Girl with a broken heart
Shutterstock / Creativa Images

एक टूटे दिल को कैसे जोड़े : नयी खोज

द्वारा Sarah Moses अप्रैल 5, 10:39 बजे
एक टूटे रिश्ते से उबरने के लिए क्या करना चाहिए? शायद अपने साथी को भूलने की कोशिश करनी चाहिए? लेकिन अगर एक शोध की माने तो यह सही तरीका नहीं है।

किसी प्यार भरे रिश्ते का अंत होना किसी के लिए भी सुखद अनुभव नहीं हो सकता। ऐसे में मनोवैज्ञानिक तनाव, भावुक और निराश होना बेहद आम बात है।

तो क्या इलाज़ है एक टूटे दिल को जोड़ने का? क्या अपने साथी और उसके साथ बिताये हुए लम्हों को भूल जाना ही सर्वोत्तम उपाय है? या फिर उनके बारे में सोच कर आगे बढ़ना बेहतर तरीक़ा है?

इस सवाल का ज़वाब ढूँढने के लिए अमेरिकी शोधकर्ताओं ने दिल के मारे 210 विद्यार्थियो को इकाट्ठा किया और उन्हें दो समूह में बाँट दिया। अगले नौ हफ़्तों तक पहले समूह को कुछ सवाल और गतिविधिया दी गयी जिनसे वो अपने खत्म हुए रिश्ते पर प्रकाश डालते थे। ऐसा उन्होंने चार बार किया। दूसरे समूह के लोगों को केवल दो बार बुलाया गया - एक बार शुरू में और एक बार इस कार्यक्रम के अंत में - प्रशनावली भरने के लिए।

शोधकर्ताओं ने विद्याथियों को कई विषयो के आधार पर जाँचा - जैसे अकेलापन, भावनात्मक कष्ट और वो खुद के बारे में क्या सोचते है, चूँकि वो सभी अब एक एकाकी जीवन व्यतीत कर रहे थे। ऐसा शोधकर्ताओं ने यह परखने के लिए किया कि अध्ययन के दौरान विद्यार्थियो में कितना विकास आयाI

अकेले रहना

तो क्या सबसे सही काम करता है? सब भूल कर जीवन बिताना? या फ़िर रिश्ते पर गौर करते हुए आगे बढ़ना?

अगर इस शोध की माने तो समय समय पर बीते रिश्ते के बारे में सोचना एक बेहतर तरीका है अपने टूटे दिल को जोड़ने का। इसमें कोई शक़ नहीं है कि पहले समूह के विद्यार्थी ज़्यादा असानी से पुराने रिश्ते को भूल पाने में सफ़ल रहे।

वो क्या था जो आगे बढ़ने में इन दिल टूटे विद्यार्थियो का सहायक बना? "एकाकी जीवन बिताते हुए आत्मचिंतन करने से शायद इन्हें यह पता चल गया कि इनका सच्चा व्यक्तित्व कैसा है और यह अपने आप से और ज़्यादा करीब आ गए", ऐसा कहना है शोधकर्ता ग्रेस लार्सन का। अध्ययन के अंत में पहले समूह के लोगों को इस बात का अंदाजा ज़्यादा था कि उनके साथी के बिना उनकी असली पहचान क्या है।

लेकिन इसका एक और कारण भी हो सकता है। जब भी पहले समूह के लोग शोध के लिए आते थे तो गुप्त रूप से अपने टूटे हुए रिश्ते के बारे में एक स्वर-अभिलेख के अंदर अपने विचार प्रकट करते थे। हो सकता है कि अपने भावो को लगातार व्यक्त करने से भी उनको फायदा हुआ हो।

प्यारी डायरी

इसमें कोई दो राय नहीं की एक शोध के दौरान, स्वर-अभिलेख के अंदर अपने भाव व्यक्त करने का मौक़ा सबको नहीं मिल सकता। लेकिन इसके लिए डायरी का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। अपनी भावनाओ का वर्णन अगर लिखकर किया जाये तो भी काफी सहायक होता है और यह रणनीति जीवन के कई दुखद घटनाक्रमो,जैसे एक रिश्ते के टूटने, में बेहद कारगर साबित हो चुकी है।

तो अगर आप को पुराने रिश्ते भूलने में मुश्किलो का सामना करना पड़ रहा है तो कुछ समय निकालकर अपने गहरे से गहरे विचारो का अपनी डायरी में उल्लेख करे। यह पुराने साथी और रिश्ते को भूलने का एक तारीका हो सकता है।

लार्सन भी इसी बात की ओर इशारा करती है : "एक व्यक्ति अपने रिश्ते से जुड़ीं भावनाओँ और उसके टूटने के बाद हुई प्रतिक्रियाओं पर साप्ताहिक नज़र डाल सकता है और उनकी तस्दीक एक रोजनामचे में कर सकता है"। एक और बात जो वो कहती है वो यह है कि आप अपने सम्बन्ध-विच्छेद के बारे में नियमित रूप से इस तरह से लिख सकते है जैसे कि एक अजनबी से चर्चा कर रहे हो।

स्रोत: Participating in Research on Romantic Breakups Promotes Emotional Recovery via Changes in Self-Concept Clarity, Grace M. Larson, David A. Sbarra

आपके नज़रिये में एक टूटे रिश्ते से उबरने के लिए सबसे अच्छा तरीक़ा क्या है ? अपने विचार नीचे बांटे या फेसबुक के ज़रिये हमें बतायें।

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>