Man cheating on his wife
Shutterstock / Dmitri Ma

लोग क्यों दूसरों को धोखा देते हैं?

द्वारा Sarah Moses दिसंबर 11, 07:48 बजे
अगर किसी ने आपके धोखा दिया है या आपने किसी को धोखा दिया है तो शायद आप जानना चाहते होंगे कि इसके पीछे क्या वजह हो सकती हैI पढ़िए तीन वैज्ञानिक सिद्धांत जो बताते हैं कि हम क्यों धोखा देते हैI

यह तो सभी लोग मानेंगे कि अपने साथी को धोखा देना गलत और हानिकारक हैI फ़िर भी लोगों की ज़िन्दगी में अक्सर ऐसा होता है – जिससे उन्हें बेहद ठेस भी पहुँचती हैI आखिर क्यों कुछ लोगों के लिए अपने साथी के साथ ईमानदार रहना इतना मुश्किल होता है?

चीटिंग पर अध्ययन कर रहे हैं सेक्स विशेषज्ञों की माने तो इसके पीछे तीन सिद्धांत हैं जो इस बात पर प्रकाश डालते हैं कि क्यों लोग ऐसा करते हैंI लव फैकचुली श्रृंखला के लिए बने एक वीडियो में इवोल्यूशनरी बायोलॉजिस्ट डॉ डेविड बराश और अंथ्रोपोलोगिस्ट डॉ हेलेन फिशर चीटिंग के पीछे छिपे सिद्धांत के बारे में बात कर रहे हैंI

मनुष्य प्राकृतिक रूप से धोखेबाज़ होते हैं

डॉ बराश जो "द मिथ ऑफ़ मोनोगैमी: फिडेलिटी एंड इनफिडेलिटी इन एनिमल्स एंड पीपल" नामक किताब के सह-लेखक हैं कहते हैं कि जैविक रूप में बात की जाए तो एक ही साथी के साथ रहना मनुष्यों के लिए कठिन हैI उनका यह भी मानना है कि मनुष्य ऐसे अकेले प्राणी नहीं है और जानवरों में भी एक पत्नीक व्यवहार का शत-प्रतिशत होना बहुत मुश्किल हैI

डॉ बराश का यह भी कहना है कि सिर्फ़ इसलिए कि हमारे लिए ईमानदार रहना प्राकृतिक रूप से मुश्किल है, इसका यह मतलब नहीं कि ईमानदार रहना नामुमकिन हैI जैसे हमारे लिए वायलिन बजाना मुश्किल है लेकिन हम ना सिर्फ़ उसे सीखते हैं बल्कि पारंगत भी हो जाते हैं उसी प्रकार वफादार रहना भी मुमकिन है I हाँ मुश्किल है लेकिन नामुमकिन नहींI

तो अगर मनुष्यों के लिए एक साथी के साथ रहना अप्राकृतिक है तो फ़िर कई साथियों के साथ रहने के पीछे क्या कारण हो सकते हैं? आदमियों की बात करें तो कारण बेहद स्पष्ट हैI विकासवाद के सिद्धांत के अनुसार एक पुरुष जितनी ज़्यादा महिलाओं के साथ सेक्स करता है उसके अपने वंश को आगे बढ़ाने की सम्भावना और ज़्यादा प्रबल होती जाती हैI

औरतों के बारे में बात की जाए तो उनके लिए हर बार धोखा देने के बाद गर्भवती होना शायद उतना लाभकारी नहीं होगा और ना ही एक महिला चाहेगी कि ऐसा होI आखिर बच्चे पैदा करना और उनका पालनपोषण करना कोई आसान काम नहीं हैI लेकिन अगर उसका वर्तमान साथी किसी भी वजह से उसके साथ ना हो तो कम से कम अपने नए साथी से उसे सहारा तो मिल ही सकता है, ऐसा कहती हैं डॉ फिशरI

चीटिंग हमारे वंशाणु में है

लेकिन अगर वफ़ादार रहना हमारे लिए अप्राकृतिक है तो कुछ लोग इसमें बाकियों की तुलना में बेहतर कैसे होते हैं? लव फैकचुली को पेश करने वालो की माने तो इसकी वजह उनका डी एन ए हो सकता हैI चीटिंग के ऊपर गहन अधययन कर रहे शोधकर्ताओं को ऐसे दो वंशाणु मिले हैं जिनका सम्बन्ध धोखेबाज़ी से हैI

डीआरडी4 नाम के पहले वंशाणु का सम्बन्ध होपामाइन नाम के एक हारमोन से है जिसके अंतर्गत आते हैं आनंददायक चीज़े जैसे ओर्गास्म होनाI डीआरडी4 कई प्रकारों में आता है और एक शोध के अनुसार जिन लोगों में यह अधिक मात्रा में होता है, उनके गैर प्रतिबद्ध सेक्स करने की सम्भावना अधिक होती है, फिर चाहे वो अपने साथी को धोखा देने की बात हो या फ़िर बात हो एक रात के रिश्ते बनाने कीI

दूसरा वंशाणु है एवीपीआर1ए और यह वो वजह है जिसकी वजह से महिलाओं को वफादार रहने में परेशानी होती है I

हमारी मस्तिष्क प्रणाली भी एक कारण

चीटिंग से सम्बंधित एक और सिद्धांत के अनुसार हमारे मस्तिष्क में अलग अलग प्रणालियां होती हैं जो सेक्स और रोमांटिक रिश्ते से जुड़ी होती हैंI डॉ फिशर समझाती हैं कि मनुष्यों ने अपने मस्तिष्क के अंदर तीन तरह की प्रणालियों को विकसित कर लिया है जो यौन रूचि, प्यार और अपने साथी से लगाव से सम्बंधित हैंI

वो कहती हैं कि समस्या तब शुरू होती है जब यह तीनो अलग-अलग प्रणालियां एक ही व्यक्ति की ओर निर्देशित नहीं होतीI तो हो सकता है कि सेक्स तो आप उस व्यक्ति के साथ करना चाहते हैं जो आपको रोज़ सुबह कॉफ़ी देता है लेकिन आप गहरा लगाव अपने दीर्घकालिक साथी के साथ महसूस करते हो जिसके साथ आप रोज़ सोते और जागते होI

स्त्रोत: व्हाई डू वी चीट? | लव, फैकचुली

चीटिंग से दुखी हैं? परेशानी साझा करना चाहते हैं? हमारे फोरम जस्ट पूछो का हिस्सा बनेंI

क्या आप इस जानकारी को उपयोगी पाते हैं?

Comments
नई टिप्पणी जोड़ें

Comment

  • अनुमति रखने वाले HTML टैगस: <a href hreflang>