसिंग तो सेक्स से भी ज्यादा पर्सनल है। दोनों इसमें तल्लीन हो तो ही अच्छा है, फिर चाहे आंखें खुली हो या बंद।

भरोसे के साथ ये रेस्पेक्ट की भी बात है। यदि एक इंसान पूरी तरह से इन्वोल्वेद है, और दुसरे की तरफ से बराबर रिस्पांस नहीं है, तो ये उस इन्स्सन की भावनाओ का अनादर है। और अगर मसला ये है, तो दोनों को बात करनी चाहिए। तो बेटा चाहे आंखें बंद कर या मत कर, दिल से किस कर। इसके अलावा किसी बात की परवाह करने की ज़रूरत नहीं है तुझे! आंटी जी, thinqkreations

अगर आपको प्यार, से या रिश्तों से जुडे किसी भी सवाल पर आंटी जी की सलाह चाहिए तो ईमेल करिए आंटी जी को।

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>