18 + के लिए उचित

सेक्स करना मज़ेदार ही नहीं इससे स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है

Sex is good for your health
काम में तनाव बढ़ने की वजह से रेशमी का जीवन प्रभावित होने लगा था। उसका स्वास्थ्य भी बिगड़ता जा रहा था। पढ़िए कैसे सेक्स की बदौलत उसने अपनी ज़िंदगी को दोबारा खुशनुमा बनाया।

32 वर्षीय रेशमी चंडीगढ़ में रहती है और एक बैंक में कार्यरत है।

काम काम काम

रेशमी इस समय अपने कैरियर की बुलुन्दी पर है। वो मेहनती होने के साथ-साथ बेहद समझदार भी है। वो अपने बैंक में वित्तीय सलाहकार के पद पर काम करती है। अपने काम में बेहद पारंगत होने की वजह से सभी लोग उसे बेहद पसंद करते हैं और उसी से सलाह लेना चाहते हैं।

हालाँकि, दो महीने पहले की कहानी कुछ और ही थीI जैसे-जैसे काम का तनाव बड़ रहा था रेशमी के लिए अपने स्वास्थ्य और शादीशुदा ज़िंदगी का ध्यान रखना मुश्किल होता जा रहा थाI वो देर रात काम में व्यस्त रहती थी और कई बार सुबह भी जल्दी निकल जाती थीI ऐसे में उसके पति, आदित्य की झुंझलाहट भी बढ़ती जा रही थीI

लंबी बीमारी

रेशमी और आदित्या के शादी को अभी तीन साल ही हुए थे लेकिन दिन प्रतिदिन उन दोनों का बाहर घूमने जाना, एक दूसरे के साथ छुट्टियां बिताना और डेट पर जाना कम होता है रहा थाI बेचारी रेशमी हर समय काम और घर के बीच में संतुलन बनाने के चक्कर में भागती नज़र आती थीI सेक्स तो जैसे ईद का चाँद हो चुका थाI पूरे दिन की भाग दौड़ के बाद घर पहुँचते-पहुँचते उसकी सारी शक्ति ख़त्म हो जाती थी और सेक्स का तो उसके मन में ख्याल तक नहीं आता थाI

इस सब का प्रभाव भी अब उसके चेहरे पर झलकने लगा थाI नींद कम होने की वजह से उसका रक्तचाप बढ़ता जा रहा था और आँखों की नीचे के काले घेरे भीI उसे अपने आपको शीशे में देखने पर भी डर लगने लगा थाI वो बार-बार बीमार रहती थी, कभी बुखार, कभी खांसी तो कभी ज़ुखामI ऐसे में ऑफिस में भी बार-बार छुट्टी लेनी पड़ती थीI

पुरानी दोस्त

एक शनिवार आदित्या को काम के सिलसिले में बहार जाना पड़ाI रेशमी को लगा यह अच्छा मौक़ा है कुछ अलग करने काI उसने अपनी कॉलेज की दोस्त अपर्णा से मिलने का निर्णय कियाI अपर्णा पेशे से एक नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक है। वो लोगो को योग भी सिखाती है और उसके साथ-साथ एक ब्लॉगर और एक भावुक संगीतकार भी है।

एक ही शहर में रहने के बावजूद वो दो सालों के बाद मिल रहे थेI अपर्णा से थोड़ी देर की बातचीत के बाद ही रेशमी को अंदाज़ा हो गया था की वो अपनी ज़िन्दगी में बेहद मज़े में हैंI उसने अपने काम और निजी ज़िंदगी के बीच में इतना गज़ब का संतुलन बनाया हुआ था कि रेशमी को विश्वास नहीं हो पा रहा थाI वापसी के रास्ते में रेशमी को एहसास हुआ कि उसने और आदित्या ने कई महीनों से साथ में समय नहीं बिताया थाI ना तो कोई नयी फिल्म देखी और ना ही घर में कुछ सुकून के पल बिताये थेI और सेक्स? उसके बारे में तो शायद वो दोनों भूल ही गए थे, या शायद वो भूल गयी थी और आदित्या को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा थाI

अपर्णा के साथ बात करने से मानो उसकी आँखें खुल गयी थीI अपर्णा ने उसे यह भी बताया था कि नियमित रूप से सेक्स करने से स्वास्थ्य भी ठीक रहता हैI अपर्णा ने उसे और भी कई बातें बताई थी और एक होनहार विद्यार्थी की तरह रेशमी ने वो सब बातें अपने दिमाग में अच्छे से बिठा ली थीI

सेक्स से जुड़े इतने सारे फायदे देखने के बाद रेशमी अब एक पल भी नहीं बर्बाद करना चाहती थीI जब आदित्या अपने टूर से घर वापस लौटा तो ना सिर्फ़ उसे अपनी पुराणी रेशमी वापस मिल गयी थी बल्कि उसके जीवन में मोमबत्ती की रोशनी में डिनर और रोमांटिक शामों का सिलसिला भी दोबारा शुरू हो चुका थाI

सभी नाम बदल दिए गए हैंI

क्या तनाव के चलते आपकी भी सेक्स में रूचि कम हो गयी थी? आपने उसे कैसे दोबारा हासिल किया? अपने विचार नीचे लिखें या फेसबुक के ज़रिये हमसे संपर्क करेंI अगर आपके मन में कोई निजी सवाल हो तो हमारे चर्चा मंच का हिस्सा बनेंI