Female orgasm: Four women share their stories!
Shutterstock/Oleg Elkov

ऑर्गेज्म: चार महिलाओं ने सुनाई अपनी कहानियां!

अगर आप यह पूछ-पूछ कर थक चुकें हैं कि 'क्या तुम्हारा हुआ?' या फिर सोचते हैं, सच में हुआ या वह झूठ बोल रही है?', तो अब टेंशन छोड़िये और सीधे महिलाओं से जानिए कि वे क्या कहती हैं ऑर्गेज्म के बारे में:

वाइब्रेटर

36 वर्षीय लेखिका और संपादक, टिया बसु कहती हैं कि वह ऑर्गेज्म के लिए आमतौर पर वाइब्रेटर का इस्तेमाल करती हैं क्योंकि यह उन्हें कभी निराश नहीं करता है। 

आप ऑर्गेज्म तक कैसे पहुँचती हैं?

ओरल सेक्स और वाइब्रेटर बेशक मुझे पेनेट्रेटिव सेक्स से ज्यादा ऑर्गेज्म तक पहुंचाते हैं। दरअसल, मैं अपने किसी करीबी के साथ अंतरंगता के लिए सेक्स को पसंद करती हूं, लेकिन उस दौरान ऑर्गेज्म तक पहुंचना बहुत मुश्किल होता है। सही तरीके से करने से हासिल होने वाले ऑर्गेज्म को मैं सबसे अधिक पसंद करती हूँ,  लेकिन मैं अभी भी ऑर्गेज्म के लिए वाइब्रेटर को ही सबसे अच्छा मानती हूं, जबकि अंतरंगता के लिए पार्टनर के साथ सेक्स करना बेहतर है।

क्या ऑर्गेज्म तक पहुंचने में ज्यादा समय लगता है?

बेशक, मुझे कुछ समय लगता है। सेक्स टॉय के साथ, मैं नियंत्रण में रहती हूं और मुझे पता होता है कि कहां और कब छूना है, और कितनी तेज या धीमी गति से क्या करना है। जबकि पार्टनर के साथ, कई चीजों का ध्यान रखने की जरूरत होती है, लेकिन वहां पहुंचने से पहले मुझे बहुत सारे फोरप्ले की जरूरत होती है।

यह कब तक बना रहता है?

कई बार यह 5 मिनट या उससे अधिक समय तक बना रहता है; जबकि कई बार, यह एक या दो मिनट तक ही रहता है। मुझे लगता है कि यह इस बात पर निर्भर करता है कि फोरप्ले कितना लंबा और कितना अच्छा था!

आप अपनी फीलिंग को कैसे बताना चाहेंगी?

मैं रोमांटिक उपन्यास पढ़ने की बहुत शौकीन हूं, इसलिए मैंने अपने पहले के बहुत से ऑर्गेज्म की फीलिंग को उन किताबों में इस्तेमाल की गई भाषा से बतायी है, जैसे 'सितारों की बारिश”' आदि आदि। उपलब्धि की एक अजीब भावना भी थी, जैसे कि सबने कहा हो कि मुझे मिलना चाहिए और वो चीज़ मुझे मिल गयी हो।

मुझे लगता है कि जैसे-जैसे आप बड़े होते जाते हैं, वैसे-वैसे फीलिंग अलग होती है। फिलहाल, रिलीज की एक जबरदस्त फीलिंग है। मुझे यह सोचना अच्छा लगता है कि मेरा शरीर और इंद्रियां पूरी तरह से खुल रही हैं और फिर अपने आप में लौट रही हैं, तृप्त होकर, थक कर और खुश होकर।

क्लिटोरिस को उत्तेजित करने से होता है विस्फोट 

कम्यूनिकेशन प्रोफेशनल और डॉक्टरेट की छात्रा, 38 वर्षीय उर्मी चंदा का यह भी कहना है कि क्लिटोरिस को उत्तेजित करने से पेनिट्रेटिव सेक्स की अपेक्षा बेहतर ऑर्गेज्म मिलता है:

आप ऑर्गेज्म कैसे प्राप्त करती हैं?

इसका कोई सधा हुआ तरीका नहीं है लेकिन मेरे लिए सबसे प्रभावी तरीका क्लिटोरिस को उत्तेजित करना है। इसके साथ ही निप्पल से खेलने पर यह उत्तेजना और बढ़ जाती है।

क्या ऑर्गेज्म तक पहुंचने में ज्यादा समय लगता है?

कभी-कभी यह जल्दी हो जाता है, कभी-कभी, इसमें अधिक समय लगता है, और कभी-कभी, ऑर्गेज्म बिल्कुल नहीं होता है (और फिर मुझे इसे नकली बनाना पड़ता है)।

यह कितनी देर तक रहता है?

कुछ सेकंड तक। औसतन 10 सेकंड। लेकिन इस पर ध्यान देने के लिए अधिक समय नहीं होता है क्योंकि पार्टनर आगे कुछ करने के लिए तैयार बैठा होता है। 

आप अपनी फीलिंग को कैसे बताएंगी?

यह सिर में एक विस्फोट होने जैसा होता है।

यह सिर में एक मिनी-विस्फोट जैसा है लेकिन अच्छा वाला विस्फोट। अगर मुझे शारीरिक रूप से इसके बारे में बताना पड़े तो मैं कहूंगी की बहुत सारे न्यूरॉन उत्तेजित हो जाते हैं और खून दौड़ने लगता है।

आनंद की लहरें

*दिल्ली की 45 वर्षीय कॉलेज प्रोफेसर निक्षा कहती हैं कि हस्तमैथुन और फोरप्ले ऑर्गेज्म तक पहुंचने का सबसे आसान रास्ता है। 

आप ऑर्गेज्म तक कैसे पहुंचती हैं?

जब मैं अकेले होती हूं तो बेशक हस्तमैथुन करती हूं। लेकिन जब मैं पार्टनर के साथ होती हूं तो फोरप्ले के दौरान उनके हाथों और ओरल सेक्स से क्लिटोरिस को उत्तेजित करने की कोशिश करती हूं, इससे मुझे ऑर्गेज्म तक पहुंचने में आसानी होती है। मैं दो दशक से अधिक समय से यौन रूप से सक्रिय हूं। इतने समय में पेनिट्रेटिव सेक्स के जरिए ऑर्गेज्म सिर्फ कुछ बार ही हुआ है।

क्या ऑर्गेज्म तक पहुंचने में ज्यादा समय लगता है?

क्लिटोरिस को उत्तेजित करके तो नहीं लेकिन बेशक सेक्स के जरिए ज्यादा समय लगता है। लेकिन ऐसा तभी होता है, जब मैं शरीर के हलचलों को नियंत्रित कर लेती हूं और संभोग लंबे समय तक चलता है (मैं 15-20 मिनट तक नॉन-स्टॉप सेक्स की बात कर रही हूं)।

यह कब तक बना रहता है?

शायद आधा मिनट या उससे भी अधिक समय तक बना रहता है लेकिन संतुष्टि और आनंद मिलता है। यह एक स्वाद की तरह थोड़ी देर के लिए रहता है। वास्तव में, मैं ऑर्गेज्म के बाद अधिक सक्रिय महसूस करती हूं।

आप अपनी फीलिंग के बारे में कैसे बताएंगी?

यह आनंद की छोटी-छोटी लहरों के रूप में शुरू होता है जो मेरे अंगों में लहरें बनाता है, जिससे मेरा पूरा शरीर नरम हो जाता है, और लहरें तब तक और अधिक तेज होती जाती हैं जब तक कि वे एक विशाल ज्वार में बदल नहीं जाती जो मुझे दूर तक बहा ले जाती हैं।

जादुई उंगलियां

* 20 वर्षीय कॉलेज की छात्रा शनाया मलिक भी क्लिटोरिस को उत्तेजित करके ऑर्गेज्म तक पहुंचना अच्छा मानती हैं। लेकिन वह ओरल सेक्स के बजाय हाथ से करना पसंद करती हैं।

आप ऑर्गेज्म तक कैसे पहुंचती हैं?

पेनिट्रेशन से शायद ही कभी मुझे ऑर्गेज्म हुआ हो। दरअसल, पेनिट्रेशन के दौरान मुझे केवल तभी ऑर्गेज्म होता है जब मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित होती हूं। ओरल सेक्स बहुत बेहतर काम करता है लेकिन उंगली करना मुझे सबसे बेहतर तरीका लगता है।

क्या ऑर्गेज्म तक पहुंचने में ज्यादा समय लगता है?

इसमें बिल्कुल भी समय नहीं लगता है। लेकिन यह बहुत जल्दी भी नहीं होता है, जो बहुत अच्छा है और मुझे पूरी प्रक्रिया का आनंद लेने देता है लेकिन कई बार मैं अपने पार्टनर से पहले ऑर्गेज्म तक पहुंच गई हूं। बेशक, अच्छी सहजता और खुलापन से भी ऑर्गेज्म तक पहुंचने में मदद मिलती है।

यह कब तक बना रहता है?

मुझे लगता है कि यह 15-20 सेकेंड से ज्यादा नहीं टिकता। ज्यादातर मामलों में, यह लगभग 10-12 सेकंड तक बना रहता है। मुझे लगता है कि यह इस बात पर निर्भर करता है कि मैं अपने सेक्स पार्टनर के साथ कितनी सहज हूं।

आप अपनी फीलिंग को कैसे बताएंगी?

यह ऐसी भीड़भाड़ की तरह है जहाँ आप चाहते हैं कि जल्दी से आप मंजिल पर पहुँचे लेकिन साथ ही साथ आपको सफ़र में भी मजा आता रहता है।

यह एक मिक्स्ड बैग है

28 साल की रिसर्च स्टूडेंट एलेक्स का कहना है कि उन्हें हर तरह के यौन संपर्क से ऑर्गेज्म हो सकता है, और इसका अनुभव तालमेल द्वारा नियंत्रित होता है।

आप ऑर्गेज्म तक कैसे पहुँचते हैं?

ओरल सेक्स, हैंड जॉब, पेनेट्रेटिव सेक्स, ये सभी मेरे लिए बेहतर काम करते हैं, सेक्स टॉय इसमें सबसे अच्छा है।

क्या यह जल्दी हो जाता है या इसमें लंबा समय लगता है?

ओरल या पेनिट्रेटिव में लंबा समय लगता है। जबकि टॉय के साथ बहुत जल्दी हो जाता ​है।

कितनी देर तक रहता है?

जब कोई व्यक्ति इसमें शामिल होता है तो ऑर्गेज्म लंबे समय तक रहता है, भले ही वहां पहुंचने में कुछ समय लगता हो। सेक्स टॉय के साथ तो जितनी जल्दी होता है उतनी ही जल्दी खत्म भी हो जाता है।

सेक्स टॉय के साथ काफी राहत महसूस होती है। मांसपेशियों में आराम महसूस होता है। लंबी पैदल यात्रा के बाद ठंडक जैसा महसूस होता है। जबकि व्यक्ति के साथ, शर्म और उत्साह कई अलग अलग चीजे मायने रखती है। इसके बाद जाकर संतुष्टि का एहसास होता है। लेकिन, सेक्स टॉय के साथ, संतुष्टि की भावना लंबे समय तक नहीं रहती है। हालांकि मुझे अभी भी बहुत अच्छी नींद आती है।

बेशक अलग-अलग महिलाएं विभिन्न तरीकों से आनंद के चरम पर पहुँचती हैं लेकिन सबका रास्ता एक ही जगह से गुज़र कर जाता है और वो है क्लिटोरिस, न कि योनि। इसलिए, आप लोग बिस्तर पर अधिक  बढ़िया प्रदर्शन दें और अपनी सेक्स लाइफ को खिलते हुए देखें।

*पहचान छिपाने के लिए कुछ नाम बदले गए हैं।

कोई सवाल? हमारे फेसबुक पेज पर लव मैटर्स (एलएम) के साथ उसे साझा करें या हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से पूछें। हम Instagram, YouTube  और Twitter पे भी हैं!

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>