पुरुष शरीर

'विशिष्ट आदमी' जैसी कोई चीज नहीं है - हर किसी का शरीर थोड़ा अलग दिखता है। लेकिन इस खंड में हम उन हिस्सों के बारे में बात करेंगे जो हर पुरुष में समान होते हैं, जैसे कि किशोरावस्था में होने वाले बदलाव और वो देखभाल जिसकी एक स्वस्थ शरीर को आवश्यकता होती है।

तथ्य

साफ़-सफाई

हर किसी व्यक्ति कि एक अलग गंध होती है। यह गंध प्यार और सेक्स के मामले में महत्वपूर्ण होती है। आप अक्सर किसी व्यक्ति की तरफ उसके शरीर की गंध को लेकर आकर्षित महसूस कर सकते हैं।इसलिए आपको अपने तन की प्राकर्तिक गंध को छुपाने की कोई आवश्यकता नहीं है, यही गंध आपके साथी को खूब भाएगी।

किशोरावस्था

किशोरावस्था वह समय है जब आप बच्चे से वयस्क बनते हैं। यही वह समय है जब आपका शरीर यौनिक रूप से भी वयस्क (परिपक्व) हो जाता है।

गुदा द्वार

गुदा द्वार आपके पेट का बाहरी रास्ता है जहां से मल बाहर आता है।

वीर्यपात

यदि आप पूरी तरह उत्तेजित हो जाते हैं, तो आपको चरम आनंद या आर्गेज़्म हो सकता है उस समय वीर्यपात होता है यानी आपके लिंग से वीर्य बाहर निकलता है।

अंडकोष आदि

अंडकोष लिंग के पीछे एक थैली में, जिसे अंडकोष थैली कहते हैं, लटकते रहते हैं।

खतना

लड़के अपने लिंग की आगे की चमड़ी के साथ जन्म लेते हैं - वह चमड़ी जो लिंग मुंड को ढके रहती है। जब किसी लड़के या पुरुष का खतना किया जाता है, तो उनके लिंग के आगे की चमड़ी निकाल दी जाती है और लिंग मुंड दिखने लगता है।

लिंग आकार और लंबाई

लिंग कई आकार और लंबाई के होते हैं। और वे सभी अलग-अलग दिखते हैं: सीधा, टेढ़ा, लंबा, मोटा, पतला, खतना किया हुआ, बिना खतना के। इनमें से कोई किसी अन्य से बेहतर नहीं होता है। लिंग किसी भी एक तरफ़ झुका या तिरछा हो सकता है।