Auntyji
thingkreations

मेरे माता-पिता उसकी जाति की वजह से उसे नहीं अपनाना चाहते - अब क्या?

द्वारा Auntyji अप्रैल 12, 12:11 पूर्वान्ह
सवाल: मुझे एक ऐसी लड़की से प्यार है जो की छोटी जाति की है। हम एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं लेकिन मेरे माता-पिता हमारी शादी के लिए कभी राज़ी नहीं होंगे। मुझे तो उनके सामने इस बारे में बात करने में भी डर लगता है। मुझे आपकी मदद चाहिए आंटी जी। दीपेश, गाज़ियाबाद 

आंटी जी कहती हैं...जब प्यार किया तो डरना क्या...प्यार किया कोई चोरी नहीं की, चुपचुप आहें भरना क्या...

दीपेश पुत्तर, मुझे पक्का पता है तूने यह पहले भी सुना ही होगा। देख पुत्तर, ऐसा नहीं है की मैं तेरी स्तिथि समझ नहीं रही। मैं बिलकुल समझ सकती हूँ की तू कितनी बड़ी दुविधा में है। बेटा, अब तेरी आंटी तो हमेशा से ही बहुत रोमांटिक रही हैं, और यह तो मेरा सबसे पसंदीदा गाना है। और हाँ, मेरे लिए यह सिर्फ एक गाना नहीं है, यह एक सिधांत है जिस पर मैं पूरा विश्वास करती हूँ।.

 

उनसे बात करिए

अब क्या मैं यह मान लूँ की तुझे जाति- वाति से कोई फर्क नहीं पड़ता। क्यूंकि पड़ना तो नहीं चाहिए। यह एक सबसे बकवास चीज़ है जो खुद हमने यानि समाज ने ही बनायीं है, और मेरे ख्याल में ऐसी चीजी का पूरी तरह विरोध करना चाहिए। और मैं तेरे साथ 100 परसेंट हूँ। और शायद तेरे माता-पिता भी तेरे साथ हो जायें।

 

दीपेश पुत्तर, चाहे तेरे माता - पिता कितने भी सख्त क्यूँ ना हों, आखिर वो तेरे माता-पिता हैं। कोशिश करके उनसे बात कर। उनको समझाने की कोशिश कर की तू उस लड़की से कितना प्यार करता है। कोशिश करने में तो कोई बुरे नहीं है ना! और क्या पता वो मान भी जायें। आखिर, माता-पिता तो चाहते हैं की उनके बच्चे खुश रहे।

फैसला कर

हाँ तो अपने Nike के जूते पहन और यह कर ही ले। तेरे माता-पिता को यह समझना तो अप्देगा की ज़माना बदल गया है। जाति और धर्म अब लोगों की पहचान नहीं है। लेकिन, अगर वो तेरी बात ना माने, तो बेटा जी फिर क्या कर सकते हैं उसकी बात करेंगे।

बेटा जी, अगर आप पूरी तरह से यह तय कर चुके हैं की आपको अपनी ज़िन्दगी इसी लड़की के साथ गुजारनी है, तो आपको फैसला तो करना पड़ेगा - आर या पार! मुझे पता है की तेरे लिए अपने माता-पिता की इच्छा के विरुद्ध जाना बहुत मुश्किल होगा, लेकिन क्या करें, ज़िन्दगी आसान भी तो नहीं है ना पुत्तर।

देख, मैं तो हमेशा अपने बच्चों को यहीं कहती हूँ की कुछ भी करे के लिए फैसला करना बहुत ज़रूरी है। अगर सोचने में ही सारा समय बर्बाद कर डोज, तो चीज़ें हाथ से निकल जाएँगी।

बर्बाद शादियाँ

अब मैं तुझे बताती हूँ अपनी भतीजी के बारे में, जो की पागलों की तरह एक लड़के से प्यार करती थी और शादी करना चाहती थी। लेकिन उसके बॉय फ्रेंड को पता था की उसका परिवार उनकी शादी के लिए कभी नहीं मानता, इसलिए उसने उनसे कभी बात ही नहीं करी।

आख़िरकार, मेरी भतीजी ने किसी और लड़के से शादी कर ली और उस लड़के ने किसी और से। लेकिन दोनों अभी तक यह सोचते हैं की अगर वो साथ होते तो कैसा रहता। मैं यह नहीं चाहती की तू भी इसी अफ़सोस के साथ अपनी ज़िन्दगी निकाल दे।

यह कहने की ज़रुरत तो नहीं, लेकिन दोनों अपनी शादी से बहुत नाखुश हैं। लड़के की पत्नी ने तलाक फाइल किया हुआ है और कारण दिया है - नापंसुकता, क्यूंकि उन्होंने शादी के एक साल के बाद तक भी सेक्स नहीं किया था।

उसके बाद, उसे अपनी गलती का एहसास हुआ, और फिर वो उस गलती को सुधारने में लग गया। उसने मेरी भतीजा को मनाना शुरू किया की उसे भी अपने पति को छोड़कर उसके साथ शादी कर लेनी चाहिए। उन्हें समय तो लगा और दो शादियाँ बर्बाद होने का इंतज़ार करना पड़ा यह समझने के लिए उन दोनों के लिए क्या अच्छा है।

अपने-आप पर विश्वास करिए

दीपेश पुत्तर, मैं यह नहीं कह रही के हर एक के साथ ऐसा ही होता है। लेकिन बात यह है की अगर आपने कुछ करने का मन बना लिया है तो उसके लिए खडे हो जा और बना रह। यह शायद आसान ना हो, लेकिन करना ज़रूरी बहुत है।अपने आप में विश्वास कर और हिम्मत मत हार - सब कुछ ठीक हो जायेगा. चलो जी, जाते जाते एक गाना और सुन लो - एक ज़रा इंतज़ार...सुन सदाएं दे रही है मंजिल प्यार की...

फोटो: आंटी जी, thinqkreations

अगर आपको प्यार, सेक्स और रिश्तों से जुडे किसी भी सवाल का जवाब चाहिए, तो ईमेल करिए लव मैटर्स को।

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>