LM ब्लॉग्स

लव मैटर की राय उन चीजों पर है जो मायने रखती हैं।

All stories

All stories

चमन बहार और ‘माल’ पुकारे जाने की वो यादें

नेटफ्लिक्स पर आयी एक नयी फिल्म - चमन बहार - देखते हुए ना जाने कितनी चीज़ें याद आ गयीं, कितने डर ज़िंदा हो गये। नुक्कड़, कॉलेज और चाय की टपरियों पर इकट्ठा लड़कों का हुजूम याद आ गया, जो सिर्फ़ टाइम पास के लिए लड़कियां छेड़ते थे। अणुशक्ति सिंह ने लव मैटर्स के साथ अपने यादें सांझा की।

समझौतों की कभी नहीं खत्म होने होने वाली कहानी

क्या यह एक वुमन हॉस्टल हैं या किसी अस्पताल का यूनिट में या कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों का सेल (मुझ पर हँसिएगा मत, टाइम ही खराब चल रहा है, मैं अकेली नहीं हूँ जिसके दिमाग में 24x7 कोरोना वायरस ही चलता रहता है।) यहाँ बहुत भीड़ है और सारी औरतें बहस कर रहीं हैं। दरवाजे की घंटी बजती है और कमरे में बहस और बढ़ जाती है। ये सब क्यों लड़ रहीं हैं, हम कहाँ हैं?

पति पत्नी के बीच ये तो ‘चलता है’ जैसे शब्दों पर प्रहार है फिल्म थप्पड़

फिल्म थप्पड़ ऐसे कई घरों की अंदरूनी  सच्चाई उजागर करती है जहां पुरुषों को सब कुछ करने की छूट होती है, यहां तक कि शारीरिक शोषण भी, लेकिन इसके बावज़ूद भी उनके ऊपर कोई उंगली नहीं उठा पाता।

शुभ मंगल ज़्यादा सावधान - स्ट्रेट या गे, हैं तो बस प्रेम!

इंडिया को उसका पहला समलैंगिक रोमकॉम मिल गया है और नए राज और सिमरन भी - यानी अमन और कार्तिक! लव मैटर्स इसके निर्माताओं को सुपर से भी ऊपर वाली शाबासी देता हैं और इस फिल्म को तीन विशाल लव मैटर्स दिल!

करियर आज, प्यार कल ? कुछ जमा नहीं!

हम लड़कियों को प्यार, ज़िंदगी और करियर सब चाहिए और अभी चाहिए ! एक के बदले दूसरी चीज़ नहीं! बस जी, सिनेमा हॉल में मेरे बगल में बैठी लड़की के इस कमेन्ट ने लव आज कल -2 का रिव्यू कर दिया और अपने इम्तियाज़ सर यहीं मात खा गए।

दिलफेंक आशिक से डैडी बने जैज की कहानी है जवानी जानेमन

पार्ट टाइम लवर से फुल टाइम डैडी बने 40 साल के जैज (जसविंदर सिंह) की कहानी है फिल्म जवानी जानेमन। फिल्म में पिता और बेटी के बीच उलझे रिश्तों के ताने बाने को बखूबी दिखाया गया है।

स्ट्रीट डांसर 3 डी: डांस का भरपूर तड़का लेकिन रोमांस फीका

फिल्म शुरु होते ही पर्दे पर जब 6 -पैक एब्स दिखायी देता है तभी हमें अंदाज़ा हो जाता है कि फिल्म में गठीले बदनों की भरमार होगी। और हम बिलकुल निराश नहीं हुए! ठुमको की गैलरी में आपका वेलकम है जी।

माँ दा लाडला नहीं जमा!

दो मम्मियां लड़ती रहती हैं जबकि उनके बच्चे एक दूसरे को बचपन से प्यार करते हैं। कुछ ऐसी ही कहानी है जय मम्मी दी की. इस रोमांटिक कॉमेडी में न रोमांस है और न कॉमेडी।

'उसने मेरी सूरत बदली है ...मेरा मन नहीं!'

जब कोई फिल्म दिसंबर 2012 (दिल्ली बस रेप के विरोध में) के प्रदर्शन के नारों और स्लोगन से शुरू होती है - “न्याय दो, फांसी दो।” - तभी हमें पता चल जाता है कि यह दूसरी मसाला फिल्मों से बहुत अलग है और इसे देखना इतना आसान नहीं होगा।

चुलबुल-रज्जो का रोमांस लाजवाब... लेकिन दबंग 3 उतनी दबंग नहीं!

अगर आप Sallu bhaiyya से प्यार करते हैं तो आप इसे miss नहीं करना चाहेंगे! दबंग 3 उतनी दबंग नहीं लेकिन अगर आप entertainment के साथ कुछ अच्छे messages देखना पसंद करते हैं, तो क्यों नहीं?

इस साल की Good Newwz

तो ये साल जाते जाते Good News दे ही गया! जी हां हम बात कर रहे हैं अक्षय कुमार, करीना कपूर, दिलजीत दोसांझ और किआरा आडवाणी ने जो Good Newwz दी है, उसकी! और एक गुड न्यूज़ हमारी तरफ से भी हैं.