‘Addicted’ to Masturbation?
Shutterstock/Just dance

क्या आप हस्तमैथुन करने के 'आदी' हैं? पढ़िए ये टिप्स

'मैं दिन में 4 से 5 बार हस्तमैथुन करता हूं, क्या यह बहुत ज़्यादा है!', 'मैं रोज हस्तमैथुन नहीं करना चाहता हूं' 'हस्तमैथुन करने की इच्छा को कैसे कंट्रोल करें?' 'कितनी बार करने पर ज्यादा माना जाएगा?' अगर इनमें से आपके मन में कोई भी सवाल है, तो लव मैटर्स पर पढ़ें इससे जुड़े कुछ उपयोगी टिप्स और ट्रिक्स।

लत या डिसफंक्शन

हस्तमैथुन को लेकर कई सारे मिथक हैं इसलिए लत शब्द को यौन सुख के इस आनंद से जोड़ना फ़िज़ूल है। सबसे पहले यह समझना जरूरी है कि हस्तमैथुन शारीरिक संतुष्टि की बिल्कुल सामान्य गतिविधि है। यह यौन तनाव को दूर करने में मदद करता है और आत्म-सुख देता है। आपका रिलेशनशिप स्टेटस चाहे जो भी हो, हस्तमैथुन केवल एक प्राकृतिक चीज़  ही नहीं बल्कि यह सेहत के लिए कई मायनों में फायदेमंद भी है।

यह फील-गुड केमिकल्स को रिलीज करने, तनाव को कम करने, अच्छी नींद लाने और मूड को बेहतर बनाने में मदद करता है। साथ ही यह आपकी खुद की यौन जरूरतों, पसंद और नापसंद के बारे में  जानने में मदद करता है। इसलिए वैज्ञानिक रूप से कहें तो जब तक आप इसे किसी सार्वजनिक स्थान में नहीं करते  हैं, तब तक हस्तमैथुन हेल्दी और सामान्य गतिविधि है। साथ ही हस्तमैथुन करने की कोई  सीमा निर्धारित नहीं है।

हालांकि, हमें यह समझने की जरूरत है कि हस्तमैथुन कब डिसफंक्शन में बदल जाता है। लत और डिसफंक्शन के बीच महीन अंतर है। हम लत लगना उन चीजों के लिए इस्तेमाल करते हैं हैं जो हमारे शरीर के लिए अच्छी नहीं होती हैं जैसे शराब और ड्रग्स।। लेकिन हस्तमैथुन के मामले में ऐसा नहीं है। बेशक, सोने और खाने की तरह ही, हस्तमैथुन एक हेल्दी और ज़रूरी चीज है। लेकिन सोने और खाने की ही तरह अगर आप इसे भी हद से ज़्यादा बार करते हैं, तो यह डिसफंक्शन में बदल सकता है। आसान शब्दों में कहें तो, जब हम दूसरी जरूरी चीजों या रिश्तों की बजाय हस्तमैथुन को ज़्यादा प्राथमिकता देते हैं, तब निश्चित तौर पर हमें इसके बारे में सोचने की जरूरत है।

इससे जुड़े गंभीर संकेत क्या हैं, जिन पर आप नजर रख सकते हैं? सबसे जरूरी बात यह है कि आप हस्तमैथुन को डिस्फंक्शन की सीमा तक जाने से कैसे रोक सकते हैं आइए जानते हैं इन सवालों के जवाब।

इन लक्षणों पर रखें नजर

  •  हस्तमैथुन पर्सनल या प्रोफेशनल लाइफ को प्रभावित करता है और आपका बहुत समय लेता है।
  • हस्तमैथुन करने से आप खुद को नहीं रोक पाते हैं इसलिए अपने निजी स्थान पर न होने के बावजूद भी आप आत्म संतुष्टि के लिए सार्वजनिक जगहों या किसी भी जगह हस्तमैथुन करने लगते हैं।
  • भावनात्मक परेशानी या तनावपूर्ण स्थिति में हस्तमैथुन करने की आदत
  • जननांगों में जलन या घाव महसूस होना
  • जननांग की सेंसिविटी कम होना, जिसके कारण ऑर्गेज्म तक पहुंचने में कठिनाई होती है।
  • पार्टनर के साथ यौन क्रिया में दिलचस्पी न होना
  • हस्तमैथुन करने के बाद शर्म या अपराध बोध महसूस करना
  • चाहने के बावजूद बार-बार हस्तमैथुन करने से खुद को रोक न पाना।

कंपल्सिव मास्टरबेशन (हस्तमैथुन की तीव्र इच्छा) के कारण

चूंकि कंपल्सिव हस्तमैथुन किसी मौजूदा समस्या या मानसिक रोग का लक्षण माना जाता है, इसलिए इसके संभावित कारणों को समझना जरूरी है, जिसमें शामिल हैं:

  • डिप्रेशन या चिंता जैसी मानसिक समस्या, जिसमें व्यक्ति को अपना मूड ठीक रखने या तनाव से राहत पाने के लिए एक टूल के रूप में हस्तमैथुन का उपयोग करना पड़ता है लेकिन यह नियंत्रण से बाहर हो जाता है
  • लत के व्यवहार के प्रति न्यूरोबायोलॉजिकल प्रीडिस्पोजिशन
  • पुराना इमोशनल ट्रामा और दर्द जिससे अभी आप उबर न पाए हों
  • आपके साथ हुआ शारीरिक या यौन शोषण
  • परिवार के अन्य सदस्यों को बिहेेवियरल एडिक्शन की समस्या होना 
  • पोर्नोग्राफ़ी देखने में आसानी और उस पर हद से ज़्यादा निर्भरता

कंपल्सिव मास्टरबेशन (हस्तमैथुन) को कंट्रोल करने के लिए टिप्स

यदि आप या आपका कोई परिचित एक्सेसिव और कंपल्सिव मास्टरबेशन से इस हद तक जूझ रहा है कि इससे ज़िंदगी की दूसरी चीजें प्रभावित होने लगी हैं, तो नीचे दिए गए तरीके से आप इस आदत को कंट्रोल में ला सकते हैं और आसानी से इस पैटर्न को तोड़ सकते हैं:

  • छोटी शुरूआत करें, पोर्नोग्राफी देखना बंद करें और अपनी एनर्जी को दूसरे हेल्दी कामों में लगाएं जिससे दिमाग में वही फील-गुड केमिकल रिलीज होगा, जैसे की एक्सरसाइज। इसके अलावा आपको जिसमें मजा आता हो ऐसी एक्टिविटी करें और अपने शौक पूरे करें।
  • हस्तमैथुन करने के ख्याल से बचने के लिए अपने दिमाग को व्यस्त रखें और सामाजिक गतिविधियों में अपना समय दें
  • सहायता समूहों में शामिल होने के बारे में सोचें। अपने जैसे ही कंपल्सिव जरूरत से निपटने वाले लोगों के साथ बातचीत करने से आपको इस समस्या से उबरने में मदद मिल सकती है साथ ही अपराधबोध और शर्म की भावना भी दूर होगी जिससे आप नकारात्मक व्यवहार करने से बच सकते हैं।
  • कंपल्सिव हस्तमैथुन की इच्छा के मूल कारण तक पहुंचने के लिए थेरेपी की मदद लें और किसी विशेषज्ञ से बातचीत करें। कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी (सीबीटी) जैसे टूल के माध्यम से, प्रशिक्षित थेरेपिस्ट आपको पुराने इमोशनल ट्रामा से बाहर निकालने में मदद कर सकते हैं, अनहेल्दी पैटर्न से छुटकारा दिलाकर आपको हेल्दी चीजों से जोड़ सकते हैं।

हस्तमैथुन करने की तेज इच्छा का आपके ज़िंदगी पर हावी होना या अपने किसी परिचित को इससे जूझते हुए देखना बहुत ही दुखदायी हो सकता है। लेकिन सही सहायता से आप इससे उबर सकते हैं। तब तक, अपने साथ नरम व्यवहार करें और तनाव मुक्त रहें।

कोई सवाल? हमारे फेसबुक पेज पर लव मैटर्स (एलएम) के साथ उसे साझा करें या हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से पूछें। हम Instagram, YouTube  और Twitter पे भी हैं!

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>