18 + के लिए उचित

मुझे मेरी भाभी से प्यार हो गया है

Auntyji Love Matters
आंटी जी मेरे भाई की दो साल पहले शादी हुई थी और मेरी भाभी ने मुझे दीवाना बना दिया हैI समझ नहीं आ रहा कि क्या करूँ? बड़ी बेचैनी रहती हैI सैम (23), अजमेरI

आंटी जी कहती हैं...सैम बेटा - थोड़ी ठण्ड रख पुत्तर और ध्यान से मेरी बात सुन, ऐसे बौखलाने से कुछ नहीं होगाI

एक बार फिर सोच ले

एक गहरी सांस ले पुत्तर और ध्यान से सोच कि कहीं तुझे कोई गलतफहमी तो नहीं हो गयी हैI तेरी भाभी तेरी हमउम्र है और तेरी दोस्त की तरह है, तेरी गर्लफ्रेंड की तरह नहींI

बेटा वो एक नए घर में अपने लिए जगह बनाने की कोशिश कर रही है ना कि तेरी ज़िंदगी मेंI 

नज़दीकियों का मतलब प्यार नहीं है

पहले मैनु इक गल दस् पुत्तरI तुझे क्यों लगता है कि वो भी तुझसे प्यार करती है? क्या उसने तुझसे ऐसा कुछ कहा? क्या उसने ऐसा कुछ किया? क्या उसे तेरी भावनाओं के बारे में ज़रा भी अंदाज़ा है? अगर इस हर सवाल का जवाब ना है, तो मैं कहूंगी कि तू ख्याली पुलाव पकाना बंद करI

मैं समझ सकती हूँ कि तुम दोनों की आपस में अच्छी पटती होगीI कुछ देवर-भाभी वाले मज़ाक भी होते होंगे लेकिन पुत्तर यह तो बड़ा आम हैI इसका यह मतलब थोड़ी है कि तू अपनी भाभी के साथ अपने रिश्ते के बारे में सोचना शुरू कर देI

बेटा इस हंसी-मज़ाक और ठिठोली को जीवन भर का प्यार मत समझI उसे एक पराये घर में एक नया दोस्त मिल गया है जिसके साथ वो सहज महसूस करती है बसI उसकी दोस्ती पर कोई आंच ना आने देना पुत्तरI

बेटा जी एक परिवार के अंदर सेक्स और प्यार का मतलब - ऐ दिल है मुश्किलI

बड़ा नाज़ुक रिश्ता है

सदियों से हम अपने समाज में और फिल्मो में भी देवर-भाभी के रिश्तों के बारे में सुनते आए रहे हैंI क्या ऐसा होता है-शायद हाँI क्या ऐसा होना चाहिए? हाँ अगर वो रिश्ता एक सीमा में रहे और अपनी हदें ना भूलेंI तो पुत्तर समझ गया ना? अगर हदें पार हो गयी तो बड़ी गड़बड़ हो जाएगीI मैं आशा करती हूँ कि इतना तो तू भी समझता होगाI

चल इसके दूसरे पहलु पर भी एक नज़र डालते हैंI मान लिया कि उसके मन में भी तेरे लिए प्यार का बीज पैदा हो गया हैI तुम दोनों अब एक रिश्ते में हो और एक दूसरे से बेइंतेहा मुहब्बत भी करने लगे होI लेकिन जब तुम्हारे परिवारों को पता चलेगा तब क्या होगा? सारा दोष किसको दिया जाएगा? किसको परिवार से निकला जाएगा?

तेरा खुद का परिवार तेरी भाभी को उसके घर भेज देगा और हो सकता है कि उसे परेशान भी करना शुरू कर देI क्या इतना जोखिम उठाना ठीक है पुत्तर? और तेरे भाई का क्या? क्या यह सब होने के बाद तू कभी भी उसकी नज़रों में आँख डालकर बात कर सकेगा?

ना पुत्तर ना

मुझे माफ़ कर दे पुत्तर लेकिन तेरी आंटी जी इसमें तेरा कोई साथ नहीं दे सकतीI मेरी नज़र से देखेगा तो तू भी जान जाएगा कि यह रिश्ता हर लिहाज से गलत हैI अपनी भावनाओं पर काबू रख और अगर तेरी भाभी के मन में भी ऐसा कुछ है तो उसे भी समझाI

तुम दोनों अच्छे दोस्त हो, और उससे बढ़कर कुछ नहीं हो सकतेI थोड़े दिन के लिए कहीं बाहर चला जा और उसे अपने लिए खुद जगह बनाने देI इससे तुझे भी चीज़ो को देखने और समझने का एक नया नज़रिया मिलेगाI

पुत्तर इससे पहले यह आग और भभके इस पर पानी डाल देI

लेखक की गोपनीयता बनाये रखने के लिए तस्वीर में एक मॉडल का इस्तेमाल किया गया हैI

क्या कभी आपके साथ भी ऐसा कुछ हुआ है कि अपने परिवार के ही एक सदस्य पर आपका दिल आ गया हो? अपनी कहानी नीचे लिखकर या फेसबुक के ज़रिये हम तक पहुंचाएI अगर आपके मन में कोई सवाल हो तो हमारे चर्चा मंच जस्ट पूछो का हिस्सा बनेंI