गर्भवती होने के बारे में अनिश्चितता

All stories

गर्भपात कर उन पर एहसान किया

गर्भावस्था
कोमल 15 साल की थी जब वह गर्भवती हुई। उसकी माँ की धारणा थी कि अविवाहित, 18 साल से कम उम्र की लड़कियों के लिए गर्भपात अवैध है, इसलिए वह सरकारी अस्पताल नहीं गई। इसके बजाय, उसने अपनी बेटी के गर्भपात के लिए एक महंगे डॉक्टर को चुना और उसे एक बड़ा कर्ज लेना पड़ा। उसका परिवार अब हमेशा के लिए भारी कर्ज में है और इस कर्ज को चुकाने के लिए उन्हें शायद जीवन भर काम करना पड़ेगा।

परिवार में रेप

गर्भावस्था
ऋतु के परिवार के सदस्य ने उसका रेप किया, जिसके बाद उसे गर्भपात कराना पड़ा, लेकिन बिहार में बतौर एएनएम का काम कर रही रानी के अनुसार स्थिति और भी ज्यादा गंभीर हो सकती है। रानी लव मैटर्स के साथ ऋतु की कहानी साझा कर रही हैं।

'इतनी कम उम्र में वह प्रेगनेंट कैसे हो सकती है'

गर्भावस्था
बिहार के एक छोटे से गांव की रहने वाली 12 साल की नैना का दो महीने से एसिडिटी और गैस का इलाज चल रहा था, जबकि मामला कुछ और था। गांव के किसी डॉक्टर ने सोचा भी नहीं होगा कि वह इतनी कम उम्र में प्रेगनेंट हो सकती है। स्थानीय एएनएम रानी ने लव मैटर्स इंडिया के साथ नैना की कहानी शेयर की।

‘यह तो गैर कानूनी है’

गर्भावस्था
भारत का संशोधित गर्भपात कानून भारत में महिलाओं को बिना शादी के अबॉरशन करवाने को रज़ामंदी दे दी है, लेकिन क्या यह बात हमारे देश में आज भी सब को पता है? खस्सकार उनको जो इस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं - जैसे की आशा दीदी, आंगनवाड़ी के कर्मचारी और अन्य लोग जो की सरकारी असपताल में हैं? आज भी जब कोई अनब्याही लड़की अबॉरशन करवाने आती है, तो उसको यह कह दिया जाता है की यह गैर कानूनी है। बिहार के एक छोटे से गांव की 18 साल के सोनम जब हाल ही में वहां अबॉरशन करवाने गयी तो यही हुआ उसके साथ भी। आईये यह कहानी पढ़ते हैं।

'क्या तुम चाहती हो कि पूरे गांव को पता लग जाए?'

गर्भावस्था
गांव में रहने वाली एक नाबालिग लड़की का उसके माता-पिता द्वारा बिना किसी डॉक्टर की देखरेख में जबरन गर्भपात करा दिया गया। अमूमन गांवों में रहने वाले लोगों को गर्भपात से जुड़ी जानकारी नहीं होती है। बिहार के ग्रामीण हिस्से में रहने वाली सरिता की उम्र 14 साल है, जिसे एक सरकारी अस्पताल में गर्भपात नहीं कराने दिया गया क्योंकि आशा दीदी का कहना था कि गर्भपात गैर-कानूनी प्रक्रिया है।

भारत में सुरक्षित गर्भपात तक पहुंच अभी कोसों दूर

गर्भवती होने के बारे में अनिश्चितता
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, भारत में दो तिहाई गर्भपात अनधिकृत स्वास्थ्य सेवाओं द्वारा किए जाते हैं। स्त्री रोग विशेषज्ञ किरण कुर्तकोटी का कहना है कि आधिकारिक क्लीनिकों से महिलाएं मुफ्त, सुरक्षित गर्भपात करवा सकती हैं, लेकिन हमारे आसपास ऐसे क्लिनिक ही बहुत कम हैं।

क्या अबॉर्शन पाप है?

गर्भावस्था
हेलो आंटी जी, मैं बहुत असमंजस में हूँ। क्या अबॉर्शन एक बच्चे को जान से मारने जैसा है? क्या बच्चे को दर्द नहीं होता? उसकी भी तो धड़कन होती है, है ना? तो फिर क्या यह पाप नहीं है? मान्या, दिल्ली।

'डॉक्टर मुझे गलत तो नहीं समझेगा क्यूंकि मेरी शादी नहीं हुई?'

गर्भावस्था
अगर आपको कल गर्भ समापन/अबॉर्शन के लिए जाना पड़े, तो आपके दिमाग में सब से पहले क्या ख्याल आएगा? लव मैटर्स इंडिया ने यह सवाल भारत के कुछ युवाओं से पूछा। यहां जानिए उन्होंने क्या कहा …