Breast cancer facts
Rudyanto Wijaya

स्तन कैंसर: पांच मुख्य तथ्य

द्वारा Stephanie Haase अक्टूबर 24, 02:30 पूर्वान्ह
स्तन कैंसर: हर महिला के लिए ज़रूरी जानकारी क्यूँ? क्युकी जितना जल्दी कैंसर के बारे में पता चल जाये, उससे बचने की संभावना उतनी बढ़ जाती है। इसलिए बहुत ज़रूरी है की इस बारे में आपको सब पता हो।

पढ़िए इस बार के 'पांच मुख्य तथ्य' श्रंखला में स्तन कैंसर के बारे में और अपने स्तनों की जांच हर महीने करवाएं!

  1. स्तन कैंसर है क्या? 8 में से एक महिला में स्तन कैंसर पाया गया है। इसकी सबसे पहली निशानी होती है स्तन और निप्पल में गांठ महसूस होना, कुछ अजीब से वीर्य बाहर निकलना। बाकि सभी कनसर की तरह, ये कैंसर भी शरीर के ख़राब टिश्यू (महीन कागज़ की तरह) की वजह से होता है जो की शरीर के कोशिकाओं के बहुत ज़्यादा बढ़ जाने की वजह से होता है। और यह कैंसर शरीर के दुसरे हिस्सा तक भी पहुच सकता है और अलग-अलग अंगों में कैंसर पैदा कर सकता है। इसलिए बहुत ज़रूरी है अपने शरीर में, अपने स्तनों में होते हुए बदलावों का सही समय पर जांच कराएं और इलाज भी। क्युकी जितनी जल्दी कैंसर के बारे में पता चलेगा उतना जल्दी ही उसका इलाज भी हो पायेगा, और कैंसर से बचाव भी। स्तन कैंसर का इलाज शुरू होता है ऑपरेशन से। और यह होता है ट्यूमर को निकाल देना (लुपेकटोमी) या ल्युम्फ नोड्स, लेकिन कुछ केसों में पूरा स्तन ही निकाल देना पड़ता है (मास्टेकोमी)। इसके बाद मरीज़ को भारी दवाइयां दी जाती हैं (कीमोथेरेपी), विकिरण चिकित्सा, और कुछ होरमोन थेरेपी। और हाँ, पुरुषों को भी स्तन कैंसर हो सकता है, इसलिए उनको भी अपने स्तन के आस-पास के हिस्से में हुए किसी भी बदलाव को नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए।
  2. रिस्क को कम करना और अपने स्तन की जांच करानायह बताना थोड़ा मुश्किल है की स्तन कैंसर कैसे होता है। कई बार कैंसर जेनेटिक (आनुवांशिक) भी हो सकता है। और भी कुछ चीज़ें हैं जो आपके स्तन कैंसर होने का रिस्क बढ़ा सकते हैं। बहुत सारे और रिस्क के कारण हैं, जैसे लिंग, कुल वंश और उम्र। कुछ और, जैसे शराब पीना, कसरत ना करना, मोटापा, और इन सभी कारणों पर काम किया जा सकता है। लेकिन इन पर काम करना ज़रूरी है क्यूंकि ये रिस्क को कम कर देगा। केवल ढाई घंटे तक एक हफ्ते में चलने से भी आपका रिस्क 18 प्रतिशत तक घट सकता है। गोली की बात: जी हाँ, यह सच है की कुछ गोलियों से स्तन कैंसर होने की संभावना बढ़ सकती है। लेकिन अच्छी खबर यहे है की, अगर आप साममी पर गोलियां लेना छोड़ देते हैं, तो आपका स्तन कैंसर होने का रिस्क कम हो सकता है।महीने में एक बार, आपको अपने स्तन को किसी भी तरह की गाँठ के लिए जांचना चाहिए। अपने दिमाग में यह बात रखिये की माहवारी के दौरान आपके स्तन थोड़ा अलग महसूस कर सकते हैं। लेटे हुए या खड़े हुए, अपनी उँगलियों से अपने स्तन को चरों तरफ दबाये। गाँठ की जांच करिए, निप्पल दबा कर देखिये और देखिये की कहीं कोई वीर्य तो नहीं निकल रहा या कहीं निप्पल का रंग तो नहीं बदल रहा। अगर आपको इनमे से कुछ भी या कुछ और भी महसूस होता है, तो डॉक्टर से मिलिए जल्द से जल्द। लेकिन दरिये मत - 10 में से 8 तरह की गांठे कैंसर नहीं होती।
  3. स्तन कैंसर और आपकी सेक्स लाइफदेखिये किसी भी तरह की बीमारी का असर आपकी सेक्स लाइफ पर भी ज़रूरी होता है। और हाँ, स्तन कैंसर होने की संभावना शायद आपकी सेक्स लाइफ बिलकुल ख़त्म कर सकती है। शायद इसका एक अहम् कारण है कीमोथेरेपी, जिसकी वजह से बहुत कमज़ोरी आ जाती हैं और मन खराब रहता है। हार्मोनल बदलावों की वजह से आपकी सेक्स ज़िन्दगी ख़राब हो जाती है, और साथ में बालों का झड़ना, मास्टेकटोमिएस, और बाकी और तरह के साइड एफ्फेक्ट भी आपको बहुत ख़राब और कमज़ोर महसूस करा सकते हैं जिसकी वजह से सेक्स में आपका दिमाग बिलकुल नहीं लगता। और यह साइड एफ्फेक्ट काफी समय तक आपके शरीर पर असर रखते हैं, चाहे इलाज ख़त्म भी हो जाये। क्यूंकि महिलाएं अक्सर अपने शरीर से अलग महसूस करती हैं, इसलिए बहुत ज़रूरी है की उनके साथी उनको महसूस कराये की उन्हें अभी भी वो आकर्षक और सेक्सी लगती हैं। लेकिन शायद आपका साथी आपको बुरा महसूस नहीं कराना चाहता ये सोचकर की आप पहला कदम उठाएंगे। तो हमेशा की तरह इसका इलाज है बातचीत करना। अपने साथी को बताइए जब भी आप तैयार हों, और आप जिस चीज़ के लिए तैयार हों। अपने डर भी अपने साथी के साथ बाटिये और उनके डर के बारे में भी पूछिए। और ऐसा कुछ भी मत करिए जिसके लिए आप तैयार ना हों।
  4. स्तन कैंसर, गर्भधारण और गर्भनिरोधनयह एक मिथ्या है की जिन महिलाओं को स्तन कैंसर होता है तो आप गर्भवती नहीं हो सकती। हाँ, थोड़ा समय इंतज़ार करना ज़रूरी है ताकि आपका इलाज पूरी तरह ख़त्म हो सके। आप और आपका शरीर बहुत सारी चीज़ों से गुज़र रहा है, और आपको अपने आप को और अपने शरीर को आराम देने की बहुत ज़रूरी है। और अपने डॉक्टर की सलाह लेना भी बहुत ज़रूरी है ताकि आप यह जान सके की क्या आपका शरीर तैयार है। अगर आपका इलाज अभी भी चल रहा है और आपको सेक्स करने की इच्छा है, तो आपको गर्भनिरोधन का इस्तेमाल करना पड़ेगा। आपको हार्मोनल गर्भनिरोधन से दूर रहना पड़ेगा और कंडोम जैसी चीज़ों का इस्तेमाल करना पड़ेगा। जब आपका पूरा इलाज पूरा हो जाये, तब अपने डॉक्टर से मिलकर आपके लिए जो सही गर्भनिरोधन होगा उसके बारे में सलाह लीजिये।
  5. मैंने कैंसर को हरा - अब क्या? बहुत सारी महिलाएं स्तन कैंसर से बाहर आई हैं लेकिन उनको कहीं न कहीं डर है की कहीं कैंसर वापस तो नहीं आ जायेगा। कुछ चीज़ें हैं जो आप कर सकते हैं ताकि आपका रिस्क कम हो जाये और आप फिर से स्वस्थ्य जीवन जी सके।सबसे पहले, अपनी शारीरिक और भावनात्मक ज़रूरतों का ध्यान रखिये। आप बहुत सारी चीज़ों से गुजरे हैं, और आपके शरीर और दिमाग को कुछ आराम चाहिए।और आपको स्वस्थ्य जीवन जीना चाहिए: अच्छा खान खाइए, योग या किसी और तरह का व्यायाम करिए और शरीब या तो मत पीजिये या कम पीजिये। और समय पर जांच करवाइए ताकि आप स्वस्थ्य जीवन जी सके।

अपराध बोध

कुछ कैंसर से जीत जाने वाले लोग अपने आप में दोषी महसूस करते हैं अपनी जीत को भी लेकर। यह भी नार्मल है। इन भावनाओं को बाहर आने दीजिये और अन्दर दबाइए मत। चाहे लिखिए या किसी विश्वास वाले व्यक्ति से बात करिए या काउंसलर से बात करिए। आपको ठीक महसूस होगा।

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
Riya bête iske liye aap kisi vishesagya ya achche panjikrit doctor se mill lijiye aur apna dhyaan rakhiye. Ise padh lijiye: https://lovematters.in/hi/resource/menstrual-cycle https://lovematters.in/hi/our-bodies/my-periods-are-irregular-what-should-i-do Yadi aap is mudde par humse aur gahri charcha me judna chahte hai to hamare discussion Board “Just Puchho” me jarur shaamil ho. https://lovematters.in/en/forum
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>