Urinary Tract Infections
Shutterstock/dizain

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन: लक्षण, कारण, रोकथाम और इलाज

आपको बार-बार पेशाब करने की इच्छा होती है। आप इसकी सनसनाहट से डर जाते हैं क्योंकि आपको पता है कि पेशाब करते समय आपको जलन होने वाली है। हो सकता है, आप पेशाब से पहले या इस दौरान पेट में दर्द या दबाव भी महसूस कर रहे हों। यह समस्या सुनने में जानी पहचानी सी लगती है ना? अगर हां..तो आप यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई) से जूझ रहे हैं।

पेशाब में बैक्टीरिया होने के कारण यूटीआई आपके यूरिनरी सिस्टम के किसी भी हिस्से जैसे ब्लैडर, किडनी, यूरेटर्स और यूरेथ्रा को प्रभावित कर सकता है। आमतौर पर, संक्रमण मूत्रमार्ग और मूत्राशय को प्रभावित करता है, लेकिन अगर इस पर ध्यान न दिया जाए तो यह यूरिनरी ट्रैक्ट के अन्य भागों में भी फैल सकता है। यूटीआई बेहद आम हैं, हर साल करीबन 80 लाख लोगों को इलाज की जरूरत पड़ती है। हालांकि, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में यह समस्या अधिक होती है। केवल 12% पुरुषों की तुलना में लगभग 60% महिलाएं अपने जीवनकाल में कम से कम एक बार यूटीआई का अनुभव करती हैं।

ये संक्रमण बहुत आम हैं और डायबिटीज और मोटे लोगों जैसे अधिक जोखिम वाले समूहों में यह समस्या बार-बार होने की संभावना को देखते हुए, इससे बचने के लिए लक्षण, कारण, रोकथाम और इलाज के बारे में जानना जरूरी है।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (मूत्रमार्ग में संक्रमण) क्या है?

आमतौर पर,इंसानों  के पेशाब में बैक्टीरिया या रोगाणु नहीं होते हैं। यह शरीर के फिल्टरेशन सिस्टम का बाई-प्रोडक्ट है। जब किडनी रक्त से अनवांछित पदार्थों और अतिरिक्त पानी को छानती है, तो पेशाब बनता है। हालांकि इसमें कुछ विषाक्त पदार्थ हो सकते हैं लेकिन आमतौर पर पेशाब में किसी भी तरह के बैक्टीरिया या हानिकारक कीटाणु नहीं होते हैं।

यह मूत्र मार्ग को बिना दूषित किए उससे होकर गुजरता है। हालांकि, जब पेशाब बैक्टीरिया से संक्रमित होता है, तो यह यूरिनरी ट्रैक्ट के अन्य अंगों में सूजन और संक्रमण पैदा सकता है। इस संक्रमण को यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन या यूटीआई के नाम से जाना जाता है।

यूटीआई के लक्षण

यूटीआई के लक्षण हर व्यक्ति में अलग हो सकते हैं, जो यूरिनरी ट्रैक्ट के भाग के साथ-साथ इंफेक्शन की गंभीरता पर निर्भर करता है। पुरुषों और महिलाओं में इसका अनुभव भी अलग-अलग हो सकता है।

यह कहा जा सकता है कि इस समस्या से जूझने वाले लोग कुछ सामान्य लक्षणों का भी अनुभव करते हैं। यूटीआई के सबसे स्पष्ट लक्षण ये हैं:

  • बार-बार पेशाब करने की इच्छा होना
  • पेशाब करते समय जलन महसूस होना
  • केवल थोड़ी मात्रा में पेशाब कर पाना
  • पेशाब में परिवर्तन यानी पेशाब का रंग धुंधला या लाल, चमकीला गुलाबी या भूरा। बाद में पेशाब में खून आना भी इसी का संकेत हो सकता है
  • पेशाब में तेज दुर्गंध आना
  • महिलाओं में पेल्विक में दर्द और पुरुषों में लिंग में दर्द

अगर इस संक्रमण में किडनी शामिल है, तो ये लक्षण भी नजर आ सकते हैं:

  • पीठ या फ्लैंक (बगल) में दर्द 
  • ठंड लगना
  • बुखार
  • उल्टी या जी मिचलाना 

अगर इस संक्रमण में मूत्राशय शामिल है, तो ये लक्षण महसूस हो सकते हैं:

  • पेल्विक क्षेत्रों में दबाव या दर्द
  • पेट के निचले हिस्से में बेचैनी
  • पेशाब में खून आना

अगर इस संक्रमण में युरेथ्रा (मूत्रमार्ग) शामिल है, तो ये लक्षण नजर आ सकते हैं:

  • पेशाब करते समय जलन महसूस होना
  • मूत्रमार्ग से स्राव

पुरुषों में यूटीआई

पुरुषों में यूटीआई महिलाओं की तुलना में बहुत कम होता है। यह मूत्रमार्ग के खुले सिरे जो कि लिंग के मुख पर होता है और मूत्राशय के बीच की अधिक दूरी के कारण होता है। प्रोस्टेट ग्रंथि से स्राव भी बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकता है, जिससे आगे चलकर यूटीआई का जोखिम कम हो जाता है।

फिर भी, पुरुषों को भी यूटीआई हो सकता है। निम्न मामलों में जोखिम और बढ़ जाता है:

  • पथरी
  • डायबिटीज
  • प्रोस्टेट बढ़ना
  • इम्यूनिटी कमजोर होना
  • खतना
  • असुरक्षित यौन संबंध

पुरुषों में यूटीआई की रोकथाम

कुछ अच्छी आदतों को अपनाने और अपने शरीर की साफ सफाई पर ध्यान देने से अधिक जोखिम वाले पुरुषों को संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकती है। इसमें शामिल है:

  • पेशाब को ज्यादा देर तक रोक कर न रखना
  • डिहाइड्रेशन से बचने के लिए पर्याप्त पानी और तरल पदार्थ का सेवन करना 
  • मूत्रमार्ग में प्रवेश करने वाले बैक्टीरिया को बाहर निकालने के लिए सेक्स के बाद पेशाब करना
  • दवा के साथ डायबिटीज जैसी समस्याओं को नियंत्रित करना और स्वस्थ जीवन शैली अपनाना

महिलाओं में यूटीआई

महिलाओं को अपने वयस्क जीवन में कम से कम एक बार यूटीआई होने की 60% संभावना होती है। महिलाओं में, मूत्रमार्ग और गुदा के बीच कम दूरी होने के कारण ई.कोलाई जैसे बैक्टीरिया के मूत्रमार्ग में प्रवेश करने की संभावना बढ़ जाती है। चूंकि मूत्रमार्ग छोटा होता है, इसलिए इन बैक्टीरिया के मूत्राशय में जाने और यूरिनरी ट्रैक्ट के अन्य भागों में फैलने की संभावना भी अधिक होती है। इसके अलावा, हार्मोनल बदलाव, विशेष रूप से मेनोपॉज के दौरान भी यूटीआई होने का खतरा बढ़ सकता है। 

चूंकि संक्रमण का जोखिम अधिक होता है, इसलिए महिलाओं को संक्रमण से बचने के लिए सुरक्षा उपाय करने के लिए अधिक सक्रिय होने की आवश्यकता है। यह जोखिम इन मामलों में और बढ़ सकता है:

  • गर्भावस्था के कारण यूरिनरी ट्रैक्ट पर दबाव बढ़ने के कारण 
  • मेनोपॉज के दौरान या बाद में हार्मोनल परिवर्तन के कारण
  • पेल्विक प्रोलैप्स के कारण मूत्राशय को खाली करने में अधिक कठिनाई होती है
  • डायबिटीज
  • मोटापा
  • इम्यूनिटी कमजोर होना
  • स्पर्मिसाइड और डायाफ्राम जैसे जन्म नियंत्रण उपायों का इस्तेमाल

महिलाओं में यूटीआई की रोकथाम

पुरुषों के लिए निर्धारित स्वच्छता और जीवन शैली की आदतों का पालन करने के अलावा, महिलाओं को भी इन बातों पर ध्यान देना चाहिए:

  • गुदा से बैक्टीरिया को मूत्रमार्ग के संपर्क में आने से रोकने के लिए अपने निजी अंगों को आगे से पीछे तक पोंछना / धोना
  • योनि के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखना, विशेष रूप से मेनोपॉज के दौरान और बाद में
  • वैकल्पिक जन्म नियंत्रण विकल्पों का उपयोग करना जैसे लुब्रिकेटेड कंडोम

क्या यूटीआई एक यौन संचारित संक्रमण है?

भले ही यूटीआई के लक्षण, क्लैमिडिया और गोनोरिया जैसे यौन संचारित रोगों के लक्षणों जैसे कि पेशाब के दौरान दर्द, जलन और बुखार आदि से मिलते जुलते हों लेकिन यूटीआई संक्रामक नहीं हैं और सेक्सुअल पार्टनर के बीच नहीं फैलता है।

हालांकि, सेक्सुअल एक्टिविटी में शामिल होना, चाहे वह पेनिट्रेटिव हो,ओरल या मैनुअल सेक्स हो, यह असुविधा और यूटीआई के लक्षणों को बढ़ा सकता है। जैसे कि, इंटरकोर्स के दौरान योनि की दीवारों पर दबाव के कारण मूत्राशय पर भी दबाव पड़ सकता है, जिससे संक्रमित व्यक्ति को यूटीआई के कारण तेज दर्द हो सकता है।

सेक्स के दौरान चाहे आप सुरक्षा का इस्तेमाल करें या ना करें, यह यूरिनरी ट्रैक्ट में अधिक बैक्टीरिया के प्रवेश करने का जोखिम बढ़ा सकता है, जिससे संक्रमण बदतर हो सकता है या ठीक होने में अधिक समय लग सकता है। यहाँ तक कि ओरल सेक्स और हैंड जॉब के दौरान भी यही जोखिम रहता है।

जब तक संक्रमण पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता, तब तक सेक्स करने से बचना चाहिए।

यूटीआई का इलाज

यदि आप यूटीआई के लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो आपको जल्दी इलाज शुरू कराना चाहिए। पेशाब में बैक्टीरिया और मवाद कोशिकाओं की मौजूदगी का पता करने के लिए यूरोलॉजिस्ट आपका यूरिन कल्चर जैसे टेस्ट के आधार पर जांच करेंगे। संक्रमण के प्रकार और गंभीरता के आधार पर, डॉक्टर संक्रमण को दूर करने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का एक कोर्स लिखेंगे।

इसके अलावा, आप रिकवरी प्रक्रिया में सहायता के लिए कुछ घरेलू उपचार भी आजमा सकते हैं:

  • खूब पानी और तरल पदार्थ पिएं
  • खाद्य पदार्थों या सप्लीमेंट के जरिए विटामिन सी का अधिक सेवन करें
  • दही जैसे प्रोबायोटिक्स को अपने आहार में शामिल करें
  • यदि आप बार-बार यूटीआई से जूझते हैं, तो अपने आहार में डी-मैनोस, लहसुन के एक्सट्रेक्ट और बियरबेरी के पत्तों जैसे नैचुरल सप्लीमेंट शामिल करें।

यूटीआई परेशान करने वाला और कष्टकारी होता है, लेकिन यदि इसका समय पर इलाज किया जाए, तो इससे कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्या पैदा नहीं होती है। अपने निजी अंगों की साफ सफाई पर ध्यान देने और जीवन शैली की आदतों में सुधार करके, आप यूटीआई को काफी हद तक कम कर सकते हैं।

पहचान की रक्षा के लिए, तस्वीर में व्यक्ति एक मॉडल है और नाम बदल दिए गए हैं।

कोई सवाल? नीचे टिप्पणी करें या हमारे चर्चा मंच पर विशेषज्ञों से पूछें। हमारा फेसबुक पेज चेक करना ना भूलें। हम Instagram, YouTube  और Twitter पे भी हैं!

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>