18 + के लिए उचित

किशोरावस्था

Adolescent boy
किशोरावस्था वह समय है जब आप बच्चे से वयस्क बनते हैं। यही वह समय है जब आपका शरीर यौनिक रूप से भी वयस्क (परिपक्व) हो जाता है।

अधिकांश लड़के पाते हैं कि उनके शरीर में लगभग 9 से 15 साल की उम्र में बदलाव आने शुरु हो जाते हैं। कुछ लड़कों में किशोरावस्था दूसरे लड़कों से जल्दी शुरु होती है और जल्दी पूरी हो जाती है।

आपके शरीर में बाहरी बदलाव आने शुरु होते हैं। शुरु में आपका कद तेज़ी से बढ़ता है अर्थात् थोड़े दिनों में ही आपकी लम्बाई बढ़ जाती है। कभी-कभार इस कद बढ़ने से पहले आप का वजन भी बढ़ सकता है।

हार्मोन्स 

किशोरावस्था में, आपकी आवाज़ भारी (गंभीर) हो जाती है, आपकी मांसपेशियां मज़बूत हो जाती हैं और कंधे चैड़े हो जाते हैं। आपके चेहरे, कांखों या बगलों में और जाघों के बीच बाल उगने लगते हैं। आपको पसीना अधिक आने लगता है और शरीर से गंध आती है। आपके चेहरे पर धब्बे या मुहांसे भी निकल सकते हैं।

ये सभी बदलाव आम बात है, और ये हार्मोन्स के कारण होते हैं। आपके खान-पान, वंशावली (माता-पिता से प्राप्त गुणों) और जातीय (एथ्निक जैसे भारतीय, अफ्रीकी, चीनी और अन्य) पृष्ठभूमि के कारण भी इनपर असर पड़ सकता है।

आम तौर पर किशोरावस्था 18 या 19 वर्ष की उम्र तक समाप्त हो जाती है, तब तक आपका शरीर एक वयस्क शरीर में बदल चुका होता है।

पुरुषों में किशोरावस्था