A hindu lesbian wedding
Anita Chedi

"मुझे हिन्दू समलैंगिक (लेस्बियन) शादी चाहिए"

द्वारा Aletta Andre अगस्त 12, 11:03 पूर्वान्ह
अनीता छेदी अपनी गर्ल फ्रेंड के साथ शादी करना चाहती है।सौभाग्यवश अब वो नेथेरलैंड में रहती है, जहाँ समलैंगिक शादियाँ वैध्य हैं। लेकिन एक अलग प्रोब्लम है: अनीता हिन्दू शादी चाहती है।

भारत में वो कुछ ऐसे समलैंगिक युगलों को जानती हैं जिन्होने मंदिर में शादियाँ करी हैं, हालाँकि एक-लिंगी लोग कानूनन शादी नहीं कर सकते। हैरानियत की बात यह है की नेथेरलैंड में उन्हें कोई भी ऐसा खुले विचारों वाला पंडित नहीं मिल पाया है जो समलैंगिक शादी करवाए।

"जब मैं बच्ची थी, तो मैं खुद अपने आप को स्वीकारने से डरती थी,: ऐसा अनीता कहती हैं, यह समझते हुए की उसके लिए अपनी गर्ल फ्रेंड एंजेला से शादी करना इतना ज़रूरी क्यूँ है। "मुझे कुत्ते से भी ज़्यादा बुरा लगता था अपने बारे में। मैं सोच भी नहीं सकती थी की मेरी ज़िन्दगी ऐसी होगी जैसी की अब है। आज मैं जैसा चाहती हूँ वैसे रहती हूँ, और जिस लड़की से प्यार करती हूँ उसके साथ रहती हूँ। तो अब मैं एक हिन्दू शादी के बारे में क्यूँ नहीं सोच सकती?"

अनीता (33 ) एक भारतीय लड़की है जो सूरीनाम की है, जो की साउथ अमेरिका में पहले डच कॉलोनी रह चुकी है। सूरीनाम में काफी भारतीय लोग रहते हैं। अनीता वर्ष 2000 में नेथेरलैंड आई थी, यह तभी की बात है जब वहां पर पहली समलैंगिक शादी हुई थी। और वो यहाँ यह सोच कर आई थी की यहाँ शायद उसे और आज़ाद ख्यालों वाला माहौल रहने को मिलेंगा। लेकिन उसको खुद अपनी प्रजातीय लोगों से निराशा हुई। "मुझे जो कोई भारतीय मिलता, वो मेरे ख्यालों के विरुद्ध था", उसका कहना है।

शिव: आधे नारी, आधे पुरुष

कुछ भारतीय - सूरीनामी लोगों के लिए, समलैंगिक शादियों के विरुद्ध जाना उनके धर्म के अनुकूल है, लेकिन अनीता के लिए, हिन्दू धर्म उसकी ताकत और प्रेरणा का स्रोत है।

"क्या आपने भगवान् शिव की प्रतिमा देखी है, जो की आधी पुरुष और आधी नारी के रूप में होती है?" अनीता पूछती हैं। "वो मेरे भगवान् है"। जो लोग विरोध करते हैं वो असल में डरते हैं, क्यूंकि उन्हें और कुछ आता ही नहीं है।"

नेथेरलैंड में आने के बाद कुछ सालों तक, उसको काफी मुश्किल हुई अपने परिपेक्ष्य से मिलते जुलते किसी और लेस्बियन से मिलने में।

"जिन पार्टियों में में जाती थी वहां अधिकतर गोरे लोग ही होते थे और वो भी अधिकतर पुरुष। और जब मैंने एक भारतीय दिखने वाली महिला को देखा और उसकी तरफ मुस्कुरायी तो उसने ऐसे मुहं फेर लिया जैसे की उसे मुझसे बात करने में शर्मिंदगी महसूस हो जाएगी। भारतीय समुदाय यहाँ नेथेरलैंड में छोटा सा है, और आपको पता ही नहीं है की आप किस पर भरोसा कर सकते हैं।"

अपनी बेटी को स्वीकारना

यह विश्वास करना मुश्किल हो जाता है की कभी यह हंसती, मुस्कुराती महिला ने आत्महत्या करने की भी कोशिश करी थी क्यूंकि वो अपने आप से बहुत नाखुश थी। जब उन्हें पहली बार पता चला की अनीता समलैंगिक (लेस्बियन) है, तो उसके माता-पिता को बहुत शर्मिंदगी हुई। लेकिन उसके बढ़ते डिप्रेशन के बाद उन्होने फैसला लिया की पूरे परिवार समेत वो नेथेरलैंड आ जायेंगे।

शुरुवात में यह पूरा अनुभव बहुत भावनात्मक था। "मैं एक ऐसे समाज में बड़ी हुई थी जहाँ महिलाओं को बेकार समझा जाता है और उस पर भी मेरा समलैंगिक होना जैसे बहुत बड़ा अपराध था। नेथेरलैंड आ जाने के बाद, मेरी एक और मुश्किल बढ़ गयी - और वो थी एक प्रजातीय अल्पसंख्यक होने की परेशानी।" लेकिन अनीता की ज़िन्दगी में एक बड़ा मोड़ आया और वो एक बहुत जानी-मानी सक्रियतावादी बन गयी इस भेद-भाव के खिलाफ।

मंदिर में शादी

पिछले साल, कुछ स्थानीय हिन्दू पंडितों के साथ मीटिंग के दौरान, अनीता ने अगला कदम उठाया: उसने उनसे पुछा की क्या वो समलैंगिक युगलों की शादी करवाएंगे। उसको हैरानी हुई जानकर की उनमें से एक पंडित ने तो समलैंगिक शादी करवाई भी थी - लेकिन लोगों की नज़रों से परे।

"मुझे विश्वास ही नहीं हुआ की ऐसा भी हुआ था," अनीता ने कहा। मुझे एक पंडित ने बताया की युगल खुद ही इस बात को दबा कर रखना चाहते थे, और वो खुद भी डर और शर्मिंदगी महसूस कर रहे थे।"

एक पूरी पारम्परागत शादी तो मुश्किल है, उसको बताया गया, क्यूंकि हिन्दू धर्म कुछ निश्चित रीति सम्बन्धी पुरुष और महिला के कर्तव्यों की बात करता है। लेकिन उस पंडित ने कहा की वो ख़ुशी ख़ुशी अनीता और एंजेला को आशीर्वाद देकर मंदिर में एक छोटे तरीके से उनकी शादी करवा देगा।

मैं कौन हूँ?

अब अनीता जानती है की यह हो सकता है - यानी उसकी और एंजेला की शादी। लेकिन वो किसी जल्द-बाज़ी में नहीं है। शादी वो अपने परिवार के लिए भी करना चाहती है। हालाँकि अब वो उसकी लैंगिकता समझते हैं, लेकिन उन्हें अभी भी एक हिन्दू शादी की ज़रूरत समझ नहीं आती।

जब सही समय आएगा तो अनीता कहती हैं की वो शादी कर भी लेगी और सबको बता भी देगी। "आखिर यह एक अतिरिक्त स्वीकृति की तरह काम करेगा की मैं वो हूँ जो मैं होना चाहती हूँ और मैं वो कर सकती हूँ जो मैं करना चाहती हूँ।

आपका समलैंगिक शादी के बारे में क्या विचार है? यहाँ लिखिए या फेसबुक पर हो रही चर्चा में भाग लीजिये।

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>