Sexy couple below the waist
Nejron Photo / Shutterstock

आकर्षक लिंग, कामुक योनि: आखिर गुप्तांगों के बारे में खुद हम इतना ध्यान क्यों देते हैं?

द्वारा Sarah Moses जून 22, 09:45 पूर्वान्ह
एक अंतराष्ट्रीय अध्यन के अनुसार अपने खुद के गुप्तांगों के बारे मेंसोचना सेक्स को बेहतर बना देता हैI

हम सभी अपने रूप रंग को लेकर काफी जागरूक रहते हैं, खासकर पहली कुछ मुलाकातों परI मेकअप करते हैं, कपड़ों का चुनाव काफी सोच समझ कर करते हैं, खुद को सैकड़ों बार शीशे में निहारते हैंI अपनी दिखावट के बारे में अच्छा महसूस करना हमारे आत्मविश्वास को बढ़ा देता हैI

लेकिन मेकअप और कपड़ों के बिना आओ कैसे दिखते हैं? विशेषकर- की पतलून के अंदर आप कितने अच्छे दिखते हैं? क्या अपने गुप्तांगों के बारे में अच्छा महसूस करना महत्वपूर्ण है?

जी हाँ, बिलकुल! इस नए अध्यन से निष्कर्ष निकला- और इसमें कोई आश्चर्य नहीं! अपने गुप्तांगों को के आकर्षक होने का भरोसा बिस्तर में आपके आत्मविश्वास को नए आयाम तक पहुंचा देने में सक्षम हैI बात का सार ये है की इस भरोसे ने आपका सेक्स जीवन बेहतर हो सकता हैI

रिसर्चकर्ताओं  ने 3000 समलैंगिक और विषमलैंगिक महिला और पुरुषों से इंग्लैंड, अमरीका और ऑस्ट्रेलिया में पुछा की क्या वो अपने गुप्तांगों को आकर्षक मानते हैं या नहीं? उनसे उनके सेक्स जीवन से जुड़े सवाल भी पूछे गएI

गुप्तांगों का आत्म विश्वास

निष्कर्ष? जो लोग अपने गुप्तांगों को आकर्षक मानते हैं, उनका सेक्स जीवन बेहतर होता हैI यदि आपके नज़रिये में आपके गुप्यान्द आकर्षक हैं, तो आप बिस्तर में खूबसूरत और आकर्षक महसूस करते हैं और बिना ज़रूरत से ज़्यादा  सचेत हुए आप सेक्स का खुलकर मज़ा ले पाएंगेI

और यदि आपक अकेले हैं और ज़्यादा सेक्स नहीं करते हैं तो अपने जनांगों का आत्मविश्वास आपको नए लोगों या संभावित पार्टनर के सामने ज़्यादा आश्वस्त महसूस करायेगा, पतलून पहन कर भीI

और शायद इसी बात का फायदा उठती हैं वो कंपनियां जिनके विज्ञापन लिंग को बड़ा और आकर्षक बनाने का दवा करते हैंI और कटी देशों में महिलाओं के जननांगों की शल्य चिकित्सा काफी लोकप्रिय होती जा रही हैI

और आखिर लोग क्यों इस बारे में न सोचें,आखिर जननांग सीधे तौर पर सेक्स से जुड़े हुए हैंI

पैमाना, आकार और रंग

एक महत्वपूर्ण बात यह है की दरअसल इस बात का कोई अमेहेत्वा नहीं है की गुप्तांग कितना बड़ा, या आकर्षक है, असर सिर्फ अपनी सोच और आत्मविश्वास का ही पड़ता हैI और दुर्भाग्यपूर्ण तथ्य ये है की बहुत से लोग अपने गुप्तांगों ली दिखावट से खुश नहीं रहतेI

लेकिन आखिर लोगों के मन में हीनता के ये भाव आते कहाँ से हैं?क्यूंकि गुप्तांग तो शरीर के ढके हुए हिस्सों तक ही सीमित रहते हैंI

खासकर महिलोएं के मामले में, समस्या का एक हिस्सा इस बात से पैदा होता है की किताबों और मॅगज़ीनो में योनि का आकर और दिखावट बहुत से प्रकार की दिखाई जाती हैI योनि कई आकारों, मापों और रंगों में होती है और टीवी और मैगज़ीन में दिखने वाली योनि के सही आकार, माप और रंग के बारे में महिलाएं एक राय नहीं बना पाती, ऐसा शोधकर्ताओं का मानना हैI

इस अध्यन का सारांश वर्ल्ड एसोसिएशन फॉर सेक्स हेल्थ की वेबसाइट पर पी.डी.एफ फॉर्मेट में उपलब्ध हैI

अपने जनांगों के बारे में सोच कर अपना सेक्स जेव्वं ख़राब न करेंI अपनी राय हमें यहाँ बताएं या फेसबुक पर इस चर्च में हिस्सा लेंI

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>