Woman taking a pill
ouh_desire

माँ की 'अगली सुबह' वाली गोली की तलाश

द्वारा Paromita Pain दिसंबर 18, 11:49 बजे
17  साल के अमित और संध्या एक दुसरे से पहली ही नज़र में, कॉलेज के पहले ही दिन इश्क कर बैठे। और वलेनटाइन डे के दिन उन्होंने पहली बार सेक्स भी कर लिया। उन्होंने ऐसा करने की कोई प्लानिंग नहीं की थी। ये तो बस होते-होते ही हो गया। 

"हमें समझ नहीं आ रहा था की इसके बाद क्या करिएँ", अमित ने संकोचते हुए बताया।

हमें गर्भ निरोधन के किसी उपाय के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। 'मेरी कहानी' का पुनः लेखन, हमारी दकत के साथ एक खूबसूरत भागीदारी निभाते हुए।

जब उन्हें ये आभास हुआ की उन्होंने एक जोखिम भरा काम किया है तो उन्होंने अमित की माँ को सब कुछ बताने का फैसला किया। सौभाग्य से अमित की माँ ने उनका साथ दिया। उन्होंने अपने ऑफिस के साथियों से 'अगली सुबह' वाली गर्भनिरोधक गोली के बारे में सुना था।

राहत

लेकिन जब उन्होने आस पास की दवा की दुकानों अपर पुछा तो उन्हे वो गोली किसी दूकान पर अनहि मिली, जबकि वो चेन्नई जैसे बड़े शहर में रहते थे। दो घंटे की मशक्त के बाद शहर के एक बड़े अस्पताल से जुडी एक दवा की दूकान पर आख़िरकार उन्हें वो गोली मिली जो उन्होंने संध्या को दी और सभी ने राहत की सांस ली।

ढूँढना मुश्किल

इमरजेंसी गर्भ निरोधक गोली भारत में 2005  में पहली बार उपलब्ध की गयी थी। बावजूद इसके, बडे शहरों में भी इससे ढूँढना आसान काम नहीं है. इतना ही नहीं, इसके उपयोग से जुडी उपयुक्त जानकारी पाना भी आसान नहीं है। ना तो संध्या और ना ही अमित की माँ को इसके उपयोग की पूरी जानकारी थी। सौभाग्यवश उनके पास कंप्यूटर और इन्टरनेट था, जहाँ से वो इस बारे में जानकारी ले सकते थे।

"गर्भपात की दवा"

इस 'अगली सुबह' वाली गोली से हर कोई खुश नहीं था। आलोचकों का कहना था की इसके आसानी से उपलब्ध हनी से सेक्स को बढ़ावा मिलेगा। उनका यह भी कहना है की यह गर्भपात की वजह भी नहीं।

अगर चेन्नई के अपोलो अस्पताल की महिला रोग विशेषज्ञ डॉ. निर्मला जयशंकर की मानें तो, "यह गर्भपात की दवा नहीं है। अगर गर्भ ठहर गया है तो यह दवा असर नहीं करती।"

साइड इफ़ेक्ट

इस दवा में ऐसे हारमोन होंते हैं जो शुक्राणुओं को गर्भ धारण में परिवर्तित होने से रोकते हैं। इसलिए यह आवश्यक है की इसे असुरक्षित सेक्स के बाद जल्द ले लिए जाये, आदर्शतः: 72 घंटो के भीतर।

इसके कोई ख़ास साइड इफ़ेक्ट नहीं होते। आम तौर पर हारमोन के असर के कारण जी मचलने का प्रभाव देखा जाता है। "लेकिन इसे ध्यान से लिया जाना आवश्यक है।" स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. विनुथा अरुणाचलम का कहना है। "हारमोन का अत्यधिक प्रवाह मासिक धर्म की नियमितता पर असर डाल सकती है।"

दुर्भाग्यवश संध्या ने एक मासिक धर्म के दौरान दो गोली ले ली। हालाँकि इस युगल ने कंडोम का प्रयोग शुरू कर दिया, लेकिन अमित को लगा की शायद कंडोम शायद अपनी जगह से सरक गया था। "इस बार हमें इस दवा की जानकारी तो थी लेकिन हमें यह नहीं पता था की इसे दो बार लेना ठीक नहीं है।"

"सहज उपयोग"
 
अमित और संध्या आज भी एक साथ हैं। अब वो कोई चांस नहीं लेते। संध्या गर्भ निरोधक का उपयोग करती हैं और अमित कंडोम का प्रयोग करते हैं। लेकिन वो आज भी मानते हैं की उस समय कौन सी 'अगली सुबह' की उस छोटी सी गोली ने कैसे उन्हें मुश्किलों से बचाया था।

"आज लगभग हर समय सामान की दूकान पर यह दवा आसानी से उपलब्ध है, उसी तरह जैसे शैम्पू" अमित कहते हैं।

"सरकार द्वारा दी गयी गर्भ नियंत्रण गोली महिलाओं के लिए स्वास्थय विकल्प नहीं। तो आखिरकर हर किसी की किस्मत में समर्थन करने वाले माता पिता नहीं होते!"

फोटो: DKT आपात गर्भ निरोधक गोली

हमें अपने प्यार, रिश्तों और इनके बीच की हर बात के बारे में बताये। लव मैटर्स को ईमेल करिए।

आपात गर्भनिरोधक दवा के बारे में और जानकारी

गर्भनियोजन के बारे में और जानकारी

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>