What is an ectopic pregnancy?
Dreamstime/Wavesmedia/Person in the picture is a model

एक्टोपिक गर्भावस्था क्या है?

एक्टोपिक गर्भावस्था वह गर्भावस्था है जिसमें एक भ्रूण / निषेचित अंडा गर्भाशय की जगह शरीर के किसी अन्य स्थान पर बढ़ता है। इस तरह की गर्भावस्था जटिल होती है अगर उसे ऐसे ही छोड़ दिया जाए तो यह घातक साबित हो सकती है।

एक्टोपिक(अस्थानिक) गर्भावस्था क्या है?

गर्भावस्था में गर्भाशय के अंदर एक निषेचित अंडा (स्पर्म द्वारा फर्टिलाइज़ किया हुआ अंडा जिससे प्रेगनेंसी होती हैं) फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से खुद को गर्भाशय की लाइनिंग (स्तर) से जोड़ता है। वहीं एक एक्टोपिक गर्भावस्था के मामले में निषेचित अंडा गर्भाशय को जगह शरीर के किसी अन्य हिस्से से जुड़ जाता हैं - अक्सर फैलोपियन ट्यूब से - और वही भ्रूण बढ़ने लगता है। इसलिए गर्भावस्था के इस रूप को 'ट्यूबल गर्भावस्था' भी कहा जाता है। 

कुछ दुर्लभ मामलों में, एक्टोपिक गर्भावस्था अंडाशय, गर्भाशय ग्रीवा या पेट के अन्य हिस्सों में भी हो सकती है। जब भ्रूण शरीर के अन्य हिस्सों में बढ़ता है यह बच्चे में पूर्ण तरीके से विकसित नहीं हो सकता है क्यूंकि सिर्फ गर्भाशय में ही भ्रूण के विकसित होने के लिए सही मौहाल होता है।

इसलिए ऐसी गर्भावस्थाएँ व्यवहार्य (प्रैक्टिकल) नहीं हैं। अगर समय पर पता नहीं लगाया जाए और इलाज ना हो, तो बढ़ते भ्रूण से फैलोपियन ट्यूब फट सकती है, जिससे संक्रमण (इन्फेक्शन) और आंतरिक रक्तस्राव (शरीर के अंदर ब्लीडिंग) जैसी गंभीर चिकित्सा जटिलताएं (मेडिकल कॉम्प्लिकेशन) हो सकती हैं। अत्यधिक मामलों में, यह जीवन घातक भी साबित हो सकता है।

एक्टोपिक (एक्टोपिक) गर्भावस्था का खतरा किसे है?

1963 में वैज्ञानिकों पहली बार एक्टोपिक गर्भावस्था का पता चला था और इसकी घटनायें लगातार बढ़ रही है। भारत में, 50 में से 1 गर्भधारण एक्टोपिक होती हैं। दुनिया में कहीं भी चिकित्सा विशेषज्ञ इस के पीछे के सटीक कारणों को इंगित नहीं कर पाए हैं। हालांकि, वर्षों में शोध ने कुछ सामान्य कारकों का पता चला हैं जो एक्टोपिक गर्भावस्था के जोखिम को बढ़ाते हैं। इसमें शामिल है:

  • संकीर्ण (इन्फेक्टेड) या अवरुद्ध (ब्लॉक्ड) फैलोपियन ट्यूब, जो गर्भाशय में अंडे की यात्रा को बाधित कर सकती है
  • श्रोणि रोग (पीआईडी), जो आमतौर पर यौन संचारित संक्रमण (STI) का परिणाम है और महिला प्रजनन अंगों को सुजा देता है
  • सर्जिकल प्रक्रियाएं जो असफल साबित हुई हो - जैसे की नसबंदी सर्जरी जो ट्यूबल बंधाव के रूप में फैलोपियन ट्यूब पर की जाती हैं
  • ओव्यूलेशन को प्रोत्साहित करने के लिए दवा, आमतौर पर आईवीएफ जैसे प्रजनन उपचार के दौरान उपयोग किया जाता है
  • एक्टोपिक गर्भावस्था का पिछला इतिहास इसकी सम्भावना को 10% तक बढ़ा सकता हैं 
  • 35 वर्ष की आयु के बाद गर्भवती होना - 35-40 वर्ष की उम्र की महिलाओं में इसका जोखिम सबसे अधिक है
  • गर्भनिरोधक विधियों - जैसे कि अंतर्गर्भाशयी प्रणाली (IUS) या अंतर्गर्भाशयी डिवाइस (IUD) - का उपयोग करते समय आकस्मिक गर्भाधान (प्रेगनेंसी हो जाना)। हालांकि इन गर्भ निरोधकों का उपयोग करते हुए गर्भवती होने की संभावना बेहद कम है, अगर ऐसा होता है, तो गर्भावस्था एक्टोपिक होने की अधिक संभावना है।
  • धूम्रपान

एक्टोपिक गर्भावस्था के लक्षण क्या हैं?

एक्टोपिक गर्भावस्था का पता लगाना कठिन हो जाता है क्योंकि प्रारंभिक लक्षण एक सामान्य गर्भावस्था की जैसे ही होते हैं। पहले संकेत पीरियड मिस होना और एक सकारात्मक गर्भावस्था परीक्षण (प्रेगनेंसी का पॉजिटिव टेस्ट) हैं। एक महिला को मतली, स्तन कोमलता और थकान का अनुभव हो सकता है - ये सभी पहली तिमाही में आम हैं।

गर्भाधान के केवल 4 से 10 सप्ताह के बीच कुछ असामान्य लक्षण दिखाई देने लगते हैं। जैसे:

पेट दर्द, जो की काफी तेज होता है और पेट के एक साइड में होता है और लगातार बना रहता है। दर्द का स्थान वह स्थान है जहां एक्टोपिक गर्भावस्था की प्रगति हो सकती है

योनि से रक्तस्राव जो सामान्य मासिक स्राव की तुलना में अधिक गहरा या हल्का और कम चिपचिपा हो सकता है। यदि महिला को गर्भावस्था के बारे में कुछ भी पता नहीं है, तो वह इसे रेगुलर पीरियड मानने की गलती कर सकती है

मल करते समय या पेशाब करते समय दर्द होना

कंधे की नोक में दर्द, जो आमतौर पर आंतरिक रक्तस्राव के कारण उत्पन्न होने वाली फ़ेरेनिक तंत्रिका की जलन से होता है

बेहोशी या बेहोश हो कर गिर जाना, जो फैलोपियन ट्यूब के टूटने के कारण होती है और इसे एक चिकित्सा आपातकाल के रूप में माना जाना चाहिए

डायरिया

पीली त्वचा

एक्टोपिक गर्भावस्था - जटिलताओं और उपचार

आप अल्ट्रासाउंड स्कैन के बिना एक्टोपिक गर्भावस्था के लिए एक निश्चित निदान नहीं पा सकते हैं। उपचार (ट्रीटमेंट) की संभावित जटिलताओं (कॉम्प्लिकेशन) उस चरण पर निर्भर करता है जिस पर इस तरह की गर्भावस्था का पता चला है।

जटिलताएं (कॉम्प्लिकेशन) 

कुछ संभावित जटिलताएं जो एक्टोपिक गर्भावस्था के कारण हो सकती हैं, खासकर अगर यह बढ़ रही हो, इसमें शामिल हैं:

  • क्षतिग्रस्त फैलोपियन ट्यूब: उपचार में देरी से नुकसान हो सकता है या फैलोपियन ट्यूब के फटने का कारण बन सकता है, जिससे भविष्य में गर्भधारण की संभावना पर काफी असर पड़ सकता है।
  • आंतरिक रक्तस्राव (शरीर के अंदर ब्लीडिंग): यदि समय में एक्टोपिक गर्भावस्था का पता नहीं चलता है और फैलोपियन ट्यूब फट जाता है तो गंभीर आंतरिक रक्तस्राव हो सकता है। इससे सदमे, संक्रमण और यहां तक ​​कि मौत भी हो सकती है।
  • अवसाद (ट्रॉमा): गर्भावस्था को खोने का झटका और प्रजनन क्षमता के बारे में चिंताएं रोगी के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती हैं, जिससे अवसाद जैसी स्थिति पैदा हो सकती है।

इलाज

एक एक्टोपिक गर्भावस्था को समाप्त ही करना पड़ता है। एक्टोपिक गर्भावस्था के चरण (प्रेगनेंसी के स्टेज) के आधार पर, आपका डॉक्टर इन दो सामान्य उपचारों में से किसी एक की सिफारिश कर सकता है:

दवा: यदि एक्टोपिक गर्भावस्था अभी भी अपने शुरूआती अवस्था में है और फैलोपियन ट्यूब को नुकसान नहीं पहुँचा है, तो आपका डॉक्टर मेथोट्रेक्सेट नामक दवा लिख ​​सकता है। यह निषेचित अंडे को आगे बढ़ने से रोकती है और आपका शरीर कोशिकाओं (प्रेगनेंसी के सेल) को अवशोषित (अब्सॉर्ब) करता है।

सर्जरी: निषेचित अंडे / भ्रूण को निकालने के लिए एक लेप्रोस्कोपिक (laser) सर्जिकल प्रक्रिया की जा सकती है, साथ ही अगर यह क्षतिग्रस्त हो गया हो तो प्रभावित फैलोपियन ट्यूब के साथ। फैलोपियन ट्यूब के फटने या आंतरिक रक्तस्राव के मामले में, लैपरोटॉमी नामक एक आपातकालीन सर्जरी की जा सकती है।

खुद से ही एक्टोपिक गर्भावस्था को समाप्त करना

गर्भपात की नियमित दवाइयां, जैसे मिफेप्रिस्टोन और मिसोप्रोस्टोल, का खुद से उपयोग करके एक्टोपिक गर्भावस्था को समाप्त करने की कोशिश करना सही नहीं हैं - चाहे वो दवाइयां दुकान से खरीदी गयी हो या किसी स्वास्थ्य कर्मी (डॉक्टर/नर्स/आशा दीदी) से लाई गयी हो

दवाइयों से किया गर्भपात एक एक्टोपिक गर्भावस्था को समाप्त करने के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है क्योंकि मिफेप्रिस्टोन हार्मोन प्रोजेस्टेरोन को अवरुद्ध करके काम करता है, जो गर्भाशय के स्तर को पतला करता है। चूंकि इस मामले में, भ्रूण गर्भाशय से नहीं, मगर फैलोपियन ट्यूब (या शरीर के किसी अन्य भाग) से जुड़ा हुआ होता है, गर्भपात की ये प्रक्रिया उल्टी साबित हो सकती है।

इसके अलावा, दवाइयां के द्वारा किये गए गर्भपात में यह सुनिश्चित करने का कोई तरीका नहीं है की गर्भावस्था वाकई समाप्त हो गयी हैं। यदि भ्रूण को बाहर निकालने की दवा लेने के बावजूद शरीर में भ्रूण बढ़ता रहता है, तो इसके घातक परिणाम हो सकते हैं।

चूंकि बिना अल्ट्रासाउंड के यह पता नहीं चल सकता है गर्भावस्था एक्टोपिक है या नहीं, इसलिए हमेशा यह सलाह दी जाती है कि चिकित्सीय देखरेख में गर्भपात कराया जाता है, ताकि गर्भावस्था के एक्टोपिक होने पर सुरक्षा उपाय किए जा सकें।

एक्टोपिक गर्भावस्था के बाद

एक्टोपिक गर्भधारण के बाद फिर से स्वस्थ गर्भधारण की चिंता होना स्वाभाविक है क्यूंकि यह स्वाभाविक रूप से गर्भ धारण करने की संभावनाओं को कम कर सकता है -  खासकर अगर फैलोपियन ट्यूब में से एक क्षतिग्रस्त हुई हो या हटा दी गई हो। फिर भी, फिर से स्वस्थ गर्भधारण करना असंभव नहीं है। आपका डॉक्टर आपको सलाह दे सकते हैं कि आप कब और कैसे फिर से कोशिश करना शुरू कर सकते हैं।

गोपनीयता का ध्यान रखते हुए नाम बदल दिए गए हैं और फोटो में मॉडल् हैं।

कोई सवाल? नीचे टिप्पणी करें या हमारे चर्चा मंच पर विशेषज्ञों से पूछें। हमारा फेसबुक पेज चेक करना ना भूलें। हम Instagram, YouTube  और Twitter पे भी हैं!

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>