medical check
© Love Matters

ट्राइकोमोनिएसिस

ट्राइकोमोनिएसिस को ‘ट्रिक’ के नाम से भी जाना जाता है। यह यौनसंचारित रोग, महिलाओं एवं पुरुषों, दोनों को ही प्रभावित करता है लेकिन महिलाओं में इनके लक्षण दिखने की संभावना अधिक होती है।

बहुत कम मामलों में ट्रिक का इलाज नहीं करने पर महिलाओं में बांझपन हो सकता है।

यदि आप ट्रिक से संक्रमित हो जाते हैं तो इसका इलाज आसानी से किया जा सकता है, यदि महिलाओं का इलाज न कराया जाए तो कुछ एक मामलों में वे इसके कारण प्रजनन में असमर्थ हो सकती है।

ट्राइकोमोनिएसिस कैसे होता है?

असुरक्षित योनि मैथुन (लिंग से योनि में, भग से भग में) करने से ट्रिक हो सकता है।

इसका अर्थ यह है कि महिला को किसी संक्रमित शरीर या महिला से ट्रिक लग सकता है। और शरीर को यह केवल संक्रमित महिला से लग सकता है।

मुख या गुदा मैथुन करने से आपको ट्रिक नहीं होता।

ट्राइकोमोनिएसिस से कैसे बच सकते हैं?

1. हमेशा कंडोम का प्रयाग करें।

2. जब आपको असामान्य स्राव, घाव या पेषाब करते समय दर्द होता हो तो ट्रिक एवं अन्य यौनसंचारित रोगों की जांच कराएं।

इन लक्षणों से पता चलता है कि कुछ न कुछ गड़बड़ है। साथ ही अपने साथी को इनके बारे में बताएं जिससे वह भी जांच करा सकें और इलाज करा सकें। वरना आप अनचाहे दुबारा संक्रमित हो सकते हैं।

3. यदि आप महिला हैं, तो पैप स्मीयर जांच (कोशिकाओं में बदलाव का पता लगाने के लिए की जाने वाली जांच) से पहले ट्रिक की जांच कराएं।

ट्राइकोमोनिएसिस के लक्षण क्या हैं?

अधिकांश लोगों में ट्राइकोमोनिएसिस संक्रमण-जिसे आम तौर पर ट्रिक के नाम से जाना जाता है, के कोई लक्षण नज़र नहीं आते हैं। महिलाओं की अपेक्षा अक्सर पुरुषों में कोई लक्षण नहीं दिखते।

यदि आपको ट्राइकोमोनिएसिस हुआ है, तो आम तौर पर संक्रमित होने के एक हफ्ते के भीतर लक्षण नज़र आ जाते हैं।

महिलाओं में ट्राइकोमोनिएसिस, योनि, मूत्र नली, मूत्राषय और गर्भग्रीवा को संक्रमित करता है। पुरुषों में यह केवल मूत्र नली और लिंग की आगे की चमड़ी के नीचे के हिस्से को संक्रमित करता है।

महिलाओं में ट्राइकोमोनियासिस होने के लक्षण हैं:

  • योनि से पीला-हरा या दूधिया रंग का स्राव
  • योनि से तेज बदबू
  • पेशाब करते समय दर्द
  • सेक्स करते समय दर्द
  • योनि में खुजली
  • भग और भगोष्ठ में सूजन

कभी-कभार आपके मासिक धर्म के समय ये लक्षण और भी खराब हो सकते हैं। ऐसा कम होता है कि ट्रिक अपने-आप ठीक हो जाए। इसलिए यदि आपको इसके लक्षण नज़र आते हैं, तो इसका इलाज कराएं। साथ ही इसके बारे में अपने साथी को भी बताएं जिससे वह भी जाकर इसकी जांच करा सकें और इसका इलाज करा सकें।

यदि आप एक महिला हैं और इसका इलाज नहीं कराती हैं, तो क्या होता है?
यदि आप इलाज नहीं कराती हैं, तो एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित सेक्स करने पर आपको एचआईवी होने का जोखिम बढ़ जाता है। यदि आप गर्भवती हैं, तो आपकी समय से पहले या कम वज़न वाले बच्चे को जन्म देने की संभावना अधिक रहती हैं।

पुरुषों में ट्राइकोमोनिएसिस होने के लक्षण हैंः

  • लिंग से स्राव, अक्सर सुबह पहली बार पेषाब करते समय
  • लिंग के मुंड या मूत्र द्वार के आस-पास खुजली
  • पेशाब करते समय दर्दऐसा कम होता है कि ट्रिक अपने-आप ठीक हो जाए। इसलिए यदि आपको इसके लक्षण नज़र आते हैं तो इसका इलाज कराएं।

ट्रिक की जांच कैसे कराएं?

महिलाओं के मामले में, डाक्टर आपकी योनि के अंदर से सैम्पल ले सकती है या आपको अपनी पेशाब का सैम्पल देने को कह सकती हैं। नियमित सरवाइकल स्मियर या सरवाइकल कैंसर के लिए पैप टेस्ट कराते समय भी आप ट्रिक की जांच करने को कह सकती हैं। चूंकि आम तौर पर पैप के साथ यह जांच नहीं की जाती है, इसलिए आपको इसके लिए खास तौर पर कहना पड़ेगा।

पुरुषों के मामले में, स्वास्थ्य कर्मी या डाक्टर, ट्रिक की जांच के लिए आपकी मूत्र नली से ट्रिक की जांच के लिए तरल का सैम्पल ले सकते हैं है या आपसे अपनी पेशाब का सैम्पल देने के लिए कह सकते हैं।

 

ट्राइकोमोनिएसिस से छुटकारा कैसे पाएं?

खाने वाली ऐंटीबायोटिक दवाओं की एक खुराक लेने से आप ट्रिक से छुटकारा पा सकते हैं।

अक्सर मेट्रोनिडाजोल या टाइनिडाजोल ऐंटीबायोटिक्स लेने की सलाह दी जाती है।  कुछ मामलों में आपको संक्रमण हटाने के लिए ऐंटीबायोटिक्स की अधिक खुराकें लेने की सलाह दी जाती है।

दुबारा संक्रमण होने से बचने के लिए यह ज़रूरी है कि आप और आपके साथी दोनों ही ट्रिक की जांच कराएं और उसका इलाज कराएं।

जब तक आप और आपके साथी का इलाज पूरा नहीं हो जाता है, और संक्रमण के लक्षण दूर नहीं हो जाते हैं, आपको सेक्स नहीं करने की सलाह दी जाती है।
ऐंटीबायोटिक्स के प्रतिकूल असर से बचने के लिए इलाज के दौरान आपको शराब न पीने की सलाह भी दी जाती है।

Comments
Add new comment

Comment

  • Allowed HTML tags: <a href hreflang>