सुखद रिश्ते

हर रिश्ते को सुखद बनाने में मेहनत लगती है, लेकिन सभी रिश्ते समान नहीं होतेI जिस बात से किसी एक व्यक्ति को ख़ुशी मिलती हो, हो सकता है कि किसी और के लिए वो दिल का दर्द होI यहाँ हम बात करेंगे कि कैसे आप अपने रिश्ते को प्रफुल्ल, स्वस्थ और सुखद बनाये रख सकते हैंI

तथ्य

भावनाएं व्यक्त करना

चाहे आप कितने भी बड़े तीसमारखां क्यों ना हो, अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में आपको भी मुश्किल आती होगीI लेकिन अगर आप अपने साथी से अपने दिल की बात कह सकें तो यह आपके रिश्ते के लिए बहुत अच्छा होगाI यहाँ दे रहे हैं कुछ उपयोगी सुझाव जिनसे ना सिर्फ़ अपनी भावनाओं को समझ पाएंगे बल्कि उन्हें व्यक्त भी कर पाएंगे:

संवाद(बोलचाल) का खेल

सेक्स, कंडोम, भावनाओं और इनसे जुड़ी अन्य चीज़ों के बारे में कैसे बात करें अपने साथी से

अपने साथी से कैसे बात करें

हर रिश्ते में उतार-चढ़ाव आते हैंI जब आप किसी के साथ बहुत सारा समय गुज़ारते हैं तो कई बातों को लेकर आपमें अनबन हो सकती हैI यह लड़ाई-झगड़े किसी भी रिश्ते का एक अभिन्न अंग हैI

रिश्तों के प्रकार

दुनिया में कई प्रकार के सम्बन्ध और उनसे जुडी अपेक्षाएं होती हैं। इसका कोई तय फार्मूला नहीं है। जिससे हमें ख़ुशी मिले हो सकता है किसी दूसरे को वही काम सही न लगे। तो अपने रिश्तों को इसी तरह मैनेज करें कि उनमे एक बैलेंस हो।

कैसे पूछें, 'क्या तुम्हे मुझ से प्यार है?'

रिश्तों के मायने अलग लोगों केलिए अलग होते हैं। कुछ लोग सब कुछ अपने प्रेमी/प्रेमिका के साथ ही करना चाहते हैं, कुछ उनके साथ एक ही आंगन में रहना चाहते हैं और कुछ शादी करके जीवन भर के बंधन में बंध जेन कि इच्छा रखते हैं। कुछ लोग ऐसे भी हैं जो साथ रहने कि बजाई दूरियों में भी रिश्ता चलाकर खुश रहते हैं।