myths on condoms
Shutterstock/Nopphon_1987

कंडोम: सेक्स मिथ्या तोड़ो

द्वारा Sarah Gehrke जनवरी 13, 01:22 पूर्वान्ह
सेक्स से जुडे मिथ्या सबसे ज़यादा खतरनाक होते हैं। तो हाज़िर है सेक्स मिथ्या तोड़ श्रंखला के एक और लेख! कंडोम एक सबसे ज़यादा इस्तेमाल होने वाला गर्भनिरोधन का तरीका है और सेक्स संक्रमित रोग से बचाव भी करता है।

लेकिन क्या कंडोम इस्तेमाल करने से सेक्स का मज़ा कम हो जाता है? क्या कंडोम हमेशा काम करता है? क्या दो कंडोम का इस्तेमाल करना चाहिए? क्या आपका लिंग कंडोम के नाप से काफी ज़यादा बड़ा है? ये सब और बहुत कुछ...

'मेरा स्वस्थ्य, मेरा चुनाव' श्रंखला के अंतर्गत पेश है ये लेख।

इस हफ्ते का विषय है गर्भनिरोधन।

वैसे, हैम यहाँ बात कर रहे है ज़्यादातर इस्तेमाल होने वाले पुरुष कंडोम कि, लेकिन महिला के कंडोम भी होते हैं जो कि योनि के अंदर पहने जाते हैं।

 

मिथ्या 1: कंडोम का इस्तेमाल सेक्स का मूड ख़राब कर देते हैं और दोनों साथियों के लिए उत्तेजना का मज़ा भी।

कंडोम का इस्तेमाल आपके उस ख़ास पल को बिलकुल ख़राब नहीं करता। उदहारण के तौर पर, आप कंडोम पहनने कि प्रक्रिया को फोरेप्ले का हिस्सा बना सकते हैं। हमारी ख़ास टिप्स पढ़िए इस बारे में!

 

कंडोम बहुत अलग-अलग साइज़, आकार, रंग, बनावट और स्वादों में आते हैं, तो आप इस तरह कि विविधिता का पूरा मज़ा उठा सकते हैं!

और कंडोम असल में सेक्स का मज़ा और बढ़ा भी सकते हैं। एक नए शोध के अनुसार कंडोम पुरुष के लिंग कि संवेदनशीलता को थोडा कम करता है। लेकिन उन पुरुषों के लिए जिन्हे लगता है कि उनका वीर्यपात जल्दी हो जाता है, उनके लिए कंडोम का इस्तेमाल मददगार साबित हो सकता है।

 

सबसे ज़रूरी बात तो यह है कि आपके दिमाग में कोई भी चिंता आपके सेक्स का मज़ा खराब कर सकती है। अगर आप रिलैक्स होकर सेक्स करेंगे, वो भी बिना गर्भवती होने के डर से या किसी तरह से यौन संक्रमण रोग के डर से तो आप सेक्स का पूरा मज़ा ले पाएंगे।

 

मिथ्या 2: कंडोम इस्तेमाल कि ज़रूरत नहीं है अगर वो वर्जिन है।

जब आप पहली बार सेक्स करते हैं, तब भी गर्भवती होने का और सेक्स संक्रमित रोग होने कि सम्भावना होती है। अनचाहे गर्भधारण से और यौन संक्रमित रोग से बचने का केवल एक ही तरीका है, और वो है कंडोम का इस्तेमाल जिसमे पुरुष और महिला दोनों के कंडोम शामिल हैं। पढ़िए:पहली बार सेक्स

 

मिथ्या 3: दो कंडोम का इस्तेमाल करना ज़यादा सुरक्षित है।

एक समय पर दो कंडोम का इस्तेमाल बहुत ही बेकार विचार है, क्यूंकि फिर तो कंडोम के फटने कि सम्भावना बढ़ जाती है। कंडोम का इस्तेमाल इस तरीके से करने के लिए बना भी नहीं है - और अगर ऐसा होता तो कंडोम बनाने वाले डबल कंडोम भी बना देते!

 

एक कंडोम का इस्तेमाल उतना सुरक्षित है जितना वो हो सकता है - ज़रूरी है इसका सही से इस्तेमाल!

 

मिथ्या 4: कंडोम आसानी से फट सकते हैं और सेक्स करते समय आसानी से बाहर फिसल भी सकता है।

अधिकतर किस्सों में, जहाँ कंडोम फट जाता है या फिसल कर बाहर आ जाता है, ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि कंडोम सही तरीके से पहना ही नहीं होता है। उदहारण के तौर पर, तैल रुपी चिकनाई पदार्थ से कंडोम फट सकता है। लेकिन कंडोम को सही से इस्तेमाल करने से, कंडोम के प्रभावशाली ना होने कि सम्भावना केवल 3 प्रतिशत रह जाती है।

 

सिर्फ यह जानना ज़रूरी है कि कंडोम को ठीक तरीके से कैसे पहने - कंडोम पहनने कि जानकारी के बारे में पढ़िए और साथ में सुरक्षा कि टिप्स भी।

 

मिथ्या 5: कंडोम इस्तेमाल से आपको कैंसर हो सकता है या आपके स्पर्म (शुक्राणु) पर भी असर दाल सकता है।

कंडोम के इस्तेमाल से जुड़े हुए कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं हैं। इसका इस्तेमाल पूरी तरह सुरक्षित हैं और यह तो आपको अनचाहे गर्भधारण से और यौन संक्रमित रोग से बचाता है, जिसमे ग्रीवा सम्बन्धी कैंसर भी शामिल है, और निष्फलता भी। जहाँ तक वीर्यपात का सवाल है, जब कंडोम का इस्तेमाल होता है, तब भी पुरुष का वीर्यपात बिलकुल नॉर्मल होता है, इसलिए ऐसा नहीं है कि आपका शुक्राणु लिंग में ही नहीं अटक सकता!

 

मिथ्या 6: जब कंडोम सेक्स के बीच में फिसल जाता है, तो महिला कि योनि या गर्भाश्य में ही गुम हो जाता है।

अगर कंडोम को सही तरीके से पहना जायेगा या उतारा जायेगा, तो उसके फिसल जाने कि सम्भावना बहुत कम होती है। लेकिन अगर ऐसा होता भी है, तो उसको योनि के अंदर से बाहर निकालना बहुत आसान होता है। आप खुद अपने हाथ से उसे निकाल सकते हैं। और अगर ना भी कर पाएं, तो अपने डॉक्टर के पास जाकर आप उनकी मदद लेकर इसे निकाल सकते हैं। लेकिन, क्यूंकि कंडोम फिसल जाने से शुक्राणु शायद योनि अंदर चला गया हो, तो आपातकालीन गर्भनिरोधन लेना ना भूलें।

 

मिथ्या 7: जिन लोगों को रबड़ से एलर्जी होती है वो कंडोम का इस्तेमाल नहीं कर सकते।

रबड़ वाले कंडोम सबसे ज़यादा कारगर है अनचाहा गर्भधारण और यौन संचारित रोग से बचाने के लिए। लेकिन अगर आपको रबड़ से एलर्जी है तो आप भेड़ कि खाल से बने कंडोम या पॉलीयूरीथेन से बने कंडोम का इस्तेमाल कर सकते हैं। पॉलीयूरीथेन कंडोम रबड़ कंडोम के बाद सबसे अच्छा विकल्प है। ये कंडोम थोड़े ज़यादा पतले और महंगे होते हैं। एक अच्छी बात यह बाई कि इसमें आप अपने साथी कि गर्माहट और भी अच्छे से महसूस कर सकते हैं।

पॉलीयूरीथेन से बने कंडोम भी अनचाहे गर्भधारण से और यौन संक्रमित रोग से बचाने के लिए उतने ही कारगर होते हैं जितने कि रबड़ वाले। लेकिन क्यूंकि यह ज़यादा पतले होते हैं, तो इनके फटने का या फिसलने का डर थोडा ज़यादा होता है। लेकिन भेड़ कि खाल वाले कंडोम केवल अनचाहे गर्भधारण से ही बचाव करता है लेकिन यौन संक्रमित रोग से नहीं।

 

मिथ्या 8: जिन पुरुषों के लिंग बड़े होते हैं, वो कंडोम का इस्तेमाल नहीं कर सकते।

कंडोम अलग-अलग- साइज़ और आकार में आते हैं, लेकिन अधिकतर कंडोम लगभग सभी को उचित रूपस इ आ जाते हैं। अगर आप किसी तरह के कंडोम से तकलीफ़ महसूस करते हैं, तो आप कोई और ब्रांड वाला कंडोम इस्तेमाल करके देख सकते हैं।

क्या आपने सेक्स के बारे में कोई मिथ्या सुनी है और सोच में हैं कि वो सच है या नहीं? हमें बताइये और हम आपको देंगे सारे तथ्य और तोड़ेंगे सारे मिथ्या! यहाँ लिखिए या फेसबुक पर हो रही चर्चा में हिस्सा लीजिये।

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>