shocked Indian woman covering face
PathDoc

उसने मुझे देख कर हस्तमैथुन किया!

द्वारा Roli Mahajan जनवरी 13, 01:04 बजे
"मैं उस रात मेट्रो स्टेशन से हॉस्टल की तरफ जा रही थी। एक व्यक्ति मेरा पीछा करने लगा और उसने मुझे देख कर हस्तमैथुन करना शुरु कर दिया।

मैं स्तब्ध रह गयी!" नीलम ने बताया।

नीलम (परिवर्तित नाम) दिल्ली मेँ रहने वाली 29 वर्षीय कॉउंसेलर हैं।

वह एक एसी रात थी जब मेँ काम से वापस हॉस्टल जाते हुए लेट हो गई थी। मैं कनॉट प्लेस के निकट एक हॉस्टल मेँ रहती थी। मेरा हॉस्टल मेट्रो स्टेशन से केवल 500 मीटर की दूरी पर था।

दरअसल मेट्रो स्टेशन से हॉस्टल तक की ये दूरी पैदल चलना मुझे पसंद था।

शांतिपूर्ण सैर

रात होने के कारण उस समय सड़क पर ज़्यादा हलचल नहीं थी और मैं अपने कानो में इयर फ़ोन्स लगाकर गाने सुनते हुए अपनी सैर का लुत्फ़ उठा रही थी। अचानक मैंने साइकल पर एक आदमी को मेरी तरफ घूरते हुए देखा। मैंने उसे अनदेखा किया और अपने हॉस्टल की तरफ बढ़ने लगी। लेकिन मन ही मन मुझे उसका घूरना कुछ अजीब लगा था।

वो आदमी साइकल पर मुझसे आगे निकल गया और मैंने मन में सोचा, 'सब ठीक है, मुझे घबराने की ज़रूरत नहीं।' जब मैं गली में मुड़ी तो मैंने देखा की उस आदमी ने अपनी साइकल रेलिंग से सटाकर कड़ी कर दी। मैंने देखा की कुछ दूरी पर एक दूकान खुली हुई थी और मैं आगे चलती रही। मैंने फिर से उस आदमी को देखे बिना उसके सामने से निकलती हुई आगे बढ़ गयी।

कुछ पल बाद वो आदमी फिर साइकल पर मुझसे आगे निकला और मुझे लगा शायद सब सामान्य है। मैंने अपनी चाल तेज कर दी क्योंकि मैं जल्द से जल्द हॉस्टल पहुंचना चाहती थी। अगले मोड़ पर वही आदमी रूककर फिर से मेरी तरफ घूर रहा था, थोड़ा और आगे चली तो ये देख कर मेरे होश उड़ गए कि वो मेरी तरफ देखकर हस्तमैथुन कर रहा था।

पैदल चलना बंद

मैं स्तब्ध रह गयी। मुझे समझ ही नहीं आया कि मैं क्या करूँ। मैं सोचने लगी कि क्या मुझे 100 नंबर पर पुलिस को कॉल करना चाहिए? लेकिन मैं उनसे क्या कहूँगी, यह कि "एक आदमी मुझे कुछ कह तो नहीं रहा लेकिन मेरी तरफ देख कर हस्तमैथुन कर रहा है?"

बदहवास सी स्थिति में मैने फ़ोन निकाला और उसे सुनाने के लिए किसी काल्पनिक अंकल से ऊँची आवाज में बात करने का नाटक करने लगी और उसे ये दर्शाया कि मैंने हॉस्टल में पुलिस को बुला रखा है।

मैं नहीं जानती कि उस रात को हॉस्टल कैसे पहुंची, लेकिन 5 मिनट की वो पैदल यात्रा जैसे खत्म नहीं होने को आ रही थी। उस दिन के बाद जल्द ही मैंने वो हॉस्टल छोड़ दिया और छोटी छोटी दूरी के लिए भी रिक्शे या टैक्सी का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया।

सड़कों पर होने वाली प्रताड़ना के बारे में और पढ़िए।

क्या आपने भी किसी ऐसे अनुभव के बारे में सुना है? अपने अनुभव हमसे बाँटिये, यहाँ या फिर फेसबुक पर।

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>